न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आकाश विजयवर्गीय प्रकरण पर बोले पीएम मोदीः बेटा किसी का हो,मनमानी नहीं चलेगी, कार्रवाई होनी चाहिए

531

New Delhi: मध्य प्रदेश में बीजेपी एमएलए द्वारा नगरकर्मी की पिटाई पर पीएम मोदी नाराज नजर आये. मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संज्ञान लेते हुए नसीहत दी है कि ‘बेटा किसी का हो, मनमानी नहीं चलेगी.’ हालांकि प्रधानमंत्री ने इस संदर्भ में किसी का नाम नहीं लिया.

इसे भी पढ़ेंःBJP सांसद समीर उरांव ने कहा था : जमीन दे दो, सत्ता में आते ही लगा देंगे नौकरी, देखें वीडियो

Mayfair 2-1-2020

‘बेटा किसी का हो मनमानी नहीं चलेगी’

सूत्रों ने बताया कि भाजपा संसदीय पार्टी की बैठक में प्रधानमंत्री ने मंगलवार को कहा, ‘बेटा किसी का हो, ऐसा व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.’

उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार का दुर्व्यवहार, जो पार्टी का नाम कम करता है, अस्वीकार्य है. उन्होंने कहा कि अगर किसी ने कुछ गलत किया है तो कार्रवाई की जानी चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि यह सभी पर लागू है.

सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि जिन लोगों ने स्वागत किया है, उन्हें पार्टी में रहने का हक नहीं है, सभी को पार्टी से निकाल देना चाहिए.

Vision House 17/01/2020

इस घटना को लेकर पुलिस में मामला दर्ज करवाया गया और आकाश को जेल भेज दिया गया था. बाद में उनकी रिहाई के बाद उनके समर्थकों ने जश्न मनाया था और फूलों से स्वागत किया था.

Related Posts

#Nirbhaya_Gang_Rape : कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया,  दोषियों को एक फरवरी सुबह छह बजे फांसी दी जायेगी   

कोर्ट ने दोषियों का नया डेथ वॉरंट जारी किया है. हालांकि दोषियों के वकील मामले को और खींचने की फिराक में हैं. एक दोषी की उम्र को लेकर आपत्ति जताई जा रही है.

जेल से जमानत पर छूटने के बाद आकाश ने कहा था कि वह जनता की सेवा करते रहेंगे, लेकिन उन्होंने इस घटना पर खेद प्रकट नहीं किया था.

इसे भी पढ़ेंःमीडिया की स्वतंत्रता को किस तरह प्रभावित कर रहा है सत्ता पक्ष, संदर्भः अखबारों को मिलने वाले सरकारी विज्ञापन पर बैन!

बता दें कि बीजेपी संसदीय दल की इस बैठक में कैलाश विजयवर्गीय भी शामिल थे. आकाश के पिता और भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी.

‘आकाशजी और कमिश्नर दोनों कच्चे खिलाड़ी हैं. यह कोई बड़ा मुद्दा नहीं था, लेकिन इसे बड़ा बनाया गया.’’ उन्होंने कहा था, ‘मुझे लगता है कि अधिकारियों को अहंकारी नहीं होना चाहिए.’

क्या था मामला

गौरतलब है कि कुछ ही दिनों पहले इंदौर नगर निगम का दल गंजी परिसर क्षेत्र में एक जर्जर मकान को गिराने को पहुंचा था. इसकी सूचना मिलने पर भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय की नगर निगम कर्मियों से नोकझोंक हो गई और आकाश ने नगर निगम अधिकारी की बल्ले से पिटायी कर दी.

इसे भी पढ़ेंःजमशेदपुर: घाघीडीह सेंट्रल जेल में सुरक्षाकर्मियों के 250 पद स्वीकृत, तैनात सिर्फ 60

Ranchi Police 11/1/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like