न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएम मोदी ने कहा, हिंदुओं के साथ आतंकी शब्द चिपकाने के लिए कांग्रेस ने की साजिश

आतंकियों पर कार्रवाई से खुश होने के बजाय, कांग्रेस के बड़े नेताओं की आंखों में आंसू आ गये थे, मैं पूछना चाहता हूं कि क्या वो शहीदों का अपमान नहीं था.

53

Patna : बिहार के अररिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बटला हाउस कांड को याद करते हुए कांग्रेस पर हमलावर हुए. पीएम मोदी आरोप लगाया कि वोट बैंक की राजनीति उस समय की गयी थी जब दिल्ली के बटला हाउस में हमारे वीरों ने बम धमाकों में शामिल आतंकियों को मारा था, लेकिन आतंकियों पर कार्रवाई से खुश होने के बजाय, कांग्रेस के बड़े नेताओं की आंखों में आंसू आ गये थे, मैं पूछना चाहता हूं कि क्या वो शहीदों का अपमान नहीं था. अपने भाषण में टुकड़े-टुकड़े गैंग का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि किसी भी जाति और पंथ से पहले हम भारतीय हैं, हमारी पहचान भारतीय है. मां भारती की सेवा और साधना की इस भावना के साथ पिछले पांच वर्षों में मैंने आपकी सेवा करने का प्रयास किया है. आज देश में एक तरफ वोटभक्ति की राजनीति चल रही है और दूसरी तरफ राष्ट्रभक्ति की. देशभक्ति जब प्रेरणा देती है तो सबका साथ-सबका विकास सरकार का मंत्र बन जाता है. सबको सुरक्षा-सबको सम्मान प्रतिज्ञा बन जाती है.

इसे भी पढ़ें – जस्टिस रंजन गोगोई पर यौन शोषण का आरोप- कुछ बड़ी साजिश हुई है पर्दे के पीछे

भारत ने आतंकियों को घर में घुसकर मारा

मोदी ने कहा कि 26/11 को मुंबई में आतंकियों ने हमला किया तो कांग्रेस सरकार ने सेना को कुछ भी जवाब देने से मना कर दिया. कांग्रेस ने पाकिस्तान से आये आतंकियों को जवाब देने के बजाय हिंदुओं के साथ आतंकी शब्द चिपकाने के लिए साजिश की. कांग्रेस ने योजना बनाकर जांच की पूरी दिशा बदल दी.  पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार में आतंकवाद के खिलाफ पहले सर्जिकल स्ट्राइक हुई और फिर एयर स्ट्राइक हुई. परिणाम  हुआ कि जो पाकिस्तान पहले चोरी और सीनाजोरी करता था, वो आज दुनिया में जाकर गुहार लगा रहा है.

भारत ने आतंकियों को घर में घुसकर मारा.  कहा कि हमारे जवानों के पराक्रम पर सवाल उठाने वालों को मैं चुनौती देता हूं कि हिम्मत है तो चुनाव में जनता के बीच जाओ और पुलवामा के शहीदों का हमने जो बदला लिया है उसपर चर्चा करके देखो, सेना के पराक्रम पर सवाल पूछकर देखो, मेरी चुनौती है नहीं पूछ पायेंगे.

आरक्षण के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा कि झूठ की राजनीति करने वाले बिहार में अफवाह फैला रहे हैं. वे कह रहे हैं सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए जो 10 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है. वो आरक्षण बाद में खत्म कर दिया जा रहा है. ऐसे झूठ पीढ़ी दर पीढ़ी चल रहे हैं, बाप भी चलाता था, बेटा भी चला रहा है. मैं कहना चाहता हूं कि जो आरक्षण बाबा साहब करके गये हैं उसे कोई हाथ नहीं लगा सकता. अररिया में पीएम मोदी ने कहा कि आपके इस चौकीदार की सरकार में दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ केयर स्कीम आयुष्मान भारत देश में चल रही है.

हर वर्ष गरीबों को पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज मिलना संभव हुआ है. ओडिशा, बिहार, पश्चिम बंगाल, नॉर्थ ईस्ट और सारे क्षेत्रों का विकास मेरा सपना है. हमें मिलकर, एकजुट होकर विकास के संकल्प को सिद्धि तक पहुंचाना है. हमें मिलकर चौकीदारी करनी है.

Related Posts

अमित शाह ने चुनावी रैली में कहा, पंडित नेहरू ने संघर्ष विराम नहीं कराया होता, तो #POK का अस्तित्व नहीं होता

कश्मीर में कोई अशांति नहीं है और आने वाले दिनों में आतंकवाद समाप्त हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें – चुनाव पर्यवेक्षक के निलंबन मामले में घिरता जा रहा है चुनाव आयोग

प्रज्ञा ठाकुर  को भोपाल से उम्मीदवार बनाना एक प्रतीक

इससे पूर्व  पीएम मोदी ने न्यूज चैनल टाइम्स नाउ को दिये स्पेशल इंटरव्यू में आतंकवाद के मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल से टिकट दिये जाने , 1984 के सिख दंगों, समझौता ब्लास्ट से लेकर जस्टिस लोया की मौत तक की घटनाओं का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा.  उन्होंने कहा कि इस तरह के सवाल और विवाद कांग्रेस की मोडस ऑपरेंडी का हिस्सा हैं.  उन्होंने कहा कि समझौता एक्सप्रेस का फैसला आ गया है.  क्या निकला?

पीएम ने कहा, कांग्रेस ने  बिना सबूत के… दुनिया में 5,000 साल तक जिस महान संस्कृति और परंपरा ने वसुधैव कुटुम्बकम का संदेश दिया, सर्वे भवन्तु सुखिन: का संदेश दिया, जिस संस्कृति ने ‘एकम् सद् विप्रा: बहुधा वदन्ति’ का संदेश दिया, ऐसी संस्कृति को आतंकवादी कह दिया.

उन्होंने कहा कि उन सबको जवाब देने के लिए  प्रज्ञा ठाकुर  को भोपाल से उम्मीदवार बनाना एक प्रतीक है और यह कांग्रेस को महंगा पड़ने वाला है.  इंटरव्यू के दौरान पीएम ने कहा, जब 1984 में श्रीमती गांधी की हत्या हुई.  उसके बाद उनके सुपुत्र ने कहा था कि जब एक बड़ा पेड़ गिरता है तो जमीन हिलती है और उसके बाद देश में हजारों सरदारों का कत्लेआम किया गया.  क्या यह टेरर नहीं था? क्या यह निश्चित लोगों का टेरर नहीं था? उसके बाद भी उन्हें प्रधानमंत्री बना दिया गया और उस संबंध में मीडिया ने एक भी सवाल नहीं पूछा.

इसे भी पढ़ें  सीजेआइ पर यौन उत्पीड़न का आरोप, हुई विशेष सुनवाई, बोले गोगोई- कुछ ताकतें सीजेआइ के ऑफिस को निष्क्रिय करना चाहती हैं

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: