न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कारमेल स्कूल की सिस्टर्स पर शिक्षिका ने लगाया धर्म परिवर्तन के लिए दबाव डालने का आरोप

नामकुम थाना ने एफआईआर दर्ज करने से कर दिया इनकार, शिकायतकर्ता ने व्यवहार न्यायालय में दर्ज कराया केस

216

Ranchi : धर्म परिवर्तन के नाम पर महिला को प्रताड़ित करने का एक मामला व्यवहार न्यायालय में 22 नवंबर को दायर किया गया है. केस सामलोंग स्थित कारमेल स्कूल की सिस्टरों पर किया गया है. मामले की सुनवाई मंगलवार को हुई. शिकायतकर्ता नलिनी नायक ने बताया कि उनकी नियुक्ति वर्ष 2013 में कारमेल स्कूल में बतौर शिक्षिका की गयी. नलिनी ने बताया कि शुरू में काम ठीक ही चल रहा था, लेकिन धीरे-धीरे स्कूल की सिस्टरों की ओर से ईसाई धर्म ग्रहण करने को लेकर दबाव बनाया जाने लगा. पीड़िता ने लगातार सिस्टरों की बात को नजरअंदाज किया, लेकिन फिर भी नलिनी को विद्यालय में यह कहा जाता रहा कि धर्म परिवर्तन कर लेने से उसकी नौकरी स्थायी कर दी जायेगी. नौकरी स्थायी करने के कारण नलिनी ने धर्म स्वीकार करने की बात की. इसके बाद उसे प्रवचन सुनने, चर्च आने समेत अन्य कार्यों में शामिल होने के लिए दबाव बनाया जाने लगा.

ईसाई धर्म स्वीकार नहीं करने पर मिलने लगीं धमकियां

कारमेल स्कूल की सिस्टर डेलिया, सिस्टर रेनिशा, सिस्टर तेरेसेता मारी, सिस्टर मारी थेरेसा पर आरोप लगाते हुए शिक्षिका नलिनी नायक ने लिखा है कि ईसाई धर्म स्वीकार नहीं करने पर स्कूल में धमकियां मिलने लगीं. उन्होंने बताया कि सिस्टरों ने हत्या करने की धमकी दी, साथ ही कहा कि अगर धर्म स्वीकार नहीं है, तो 2013 से जितना वेतन मिला है, वह पैसा वापस कर नौकरी छोड़ दो. नलिनी ने बताया कि कई बार सिस्टरों ने उनके साथ हाथापाई भी की.

नामकुम थाना में दर्ज नहीं किया गया केस

नलिनी ने बताया कि जनवरी 2018 में उन्होंने नौकरी छोड़ने का निर्णय लिया, जिसके बाद अक्टूबर में वह नामकुम थाना में केस करने गयीं. वहां बड़ा बाबू के नहीं रहने के कारण केस दायर नहीं किया गया. पुनः नलिनी 10 अक्टूबर को थाना गयीं, जहां उनसे कहा गया कि मामला गंभीर है, त्योहार के कारण केस नहीं किया जा सकता. थाना ने पीड़िता को व्यवहार न्यायालय जाने की सलाह दी. इस बीच स्कूल की सिस्टरों को इसकी जानकारी हो गयी और मिलकर मामला खत्म करने की बात कही. इसके लिए नलिनी ने कुछ दिन इंतजार भी किया और अखिर में 22 नवंबर को उन्होंने केस कर दिया. विद्यालय का नंबर स्विच्ड ऑफ रहने के कारण विद्यालय की सिस्टरों से संपर्क नहीं हो पाया.

इसे भी पढ़ें- धनबाद : नाली के पानी से निगम करा रहा है ‘बीमारी’ की खेती

इसे भी पढ़ें- सख्त सरकार की पार्टी नरमः गिलुआ बोले- काम पर लौटें पारा शिक्षक, मांगों पर करेंगे विचार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: