West Bengal

#WestBengal सरकार भी CAA के खिलाफ पारित करेगी प्रस्ताव, 27 को विधानसभा का विशेष सत्र

Kolkata: नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) पर विपक्षी एकजुटता को लेकर दबाव में आयी पश्चिम बंगाल सरकार भी अब इसके खिलाफ राज्य विधानसभा में प्रस्ताव पारित करने जा रही है.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश पर 27 जनवरी को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है. इसमें सीएए के खिलाफ सर्वदलीय प्रस्ताव पारित किया जायेगा.

दरअसल सोमवार दोपहर को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सिलीगुड़ी रवाना हो रही थीं तब उन्होंने हवाई अड्डे पर मीडिया से बात की थी. उन्होंने वहीं घोषणा की कि आगामी तीन से चार दिनों के अंदर सीएए के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने का निर्णय लिया जायेगा.

Catalyst IAS
ram janam hospital

उसके बाद विधानसभा सूत्रों ने बताया कि आगामी 27 जनवरी को विशेष सत्र बुलाया गया है. उसी दिन दोपहर दो बजे के करीब सर्वदलीय प्रस्ताव पारित किया जायेगा.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

पिछले महीने ही माकपा और कांग्रेस ने सीएए के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पारित करने की मांग की थी लेकिन विधानसभा के शीतकालीन सत्र में सरकार ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया था.

इसे भी पढ़ें : #Big_Tragedy  नगर विकास विभाग में दो सालों से लटकी है कनीय अभियंताओं की नियुक्ति

केरल और पंजाब में पारित हो चुका है प्रस्ताव

उसके पहले केरल में वाम मोर्चा की सरकार ने इस अधिनियम के खिलाफ प्रस्ताव पारित कर दिया था. उसके बाद पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार ने भी इस अधिनियम के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया है.

एक दिन पहले ही दो दिवसीय दौरे पर कोलकाता आये पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने भी इस अधिनियम के खिलाफ चल रहे आंदोलन में एकजुटता जताने के लिए राज्य विधानसभा में प्रस्ताव लाने का सुझाव दिया था.

लोकसभा में कांग्रेस के नेता और मुर्शिदाबाद के बहरामपुर से वरिष्ठ सांसद अधीर रंजन चौधरी भी इसे लेकर लगातार ममता बनर्जी पर हमलावर रहे थे और वह भी मांग कर रहे थे कि अगर ममता सच में सीएए का विरोध करती हैं तो उन्हें राज्य विधानसभा में इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : बिजली संकट : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को क्यों कहना पड़ा- असुविधा के लिए क्षमा मांगता हूं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button