Court NewsLead NewsNational

सुप्रीम कोर्ट ने स्पाइसजेट को 3 सप्ताह की दी मोहलत, कहा: “यह एयरलाइन चलाने का तरीका नहीं है, दिवालिया घोषित कर देंगे

स्विट्जरलैंड की कंपनी 'क्रेडिट सुइस एजी' के साथ चल रहा है वित्तीय विवाद

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट ने विमानन कंपनी स्पाइसजेट को स्विट्जरलैंड की कंपनी ‘क्रेडिट सुइस एजी’ के साथ वित्तीय विवाद के समाधान के लिए शुक्रवार को तीन सप्ताह का समय दिया और इसके साथ ही मद्रास उच्च न्यायालय के आदेश के क्रियान्वयन पर भी तीन सप्ताह के लिए रोक लगा दी.

इसे भी पढ़ें :पीएमजीएसवाइ : पहले, दूसरे फेज की भी योजनाएं पूरी नहीं हुईं, 1000 किमी सड़क नहीं बनी

स्पाइसजेट ने मद्रास हाई कोर्ट के फैसले को दी थी चुनौती

स्पाइसजेट ने अपनी याचिका में मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश को चुनौती दी थी जिसमें उसने परिसमापन याचिका स्वीकार करते हुए आधिकारिक परिसमापक को किफायती सेवाएं देने वाली एयरलाइन की संपत्तियों पर कब्जा लेने का निर्देश दिया था.

इसे भी पढ़ें :कांग्रेस ने रघुवर पर किया पलटवार, कहा- इनके कार्यकाल में कंबल, नमक और खाने के प्लेटों तक की हुई है चोरी

‘स्विस कंपनी के साथ मुद्दे का समाधान निकाले कंपनी’

प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की तीन सदस्यीय पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे की इस बात पर गौर किया कि स्पाइसजेट स्विस कंपनी के साथ मुद्दे का समाधान निकालने का प्रयास करेगी.

हाई कोर्ट के आदेश पर तीन सप्ताह के लिए रोक

पीठ ने कहा कि ‘वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने मामला सुलझाने के लिए तीन हफ्ते का वक्त मांगा है और स्विस कंपनी की ओर से पेश के वी विश्वनाथन भी स्थगन के लिए सहमत हो गए हैं. इस बीच उच्च न्यायालय के आदेश पर तीन हफ्ते के लिए रोक लगाई जाती है.

इसे भी पढ़ें :फरवरी में खुल सकते हैं स्कूल, आपदा प्रबंधन की बैठक में हो सकता है फैसला

कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की थी याचिका

स्पाइसजेट ने उच्च न्यायालय की खंडपीठ के 11 जनवरी के आदेश के खिलाफ शीर्ष अदालत में याचिका दायर की थी. उच्च न्ययालय खंडपीठ ने एकल न्यायाधीश की पीठ के हालिया फैसले को बरकरार रखा था, जिसमें एयरलाइन के परिसमापन का निर्देश दिया गया था. साथ ही उच्च न्यायालय से संबद्ध आधिकारिक परिसमापक को संपत्तियों की जब्ती का निर्देश दिया गया था.

इसे भी पढ़ें :गया जंक्शन पर हिंसक प्रदर्शन करने वाले 13 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 1200 अज्ञात छात्रों पर केस दर्ज

2.4 करोड़ डॉलर के बिलों का भुगतान नहीं किया था

स्विट्जरलैंड की कंपनी क्रेडिट सुइस एजी ने उच्च न्यायालय की एकल न्यायाधीश की पीठ के समक्ष आरोप लगाया था कि स्पाइसजेट विमान इंजनों के रखरखाव, मरम्मत और ओवरहॉलिंग के अपने 2.4 करोड़ डॉलर के बिलों का भुगतान करने में विफल रही है.

इसे भी पढ़ें :अनोखा इलाज : मरीज की जान बचाने के लिए डॉक्टरों ने दवाई की जगह चढ़ाई 5 लीटर बीयर

Advt

Related Articles

Back to top button