Ranchi

सीएए, एनपीआर और एनआरसी को लेकर सदन में जमकर हंगामा – सीएम को कहना पड़ा सदस्यों ने सदन को बना दिया मछली बाजार

Ranchi : झारखंड विधानसभा का बजट सत्र चल रहा है. सदन में मंगलवार को भी जोरदार हंगामा हुआ. 11.03 मिनट पर सदन की कार्यवाही शुरू हुई. तो सबसे पहले बंधु तर्की ने सीएए का मामला सदन में उठाया.

विधायक बंधु तिर्की ने सरकार से कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर ऐसा वायरस है जो कोरोना वायरस से भी खतरनाक है. और वे सरकार से इसे निरस्त करने की मांग करते हैं.

बंधु तिर्की के इतना कहते ही सदन में बीजेपी विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया. बीजेपी विधायक भानू प्रताप शाही ने कहा कि किसी भी कानून को वायरस कहना निंदनीय है. ये कानून संवैधानिक तौर पर पारित होकर देश में आया है , इसलिए एक विधायक को इसे वायरस कहना अपमानजनक शब्द है और इसके लिए बंधु तिर्की पर कार्रवाई हो.

इसे भी पढ़ें – चार साल से बनकर तैयार ITI भवन हो रहे बर्बाद, अब तक शुरू नहीं हुई पढ़ाई

advt

नवीन जायसवाल ने उठाया मुस्लिम महिलाओं के प्रदर्शन का मामला

वहीं इसी हंगामे के बीच बीजेपी विधायक नवीन जायसवाल ने कडरू में बैठी महिलाओं के बारे में कहा कि, प्रदर्शन की आड़ में वहां उपद्रवी, धर्म विशेष के लोगों को अपना टारगेट बना रहे हैं. और कल रात भी एक बस पर हमला किया गया. इससे आगे उन्होंने कहा कि विरोध-प्रदर्शन करना अच्छी बात है. लेकिन ऐसा करके यातायत बाधित करना गलत है, और इसके लिए इन्हें कहीं और जगह दी जाये.

वहीं सदन में हंगामा थोड़ा शांत ही हुआ था कि बीजेपी विधायक अनंत ओझा ने लोहरदगा में सीएए के समर्थन में की गयी रैली के दौरान हुई हिंसा मामले पर कार्यस्थगन प्रस्ताव लाये. जिसे स्पीकर की ओर से अमान्य कर दिया गया. जिसके विरोध में हंगामा करते हुए 11.13 पर बीजेपी के विधायक वेल में उतर आये.

इसे भी पढ़ें – सुशील श्रीवास्तव हत्याकांड में 21 मार्च को आयेगा फैसला, पांडेय गिरोह का विकास तिवारी है मुख्य आरोपी

प्रदीप यादव ने ली बाबूलाल पर चुटकी

बीजेपी विधायकों के हंगामे और वेल में उतरकर विरोध करने पर विधायक प्रदीप यादव ने बाबूलाल पर चुटकी ली. प्रदीप यादव ने बाबूलाल मरांडी को टारगेट करते हुए कहा कि, बीजेपी की ओर से बाबूलाल ने वादा किया था कि बीजेपी के विधायक वेल में नहीं आयेंगे, जिसपर बीजेपी विधायकों ने जमकर हंगामा शुरू कर दिया.

प्रदीप यादव की सवाल का बाबूलाल ने जवाब में कहा कि, ममैंने नेता प्रतिपक्ष के मामले पर कहा था कि विधायक वेल में आकर हंगामा नहीं करेंगे. लेकिन अन्य मुद्दों पर अपनी मांग जायज तरीके से रख सकते हैं.

सीएम ने कहा – विधायकों ने बना दिया मछली बाजार

वहीं बीजेपी का हंगामे जब थोड़ा शांत हुआ तो, हेमंत सोरेन ने सदन में कुछ बोलेने इच्छा स्पीकर के सामने जतायी. सीएम हेमंत अपनी सीट पर खड़े हुए और कहा कि- एक तो ये विधानसभा ऐसा बना है कि समझ में ही नहीं आता कि कौन यहां क्या बोल रहा है. ]

सभी एक साथ बोलते हैं तो किसी की बात किसी को समझ नहीं आती. इससे आगे सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि सभी विधायक एक-एक कर बोलेंगे तो बात भी समझ आयेगी. लेकिन विधायकों ने तो सदन को मछली बाजार बना दिया है.

इसके बाद बाबूलाल मरांडी ने कहा कि हम भी चाहते हैं कि सदन चले, लेकिन लोहरदगा में सीएए के समर्थन में की गयी रैली के दौरान हुई हिंसा जैसे मामलों पर सदन में चर्चा हो.

इससे पहले सदन शुरू होने के पहले बीजेपी के विधायकों ने हाथ में तख्तियां लेकर सदन के बाहर लोहरदगा हिंसा मामले पर नारेबाजी की थी.

इसे भी पढ़ें – #MP_Crisis: SC में सुनवाई से पहले बोले बागी MLA- ‘सिंधिया हमारे नेता, वो कहें तो कुएं में कुदने को भी तैयार’

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: