Budget 2021Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

सदन में उठा जेपीएससी का मुद्दा, जीएस पेपर को लेकर विधायक अमित मंडल ने की सुधार की मांग

Ranchi: 7वीं और 10वीं जेपीएससी परीक्षा में जीएस पेपर 1 और जीएस पेपर 2 में पास मार्क्स 40 प्रतिशत औसत किया गया है. विधायक अमित मंडल ने ध्यानाकर्षण के दौरान इसमें त्रुटि होने का मामला उठाया.

मंडल में बताया कि छठी जेपीएससी में जीएस पेपर 2 का प्रावधान इसलिए किया गया था कि यहां के स्थानीय को प्राथमिकता मिले. जीएस पेपर 2 में राज्य से संबंधित होता है. पिछली परीक्षा में दोनों में अलग से 40 प्रतिशत पास मार्क्स लाना था.

वहीं इस बार एवरेज 40 प्रतिशत पास मार्क्स है. मतलब कोई जीएस पेपर 1 में 70 लाता है और पेपर 2 में 10 मार्क्स भी लाता है तो उसे पास घोषित कर दिया जाएगा. विधायक अमित मंडल ने साथ ही यह मांग की है कि झारखंड कंबाइंड सिविल सर्विसेज रूल 2021 में काफी त्रुटियां है इसको सुधार करने के बाद ही परीक्षा ली जाए.

advt

इसे भी पढ़ें :रिम्स का ट्रामा सेंटर फिर से कोविड अस्पताल में तब्दील

जबतक दोनों विषयों में अलग-अलग पास मार्क्स निर्धारित नहीं किया जाएगा तब तक स्थानीय लोगों को इसका लाभ नहीं मिलेगा. इसलिये इस नियम में बदलाव किया जाना चाहिये. इस पर सरकार का जवाब देते हुए मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि सरकार अलग-अलग पास मार्क्स निर्धारित करने पर विचार करेगी.

अमित मंडल में ध्यानाकर्षण के दौरान कहा कि झारखंड कंबाइंड सिविल सर्विसेज रूल 2021 में कई त्रुटियां हैं. इसे रद्द कर फिर से ड्राफ्ट किया जाना चाहिए. विधायक का अमित मंडल में जेपीएससी की उम्र सीमा के कट ऑफ डेट को अगस्त 2011 से 2016 करने का भी विरोध किया.

इसे भी पढ़ें :डीवीसी के साथ हुए एग्रीमेंट के पेपर गायब, बिहार बंगाल दोनों राज्यों के पास नहीं है पेपर, सदन में उठाया गया मामला

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: