Education & CareerRanchi

टीचर ट्रेनिंग संस्थाओं को 30 दिनों के अंदर लगाना होगा बायोमैट्रिक सिस्टम, नहीं तो रद्द होगी मान्यता

Ranchi: राज्य के बीएड, एमएड व डीएलएड जैसे टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाने वाले संस्थानों की मनमानी रोकने के लिए नेशनल काउंसिल फोर टीचर एजुकेशन ने कड़े कदम उठाये हैं. इस दायरे में राज्य के साथ-साथ देशभर के टीचर्स ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स आयेंगे.

एनसीटीई की ओर से इस बाबत नोटिस जारी किया गया है. अपने नोटिस में एनसीटीई ने तीन बिंदूओं पर संस्थानों को अमल करने को कहा है.

इसे भी पढ़ेंः मां अंबे माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड पर क्यों मेहरबान है चतरा व हजारीबाग जिला प्रशासन

30 दिनों में इंस्टॉल करें बायोमेट्रिक अटेंडेंस सिस्टम

एनसीटीई ने जारी नोटिस में कहा है कि टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेजों में शिक्षक व अध्ययनरत विद्यार्थियों के अटेंडेंस पर ध्यान नहीं दिया जाता है.

ऐसे में शिक्षकों व विद्यार्थियों का अटेंडेंस सुनिश्चित हो, इसके लिए सभी टीचर्स ट्रेनिंग संस्थानों में बायोमैट्रिक्स अटेंडेंस सिस्टम लगाया जाये. एनसीटीई ने टीचर्स ट्रेनिंग संस्थानों को नोटिस जारी होने के 30 दिनों के अंदर सिस्टम को लगाने को कहा है.

एनसीटीई ने अपने नोटिस में यह भी कहा है कि संस्थानों को शिक्षकों व विद्यार्थियों के अटेंडेंस को अपने वेबसाइट पर भी अपलोड करना है.

और इसे सप्ताह के अंत तक वेबसाइट पर अपडेट करना है. एनसीटीई की ओर से तमाम टीचर्स ट्रेनिंग संस्थानों के अटेंडेंस की मॉनिटरिंग की जायेगी.

रद्द होगा एफिलिऐशन

एनसीटीई ने अपने नोटिस में सख्ती दिखाते हुए स्पष्ट किया है कि जो संस्थान इसे गंभीरता से नहीं लेंगे, उनकी मान्यता को रदद् किया जायेगा.

दरअसल एनसीटीई को इस बात को लेकर कई शिकायतें मिली हैं कि टीचर्स ट्रेनिंग संस्थानों में अटेंडेस को लेकर गंभीरता नहीं बरती जाती है. एनसीटीई ने विशेष रूप में प्राइवेट टीचर्स ट्रेनिंग संस्थानों में अटेंडेंस को लेकर सख्ती बरतने की बात कही है.

इसे भी पढ़ेंः ‘चंद्रयान-2’ के लिए बढ़ा इंतजार, तकनीकी खामी की वजह से टली लॉन्चिंग

प्राइवेट संस्थानों में होती सबसे ज्यादा गड़बड़ी

राज्य में 105 टीचर्स ट्रेनिंग संस्थान हैं, जहां बीएड, एमएड, बीपीएड, डीपीएसइ, डीएलएड, डीपीएड, तीन वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड व चार वर्षीय बीए, बीएससी बीएड कोर्स संचालित हो रहे हैं. इनमें से प्राइवेट संस्थानों की संख्या ज्यादा है.

प्राइवेट टीचर्स ट्रेनिंग संस्थानों में सूत्रों के मुताबिक अधिकांश वैसे छात्र आते हैं, जो बिना रेगूलर क्लास किये कोर्स को पूरा करते हैं. ऐसे छात्रों को अटेंडेंस की बाध्यता नहीं रहती हैं.

टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेजों की ओर से इसके अटेंडेंस को मैनेज किया जाता है. अब बायोमैट्रिक्स सिस्टम के लग जाने के बाद ऐसा करना संभव नहीं हो पायेगा.

राज्य में विभिन्न टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम के संस्थान व संख्या

संस्थान संख्या
बीएड 137
एमएड 14
बीपीएड 04
डीपीएसइ 01
डीएलएड 100
डीपीएड 01
तीन वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड 01
चार वर्षीय बीए, बीएससी,बीएड कोर्स 03

 

इसे भी पढ़ेंःइलाहाबाद HC में साक्षी-अजितेश के साथ मारपीट, कोर्ट ने दिये सुरक्षा के आदेश

Related Articles

Back to top button