Dharm-JyotishLead NewsNational

48 दिनों का होगा 2021 में हरिद्वार में लगनेवाला कुंभ मेला, कराना होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

उत्तराखंड के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने दी जानकारी

Dehradun:  अगले वर्ष 2021 में उत्तराखंड के हरिद्वार में लगनेवाला कुंभ मेला 48 दिनों का होगा. मेले के आयोजन को लेकर उत्तराखंड सरकार फरवरी के अंत तक अधिसूचना जारी करेगी. यह जानकारी राज्य के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने रविवार को दी.

कुंभ की तैयारी को लेकर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत कई दौर की बैठक कर चुके हैं. उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि कोरोना के हालात के मुताबिक ही फैसला लिया जायेगा. हालांकि, संतों का मानना है कि कोरोना संक्रमण के खतरे कम हुए हैं, इसीलिए मेले का आयोजन होगा. अगर कोरोना संक्रमण में बढ़ोतरी होती है, तो बैठक कर बात की जायेगी.

इसे भी पढ़ें :उच्च शिक्षा में सालाना साढ़े चार सौ करोड़ खर्च करने वाले झारखंड से हर साल बाहर जाते हैं लगभग 150 करोड़

ram janam hospital
Catalyst IAS

केंद्र सरकार देगी पैरामिलिट्री की 40 कंपनियां

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

हरिद्वार कुंभ मेला मार्च से अप्रैल के बीच आयोजित किये जाने की संभावना है. कुंभ मेले को लेकर केंद्र सरकार पैरामिलिट्री की 40 कंपनियों का आवंटन भी कर दिया है. उम्मीद की जा रही है कि एक जनवरी को पैरामिलिट्री की पांच कंपनियां हरिद्वार पहुंच जायेंगी.

बताया जाता है कि एसएसबी की सात, सीआरपीएफ की 10, बीएसएफ की 10, सीआईएसएफ की सात और आईटीबीपी की छह कंपनियों को कुंभ मेले के लिए आवंटन किया गया है. पैरामिलिट्री की कंपनियां चार विभिन्न चरणों में हरिद्वार पहुंचेंगी.

इसे भी पढ़ें :जानिये क्या है मोस्ट वांटेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का झारखंड कनेक्शन

रेलवे 35 स्पेशल ट्रेनें चलायेगी

कोरोना संक्रमण काल में कुंभ मेले के आयोजन को लेकर विशेष तैयारी की जायेगी. श्रद्धालुओं को कुंभ मेले में शामिल होने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा. साथ ही मेले में प्रवेश से पहले एंटीजन टेस्ट कराने को लेकर भी विचार किया जा रहा है. ऐसे में गंगा में डुबकी से पहले कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी.

कुंभ को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने बड़ी योजना तैयार की है. बताया जाता है कि रेलवे 35 स्पेशल ट्रेनें चलायेगी. वहीं, हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर भीड़ को कंट्रोल करने के लिए मेला कंट्रोल सिस्टम भी तैयार किया गया है.

इसे भी पढ़ें :रांची विश्वविद्यालय :  दो वर्ष सेवा विस्तार करने प्रस्ताव का प्राध्यापक संघ ने किया विरोध

 

Related Articles

Back to top button