DeogharJharkhandMain Slider

गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे समेत 10 लोगों पर देवघर में धोखाधड़ी का केस

Ranchi/Deoghar: देवघर के नगर थाना क्षेत्र के हनुमान टिकरी किरण पैलेस निवासी शशि कुमार सिंह ने गोड्डा सांसद डॉ निशिकांत दुबे, उनकी पत्नी अनुकांत दुबे, सब रजिस्ट्रार देवघर श्याम कुमार चौबे, डीड राइटर सीताराम पंडित, हल्का कर्मचारी कमल नारायण झा, सुजीत कुमार झा, अमर प्रसाद, अमरेश्वर झा, अंचल निरीक्षक देवाशीष भुई पर न्यायालय में 29 अगस्त को परिवाद दायर किया है. परिवाद में कहा गया है कि उनकी श्यामगंज मौजा की एक बीघा तीन कट्ठा और 11 धूर जमीन की रजिस्ट्री धोखे से करा ली गयी. उस पर पुलिस की मदद से कब्जा भी कर लिया गया.

देखें वीडियो-

इसे भी पढ़ें – जब पत्रकार सत्ता की भाषा बोलने लगें…

शिकायतवाद मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी कमल रंजन की अदालत में दायर कर न्याय की गुहार लगायी गयी है. परिवादी के घरवालों का कहना है कि वह इस जमीन के मालिक हैं. इसका खाता नंबर 240 और जमाबंदी नंबर 7/33 85 है. यह जमीन श्यामगंज मौजा के वार्ड नंबर 10 में है और इस जमीन को शिव धाम के नाम से सभी जानते हैं.

शिकायतकर्ता वीडियो बना कर कर रहा न्याय की गुहार

शिकायतकर्ता शशि कुमार सिंह वीडियो में कह रहे हैं कि उन्होंने यह जमीन 5 दिसंबर 1994 को अपनी पत्नी के नाम पर खरीदी थी. उस जमीन पर बने घर में एक भाड़ेदार रहते थे, जिन्हें अदालत की मदद से खाली कराया गया. कोर्ट ने यह फैसला दिया कि यह जमीन मेरी है.

इसे भी पढ़ें – #NewTrafficRule : भारी जुर्माने पर गडकरी ने कहा, एक्सीडेंट में डेढ़ लाख मौतें हो जाती हैं,  क्या इनकी जान नहीं बचानी चाहिए?

2009 में हुए लोकसभा चुनाव के वक्त मैंने यह घऱ निशिकांत दुबे को किराये पर दिया. यहां बीजेपी का केंद्रीय कार्यालय खोला जाना था. इसके बाद कई बार निशिकांत दुबे ने यह संपत्ति मुझसे खरीदनी चाही. लेकिन मैं तैयार नहीं हुआ. 2014 के चुनाव में मैंने दोबारा उन्हें यह मकान किराये पर दिया. फिर से निशिकांत दुबे ने मुझसे यह संपत्ति खरीदनी चाही, लेकिन मैंने इंकार कर दिया. इस बार संपत्ति लेने के लिए सांसद ने अपना पावर दिखाते हुए 2009 में तत्कालीन सीओ से एलपीसी बनवा लिया.

इस बात की शिकायत मैंने तत्कालीन डीसी राहुल कुमार सिन्हा से की. उन्होंने फौरन सीओ को एलपीसी रद्द करने का आदेश दिया. लेकिन सांसद यहीं नहीं माने. उन्होंने कमल नारायण झा के नाम पर फर्जी कागज तैयार कराया. दोबारा से नये सीओ से 27 अगस्त 2019 को एलपीसी निर्गत कराया. इसी आधार पर 29 अगस्त को निशिकांत दुबे ने रजिस्ट्री करा ली. आगे उन्होंने यह भी कहा कि मुझे डर है कि सांसद अपने पावर का इस्तेमाल करते हुए प्रशासन की मदद से मुझे मेरी संपत्ति से बेदखल न कर दें.

आपको जो मर्जी है छाप देंः निशिकांत दुबे (सांसद)

इस मामले में गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि देवघर न्यायालय में 5000 परिवाद हैं, क्या सभी को छापा है आपने. मेरे ऊपर भी 15 तरह के परिवाद हैं. सभी को छाप दें आप. जिसने परिवाद दायर किया है, उन्होंने एक बार परिवाद जज से माफी मांग कर वापस भी ली है. फिर से उन्होंने परिवाद डाला है. अब आपको जो मर्जी है छाप दें.

इसे भी पढ़ें – #PmModi जनसभा की तैयारी का टेंडर 6 सिंतबर को खुलेगा और प्रभात तारा मैदान में 4 तारीख से शुरू हो गया काम

Related Articles

Back to top button