न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

1700 करोड़ का प्रोजेक्ट चार साल में पूरा नहीं, अब वर्ल्ड बैंक से लोन लेकर बनेंगे 25 ग्रिड, 2600 करोड़ का है प्रोजेक्ट

झारखंड में अब ट्रांसमिशन लाइन और ग्रिड के लिए 8400 करोड़ का प्रोजेक्ट, बनेंगे 57 ग्रिड और ट्रांसमिशन लाइन

131

Ranchi: प्रदेश में बिजली की दशा और दिशा सुधारने के लिये ट्रांसमिशन लाइन और ग्रिड निर्माण के लिए पीजीसीआइएल के साथ जून 2014 में करार हुआ था. करार के मुताबिक दिसंबर 2015 तक 19 ट्रांसमिशन लाइन और 10 ग्रिड का निर्माण कार्य पूरा करना था. करार की मियाद पूरी होने के बावजूद भी काम पूरा नहीं हुआ. इसके बाद पीजीसीआइएल को कई बार अवधि विस्तार भी दिया गया. अब अगले साल ट्रांसमिशन लाइन को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. अब तक पांच ट्रांसमिशन लाइन और तीन ग्रिड का निर्माण अधर में लटका हुआ है.

इसे भी पढ़ेंःचार माह में रिकॉर्ड 413 अफसर बदले, 40 IAS भी इधर से उधर, हर दिन औसतन दो ऑफिसर का हुआ ट्रांसफर

390 करोड़ का अतिरिक्त बोझ

तय समय पर काम नहीं होने के कारण प्रोजेक्ट कॉस्ट भी बढ़ता चला गया. करार के वक्त यह प्रोजेक्ट 1310 करोड़ का था. अब यह बढ़कर 1700 करोड़ रुपये का हो गया है. इस हिसाब से 390 करोड़ का अतिरिक्त भार राज्य सरकार पर पड़ा है. पीजीसीआइएल को अब तक काम के एवज में लगभग 1200 करोड़ रुपये का भुगतान भी कर दिया गया है. करार के वक्त पीजीसीआइएल को 469 करोड़ रुपये दिये गये थे. इसके बाद जुलाई 2014 में 175 करोड़ रुपये दिये गये. जनवरी 2015 में 50 करोड़ रुपये दिये गये. इसी साल फिर 483 करोड़ रुपये दिये गये.

अब वर्ल्ड बैंक के लोन से 2600 करोड़ का प्रोजेक्ट

अब झारखंड में 25 ग्रिड निर्माण के लिए वर्ल्ड बैंक से लोन लिया जायेगा. यह 2600 करोड़ का प्रोजेक्ट है. इसमें 70 फीसदी लोन वर्ल्ड बैंक देगी. 30 फीसदी राशि राज्य सरकार देगी. इस प्रोजेक्ट के लिए 10 ग्रिड का टेंडर अवार्ड कर दिया गया है. 15 ग्रिड निर्माण के लिये जल्द ही टेंडर निकाला जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःन्यूज विंग ब्रेकिंग: IAS आलोक गोयल का रुका प्रमोशन- दंड तय, 1990…

ग्रिड और संबंधित लाइन के लिए 8300 करोड़ का प्रोजेक्ट

बिजली की दशा सुधारने के लिए अब 8300 करोड़ का प्रोजेक्ट शुरू होगा. इसके तहत डीवीसी कमांड एरिया में 1200 करोड़ की लागत से 13 ग्रिड का निर्माण किया जायेगा. पीपीपी मॉड के तहत 4600 करोड़ से 19 ग्रिड का निर्माण किया जायेगा. वहीं वर्ल्ड बैंक से लोन लेकर 25 ग्रिड बनाया जायेगा. इस प्रोजेक्ट की कुल लागत 2600 करोड़ रुपये है.

इसे भी पढ़ेंःतलाक की अर्जी पर बोले तेजप्रतापः मैं घुट-घुट कर नहीं जीना चाहता

इन लाइनों में है फॉरेस्ट क्लीयरेंस का पेंच

बेड़ो-पतरातू ट्रांसमिशन लाइन
पतरातू-लातेहार ट्रांसमिशन लाइन
लातेहार-एस्सार ट्रांसमिशन लाइन
दुमका-गोविंदपुर ट्रांसमिशन लाइन
गोविंदपुर- टीवीएनएल ट्रांसमिशन लाइन
चतरा-लातेहार ट्रांसमिशन लाइन
गिरिडीह-सरिया
गिरिडीह- जमुआ
खूंटी-तमाड़
बहरागोड़ा-धालधूमगढ़

इसे भी पढ़ेंःपरिवारवाद पर हेमंत ने कहा- शेर का बच्चा क्या कुत्ता पैदा होगा,…

इन ग्रिडों का काम पूरा नहीं

पतरातू ग्रिड
लातेहार ग्रिड
लोहरदगा ग्रिड
ये ग्रिड बन चुके हैं
चतरा, गिरिडीह, जमुआ, खूंटी, चंदनक्यारी, गोविंदपुर,राजमहल और बहरागोड़ा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: