न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रामकृपाल कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड ने विधानसभा भवन में कई काम किये सबलेट

साउंडप्रूफ हॉल और सभागार बनाने का काम दे दिया स्टरलिंग विल्सन को, सलाहकार कंपनी जैक्बस के कहने पर दे दिया 40 करोड़ का काम

852

Ranchi : राज्य में झारखंड हाई कोर्ट, विधानसभा, रविंद्र भवन बना रही कंपनी रामकृपाल कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से नवनिर्मित विधानसभा भवन का कॉन्फ्रेंस हॉल बनाने का काम भी सबलेट कर दिया गया है. चेन्नई की कंपनी स्टरलिंग विल्सन को 40 करोड़ रुपये का काम दिया गया है. नया विधानसभा भवन बनाने का काम एचईसी की ओर से पुंदाग में अधिग्रहित की गयी जमीन पर हो रहा है. अगले वर्ष विधानसभा का बजट सत्र नये विधानसभा परिसर में होना है. इस भवन की लागत 300 करोड़ रुपये से अधिक है. इसमें कंस्ट्रक्शन, इलेक्ट्रिकल, एयर कंडिशनिंग से लेकर अन्य सभी कार्य सबलेट कर दिये गये हैं.

इसे भी पढ़ें- हटाये जायेंगे सीबीआइ प्रमुख, मिल सकती है राकेश अस्थाना को नई जिम्मेदारी !

क्या-क्या बनना है कॉन्फ्रेंस हॉल में

180 लोगों के लिए बननेवाला कॉन्फ्रेंस हॉल पूरी तरह अत्याधुनिक बनाया जाना है. राज्य सरकार की तरफ से विश्व की प्रतिष्ठित कंपनी टेलेविक का ऑडियो सिस्टम लगाने का पहले बिल ऑफ क्वांटिटी में जिक्र किया गया था. पर, बाद में विधानसभा भवन की सलाहकार कंपनी ने बॉश कंपनी का ऑडियो स्थापित करने की अनुशंसा एजेंसी (आरके कंस्ट्रक्शन कंपनी) को कर दी गयी. इसके अनुरूप बीओक्यू में बदलाव भी किया गया. बाद में सुधारे गये बीओक्यू में किसी खास मेक का जिक्र ही गायब कर दिया गया. विधानसभा परिसर में 90-90 लोगों के बैठने के लिए दो हॉल बनाये जाने हैं. तीसरा हॉल 12 लोगों के बैठने का होगा. इनके लिए इंटीग्रेटेड वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सिस्टम, 40 इंच वाला एलईडी मॉनिटर, डब्ल्यूलैन एक्सेस प्वॉइंट, इंटरनेट राउटर और गेटवे, इनबिल्ट वॉयस मेल, नेटवर्क मैनेजमेंट सर्वर, पोर्ट 10 जी सर्वर फॉर्म स्विच और अन्य चीजें लगाने का प्रावधान किया गया था.

इसे भी पढ़ें- गोड्डा में अडानी पावर प्लांट के लिए किसानों से जबरन ली जा रही जमीन : कुमार चंद्र मार्डी

रामकृपाल कंस्ट्रक्शन कंपनी के मैनेजर सुंदरम और सलाहकार कंपनी की जुगत से किया गया सबलेटिंग का काम

विधानसभा भवन का काम कर रही एजेंसी के मैनेजर सुंदरम और योजना की सलाहकार कंपनी जैक्बस के प्रतिनिधि की मिलीभगत से स्टरलिंग का चयन किया गया. सूत्रों का कहना है कि इसके लिए मोटी रकम भी ली गयी है. एजेंसी के प्रोजेक्ट मैनेजर केपी शर्मा को इस बात की जानकारी भी नहीं है. उन्होंने कहा कि सभी कार्य सबलेट किये गये हैं. कइयों का तो ऑर्डर भी दिया जा चुका है. ऐसे में कॉन्फ्रेंस हॉल तथा वातानुकूलित ऑडियो सिस्टम के ऑर्डर की उन्हें जानकारी नहीं है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: