JharkhandLead NewsRanchi

बिना लाइसेंस की मशीन से रिम्स में कैंसर मरीजों का हो रहा इलाज

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में प्रबंधन व्यवस्था सुधारने का दावा कर रहा है. वहीं दूसरी ओर अव्यवस्था कम होने का नाम ही नहीं ले रही है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ओंकोलॉजी डिपार्टमेंट में लाइसेंस फेल होने के बाद भी मशीन का संचालन किया जा रहा है. इतना ही नहीं उसी मशीन से मरीजों का ट्रीटमेंट भी जारी है.

ऐसे में मरीजों को कोई नुकसान होता है तो इसकी जिम्मेवारी कौन लेगा. इसे लेकर हाईकोर्ट के एडवोकेट ने कंप्लेन दर्ज करायी है. वहीं इसकी सूचना (एटोमिक एनर्जी रेगुलेटरी बोर्ड) एइआरबी के अधिकारियों को भी दी गयी है.

इसे भी पढ़ें :Breaking: झारखंड की नौकरियों में अब झारखंडी युवाओं को मिलेगा ज्यादा हिस्सा, कैबिनेट का अहम फैसला

Sanjeevani

बिना लाइसेंस जारी रखा ट्रीटमेंट

ओंकोलॉजी डिपार्टमेंट में कैंसर से ग्रसित मरीजों के इलाज के लिए लीनियर एक्सीलरेटर मशीन का इस्तेमाल किया जाता है. जिससे मरीजों को दर्द में राहत मिलती है. इसके संचालन के लिए एइआरबी एक निश्चित समय के लिए लाइसेंस जारी करता है. जिसका लाइसेंस 2019 में ही फेल हो गया था.

इसके बाद प्रबंधन और डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने इसका रिन्युअल कराने में गंभीरता नहीं दिखायी. वहीं बिना लाइसेंस के ही मरीजों का ट्रीटमेंट भी जारी रखा.

इसे भी पढ़ें :पटना में लोगों ने शुरू किया सत्याग्रह जाने क्या है कारण…

क्या कहते हैं कंप्लेन करने वाले

कंप्लेन करने वाले हाइकोर्ट के एडवोकेट अवनीश रंजन मिश्रा की मानें तो यह मरीजों के हित का सवाल है. उनके पास इससे जुड़े कागजात भी हैं. एइआरबी को मशीन के लाइसेंस एक्सपायर होने की कंप्लेन की गयी है.

अगर बोर्ड कोई एक्शन लेता है तो ठीक है, नहीं तो कोर्ट में पीआइएल करेंगे. चूंकि बिना लाइसेंस के मरीजों का इलाज किया जा रहा है तो रिस्क भी है.

इसे भी पढ़ें :सीवान में अपराधियों ने चार लोगों को मारी गोली, दो की मौत, दो की स्थिति गंभीर

क्या कहते हैं डिपार्टमेंट के हेड

इस मामले में ओंकोलॉजी डिपार्टमेंट के एचओडी डॉ अनूप का कहना है कि मशीन खराब पड़ी थी. जब लाइसेंस के लिए अप्रोच किया गया तो कोविड को देखते हुए एइआरबी ने कुछ दिन बाद लाइसेंस देने की बात कही. इस वजह से लाइसेंस प्रक्रिया में थोड़ा इंतजार करना पड़ा है. जो मरीज दर्द से परेशान थे उनका ट्रीटमेंट हमने सारे मानकों को देखते हुए जारी रखा.

इसे भी पढ़ें :तीरंदाजी सीनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप के ट्रायल से बाहर हुई अतानू और दीपिका की जोड़ी

Related Articles

Back to top button