National

#CitizenshipAmendmentBill पर तेज हुआ विरोध, लोगों ने कर्फ्यू का किया उल्लंघन, पुलिस ने चलायी गोलियां

Guwahati: असम में नागरिकता विधेयक को लेकर विरोध और तेज हो गया है. गुवाहाटी में हजारों लोग कर्फ्यू का उल्लंघन करते हुए गुरुवार को सड़क पर उतर आये और कई स्थानों पर स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस को गोलियां भी चलानी पड़ी.

पुलिस ने बताया कि लालुंग गांव में उन्हें गोलियां भी चलानी पड़ी क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने उन पर पत्थरबाजी की. प्रदर्शनकारियों का दावा है कि इस घटना में चार लोग घायल हो गये.

इसे भी पढ़ें- #CitizenshipAmendmentBill : #PMModi ने हिंसक प्रदर्शन पर ट्वीट कर असम के लोगों से कहा, आपके अधिकार कोई नहीं छीन सकता

युद्ध क्षेत्र में तब्दील हो चुके हैं इलाके

यही नहीं पुलिस को गुवाहाटी-शिलांग रोड सहित अन्य इलाकों में भी गोलियां चलानी पड़ी. ये इलाके युद्ध क्षेत्र में तब्दील हो चुके हैं क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने दुकानों और इमारतों में तोड़फोड़ करने के साथ ही सड़कों पर टायर जलाये. प्रदर्शकारियों और सुरक्षाबलों के बीच झड़प भी हुई है.

छात्र संगठन आसू और किसान संगठन केएमएसएस ने लताशील मैदान में लोगों को जुटने के लिए आह्वान किया था. इसमें सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया. प्रतिबंध के बावजूद भी इस रैली में फिल्म और संगीत क्षेत्र की कई हस्तियों ने हिस्सा लिया. कॉलेज और विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ जुबिन गर्ग भी सभा में शामिल हुए.

आसू के सलाहकार सामूजल भट्टाचार्य ने इस सभा में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने इस विधेयक का पारित होना सुनिश्चित कराके असम के लोगों के साथ धोखा किया है. आसू और नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन (एनईएसओ) के नेताओं ने कहा कि वह हर साल 12 दिसंबर को ‘काला दिवस’ के रूप में मनायेंगे.

कामरूप जिले में कार्यालय, स्कूल और कॉलेज पूरी तरह से बंद रहे. यहां दुकानें बंद हैं और राष्ट्रीय राजमार्ग 31 सहित विभिन्न मार्गों पर सड़कों से गाड़ियां नदारद है क्योंकि इसे बंद किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- #CitizenshipAmendmentBill : #Congress का  #PMModi पर कटाक्ष, असम के लोग पीएम का संदेश नहीं पढ़ सकते, इंटरनेट बंद है

प्रदर्शनकारियों ने जले हुए टायर और पत्थर फेंके: पुलिस

पुलिस ने बताया कि उन्हें रंगिया शहर में तीन गोलियां चलानी पड़ी क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने उन पर पत्थर और जले हुए टायर फेंके शहर के कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज भी हुआ.

अधिकारियों ने बताया कि पुलिस को गोलाघाट जिले में भी हवा में गोलियां चलानी पड़ी क्योंकि प्रदर्शकारियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग 39 बंद कर रखा था और पुलिस उन्हें तितर-बितर करने का प्रयास कर रही थी.

लखीमपुर और चराईदेव जिलों के चाय बागानों में श्रमिकों ने काम करना बंद कर दिया है. इसके अलावा गोलाघाट के नुमालीगढ़ और तिनसुकिया जिलों के कुछ इलाकों में भी श्रमिकों ने काम करना बंद कर दिया है. राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थान बंद हैं.

राज्य के विभिन्न इलाकों में सेना के पांच कॉलम तैनात हैं और वे गुवाहाटी, तिनसुकिया, जोरहाट और डिब्रूगढ़ में फ्लैग मार्च कर रहे हैं. असम से आने-जाने वाली कई ट्रेनें और उड़ानें निलंबित कर दी गयी है.

नागरिकता (संशोधन) विधेयक बुधवार को राज्यसभा में पारित हो गया. इससे पहले यह विधेयक सोमवार को लोकसभा में पारित हो चुका है. इसमें अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आये गैर मुस्लिम शरणार्थी-हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: नेताओं ने मतदान कर कहा- लोकतंत्र को मजबूत करने आगे आये लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button