JamshedpurJharkhandNEWSOpinion

प्रेमप्रकाश के ठिकानों पर दबिश से क्या उसके भूत-वर्तमान आकाओं तक भी पहुंच पायेगा ईडी

Anand Kumar

Ranchi : झारखंड के बहुचर्चित शख्स और पिछली दो सरकारों में सत्ताधारी नेताओं और अधिकारियों के चहेते प्रेम प्रकाश श्रीवास्तव के 17-18 ठिकानों पर बुधवार की सुबह से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी शुरू हो गयी. बिहार के सासाराम, जहां का प्रेम प्रकाश रहनेवाला है और झारखंड की राजधानी रांची समेत तमिलनाडु के चेन्नई और दिल्ली के उसके ठिकाने भी ईडी की छापामारी की जद में हैं. रांची के उसके ठिकाने से दो एके 47 रायफलों के मिलने से सनसनी फैल गयी. बताया जाता है कि जब पिछले महीने ईडी ने तीन-चार दिनों तक पूछताछ करने के बाद प्रेम प्रकाश को छोड़ दिया था, तो उसके हौसले बुलंद हो गये थे. अपना मोबाइल फेंक देने के बाद प्रेम को यह लगने लगा था कि उसके संपर्क सूत्रों और पैसे के स्रोत की जानकारी ईडी को कभी नहीं हो पायेगी, लिहाजा वह दोबारा सक्रिय हो गया था. हाल के हुए कुछ तबादलों में भी उसकी भूमिका रही थी. अब प्रेम प्रकाश के साथ उसके राजनीतिक संरक्षकों और नौकरशाही में उसके संपर्कों में भी दहशत है.

Sanjeevani

इधर जब प्रेम प्रकाश को लग रहा था कि अब उसे कोई खतरा नहीं है, तो उधर ईडी चुपचाप अपने काम में जुटा था. प्रेम के फेंक दिये गये सभी मोबाइल फोन का डिटेल फॉरेंसिक लैब में खंगलवाया गया. वह कंपनी का सिम यूज कर रहा था, उस कंपनी से उसके कॉल डिटेल्स निकलवाये गये और सारी पुख्ता जानकारी के बाद 24 अगस्त को प्रेम के ठिकानों पर दोबारा दबिश शुरू हुई. प्रेम प्रकाश से जुड़े कोयला कारोबारी एमके झा और सुरेंद्र परिवार के चार्टर्ड एकाउंटेंट जयपुरियार के यहां भी एक साथ छापामारी यह बता रहा है कि ईडी के पास इस बार पुख्ता जानकारी और तैयारी है. इधर बतानेवाले अभी बताते हैं कि खनन लीज मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ शिकायत पर चुनाव आयोग की संभावित प्रतिकूल कार्रवाई की स्थिति में “भाभी” को अगला सीएम प्रोजेक्ट करने के पीछे भी प्रेमप्रकाश और उसके साथी ही थे.

बहरहाल प्रेम प्रकाश के खिलाफ अगर ईडी के पास पुख्ता सबूत हैं, तो इससे इस सरकार में उसके आकाओं के साथ-साथ पिछली सरकार में भी उसके सरपरस्त रहे लोगों की सांसें जरूर फूल रही होंगी. विधायक सरयू राय ने बुधवार की सुबह एक के बाद एक तीन ट्वीट कर सबका ध्यान इस ओर खींचने की कोशिश की है. उन्होंने लिखा – “प्रेम प्रकाश को गिरफ्त में लेने के बाद इसके पुराने साथियों, खासकर घोटालेबाज गिरोह के नये-पुराने, सरकारी-गैर सरकारी धंधों में रांची से जमशेदपुर तक नये-पुराने प्रेमियों के बीच समन्वयक की सक्रिय जिम्मेदारी निभाने में गतिशील “चौधरी” के चर्चित कारनामें अब ईडी के संज्ञान में आ जायेंगे. एक अन्य ट्वीट में प्रेम प्रकार पर छापे की जानकारी देते हुए सरयू राय ने लिखा है -बड़ी मिहनत से फॉरेंसिंक विशेषज्ञों ने इसके पुराने मोबाईलों में छुपे आंकड़े निकाले,नये नंबरों को तलाशा,फिर कारवाई की. नये-पुराने प्रेमी सकते में होंगे. लेकिन सवाल है कि क्या जांच एजेंसियों के हाथ प्रेमप्रकाश के संरक्षकों तक भी पहुंचेंगे.

इसे भी पढ़ें – सीएम हेमंत के करीबी प्रेम प्रकाश के ठिकाने से ईडी की छापेमारी में दो AK-47 मिलीं

Related Articles

Back to top button