JharkhandJHARKHAND TRIBESKhunti

घाघरा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा किया गया था दमन : फैक्ट फाइंडिंग टीम

Khunti: घाघरा गांव में पत्थलगढ़ी को लेकर ग्राम सभा हो रही थी जहां आसपास के गांव के लोग आए थे. वहां पुलिस यह कहकर पहुंच गई कि कोचांग में पांच महिलाओं के साथ हुए गैंग रेप के मामले में शामिल अपराधी वहां आए हुए हैं, और गांव वालों के उपर लाठी चार्ज किया, आंसू गैस छोडे गए और फाईरिंग की गई. उक्त बातें 17-18 अगस्त को खूंटी के घाघरा और आस-पास के गांवों में प्रशासन के दमन की खबरों की जांच करने गई डब्लूएसएस और सीडीआरओ की 10 सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग टीम ने बताया है. आगे टीम ने बताया कि एक व्यक्ति बिरसा मुंडा की मौत लाठी से मारे जाने के कारण हो गई जिसकी पुष्टी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में की गई है. इस मामले में बिरसा मुंडा के परिजनों को उनकी मौत के तीन दिन तक थाने के दो-तीन चक्कर लगाने के बाद उनका शरीर परिजनों को सौंपा गया. इस मामले में पुलिस ने 302 के अंर्तगत मामला दर्ज कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- नौ जिले के पानी में घुल रहा जहर ! फ्लोराइड, आर्सेनिक व शीशा की मात्रा WHO के मानकों से ज्यादा

एक महिला के साथ रेप होने की पुष्टि

फैक्ट फाइंडिंग  टीम ने बताया कि 27 जून को सीआरपीएफ, रेफ, जेएएफ और होम गार्ड के जवान घाघरा और उससे सटे गांवों में घुस गए. घाघरा से सटे 8 गांव है. जहां पुलिस गई थी, पर उनमें से केवल 3 से 4 गांवों में पत्थलगढ़ी हुई थी. पुलिस जब उन गावों में घुसी जहां पत्थलगढ़ी हुई थी, उनमें से दो गावों में लोगों को पीटा गया, और बांकि के लोग पुलिस के आने की सूचना पाकर अपने घरों को छोड़कर चले गए थे. घाघरा में उस दौरान एक महिला के साथ रेप होने की पुष्टि की गई है. जबकि, बाकि महिलाओं के साथ भी यौन हिंसा होने की बात बताई गई है. इसके साथ ही, गांव में कई घरों में घुस कर अर्धसैनिक बलों द्वारा मार-पीट, तोड-फोड और लूट-पाट की गई थी. चर्च में भी अर्धसैनिक बलों ने घुसकर पेशाब किया और नुकसान पहुंचाया. इन गांवों मे लोगों को मारा-पीटा गया, जिसमें कुछ लोगों को चोट पहुंची, एक बच्ची का हाथ भी टूट गया. जबकि, बांकि के गांवों में पुलिस ने लोगों के घर में घुसकर तलाशी ली..

इसे भी पढ़ें- क्या सरकार नहीं चाहती कि बनें और धोनी? चार साल बीतने को हैं, फिर भी नहीं बन सकी खेल नीति

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button