JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

मोदी सरकार के सात सालः कांग्रेस-राजद ने कहा- हर मोर्चे पर सरकार फेल

कहा, कोरोना पर कुप्रबंधन से ली तीन लाख से अधिक जान

Ranchi:  मोदी सरकार से सात सालों के कार्यकाल को प्रदेश कांग्रेस और राजद ने हानिकारक, पीड़ादायक बताया है. झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने रविवार को कहा केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के सात सालों का कार्यकाल पूरी तरह से हानिकारक एवं पीड़ादायक साबित हुआ है. यदि संविधान में सरकार को बीच में ही बुलाने की व्यवस्था होती तो देश की जनता उन्हें बिना देर किये सत्ता से बेदखल कर देती. कोरोना महामारी के कुप्रबंधन के चलते देश में लोगों ने सिसक-सिसक कर दम तोड़ दिया. मौत का सरकारी आंकड़ा 3,22,523 है पर सच्चाई इससे कई गुणा अधिक भयावह है. राजद ने भी कहा कि मोदी सरकार झूठ की बुनियाद पर खड़ी है.

 

विदेशी कंपनियों के भरोसे वैक्सीनेशन

आलोक कुमार दूबे के अनुसार कोरोना की पहली लहर के बाद अमेरिका-इंग्लैंड और यूरोप के तमाम देशों ने अपनी बड़ी आबादी को टीका दिलाया. 2-3 बार से ज्यादा टीकाकरण के लिए कई कंपनियों को वैक्सीन खरीदने के लिए ऑर्डर भी दिया. इसकी तुलना में भारत ने अपनी आबादी को एक बार भी टीकाकरण के लायक जरूरी डोजों को ना तो स्वयं उत्पादन किया, ना ही विदेशी कंपनियों को ऑर्डर दिया. अब जब विदेशी कंपनियों को ऑर्डर देने की पहल शुरू हुई, तब उन  कंपनियों के पास समय नहीं. अगले एक से दो साल के लिए आर्डर फुल हो चुके हैं. जॉनसन एंड जॉनसन 100 करोड़ डोज भारत में तैयार करेगी परंतु ये सभी डोज विदेश चली जाएगी क्योंकि भारत ने पहले ऑर्डर नहीं दिया. अब केंद्र सरकार विदेशी कंपनियों के पीछे भागे चल रही है. पूरे देश में ऑक्सीजन का गंभीर संकट है. संसदीय समिति ने नंबर 2020 में इसकी चेतावनी दी. कांग्रेस पार्टी और विशेषज्ञों ने भी केंद्र सरकार को आगाह किया पर मोदी सरकार इस साल तक 9000 टन ऑक्सीजन निर्यात करती रही. देश के लोग रेमेडसिविर इंजेक्शन के लिए तिल-तिल कर मरते रहे पर मोदी सरकार ने 11 लाख से अधिक इंजेक्शन का निर्यात कर डाला.

 

Catalyst IAS
ram janam hospital

नोटबंदी जीएसटी से तबाह देश

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

प्रदेश राजद के प्रवक्ता डॉ मनोज कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार झूठ की बुनियाद पर ही टिकी है. प्रधानमंत्री सहित देश के तमाम भाजपा नेताओं को मंथन करना चाहिये कि देश के जनता के लिये नौजवान, मजदूर, किसान, गरीब असहाय, बेरोजगारों सहित देश के आर्थिक सुदृढ़ीकरण व उत्थान के लिये उसने क्या किया. सात वर्षों में उपलब्धि क्या रही यही. जीएसटी, नोटबंदी के नाम पर देश बर्बाद होता रहा. किसानों के लिये तीन काले कृषक कानून बनाये गये. अच्छे दिन लाने के नाम पर कमर तोड़ महंगाई बढा दी है.

Related Articles

Back to top button