न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीबीआई में जारी घमासान के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार: पृथ्वीराज चव्हाण

CBI VS CBI: कांग्रेस के निशाने पर पीएम मोदी

118

New Delhi: सीबीआई के दो शीर्ष अधिकारियों के बीच छिड़ा घमासान थम नहीं रहा. जबकि सोमवार को पीएम मोदी ने खुद अधिकारियों से बात की थी. इसके बावजूद विवाद गहराता जा रहा है. इधर यूपीए सरकार में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में राज्य मंत्री रहे कांग्रेस नेता पृथ्वी राज चव्हाण ने मंगलवार को कहा कि सीबीआई में जारी घमासान के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार जिम्मेदार है. चव्हाण ने मौजूदा विवाद में केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की भूमिका पर भी सवाल उठाए.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआई : एन इनसाइड स्टोरी

गौरतलब है कि सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच पिछले कई महीनों से जारी विवाद अब गहरा गया है. पिछले दिनों सीबीआई ने भ्रष्टाचार के एक मामले में अस्थाना के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की और इस सिलसिले में अपने ही एक डीएसपी को गिरफ्तार भी किया. इधर राकेश अस्थाना ने भी दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

राकेश अस्थाना को विशेष निदेशक कैसे बनाया गया

चव्हाण ने मुंबई से फोन पर पीटीआई से कहा ‘‘सबसे पहला सवाल यह है कि सीबीआई की ओर से दर्ज भ्रष्टाचार के मामलों में आरोपी होने और सीबीआई निदेशक की ओर से ऐतराज जताने के बावजूद गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को सीबीआई में अतिरिक्त निदेशक बनाया क्यों गया?’’

इसे भी पढ़ेंःमोदी शासन में सीबीआई खुद से ही जंग लड़ रही : राहुल गांधी

चव्हाण ने कहा, ‘‘मेरा दूसरा सवाल है कि अस्थाना के खिलाफ सीबीआई जब आपराधिक मामलों की जांच कर रही थी तो उन्हें विशेष निदेशक के पद पर तरक्की कैसे दी गई ? सीबीआई में अस्थाना की नियुक्ति और फिर तरक्की को सीवीसी ने मंजूरी कैसे दे दी?’’

सीबीआई के प्रशासनिक मंत्रालय के तौर पर काम करने वाले कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) के प्रभारी रह चुके चव्हाण ने कहा, ‘‘आखिर किसकी शह पर या किसके दबाव में सीवीसी ने यह मंजूरी दी थी?’’

इसे भी पढ़ेंःCBI VS CBI: राकेश अस्थाना ने किया दिल्ली हाईकोर्ट का रुख

अस्थाना के खिलाफ कार्रवाई में किसका समर्थन

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बहुत गंभीर मामला है. किसी को तो इसका जवाब देना होगा. साफ है कि सीबीआई में अस्थाना की नियुक्ति राजनीतिक वजहों से की गई. उन्होंने यह भी कहा कि इस बात की जांच होनी चाहिए कि क्या सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को एजेंसी में दूसरे सबसे वरिष्ठ अधिकारी अस्थाना के खिलाफ सख्त कदम उठाने के लिए सरकार में कहीं से कोई समर्थन मिल रहा है ?

चव्हाण ने कहा कि सभी जानते हैं कि अस्थाना की नियुक्ति राजनीतिक है. वह प्रधानमंत्री के करीबी माने जाते हैं. फिर सीबीआई निदेशक को उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए कहीं से कोई समर्थन मिल रहा है क्या? उन्होंने यह सवाल भी किया कि मौजूदा सरकार अहम पदों पर सिर्फ गुजरात कैडर के अधिकारियों की नियुक्ति क्यों कर रही है. उन्होंने कहा कि क्या इसके पीछे कोई हीन-भावना है या फिर भाषा का सवाल है?

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: