न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएम किसान सम्मान निधिः क्या #MODI और #BJP ने देश 5.72 करोड़ किसानों के साथ ठगी की!

1,642

– झारखंड के 11.83 लाख से अधिक किसानों के खाते में नहीं आया है तीसरी किस्त का 2000 रुपये

Surjit Singh

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना. दिसंबर 2018 में इस योजना की धूम थी. वह वक्त था लोकसभा चुनाव-2019 से पहले का. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि देश के किसानों को सम्मान दिया जायेगा. किसानों को प्रति वर्ष तीन किस्तों में 6000 रुपया दिया जायेगा. भाजपा ने इस योजना का खूब प्रचार किया. लोकसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत मिली. इसके बाद मोदी और भाजपा दोनों ने किसानों को भुला दिया.

यह हम नहीं कह रहे. भारत सरकार का ही आंकड़ा बता रहा है. यह आंकड़ा कोई गोपनीय नहीं है. भारत सरकार की साइट पर यह आंकड़ा उपलब्ध है. आप भी देख सकते हैं. आंकड़े देखकर खुद तय करिये कि चुनाव खत्म होने के बाद मोदी सरकार और भाजपा ने कैसे किसानों को भुला दिया.

इसे भी पढ़ें – सिंदरी #MLA फूलचंद मंडल का टिकट रडार पर, सीट के लिए #BJP ने शॉर्टलिस्ट किये पांच नाम

Whmart 3/3 – 2/4

20 सितंबर को साइट पर उपलब्ध आंकड़े के अनुसार 2018 में जब इस योजना की शुरुआत की गई थी, तब सरकार ने देश के 7,14,41,296  किसानों का चयन किया था. जिनके खातों में तीन किस्तों (प्रत्येक किस्त में 2000-2000 रुपया) में 6000 हर साल दिया जाना है. पहली किस्त फरवरी माह में दी गई. जिसमें 6,54,18,886 किसानों के खातों में दो-दो हजार रुपये डाले गये.

योजना के तहत दूसरी किस्त मई माह में किसानों के खातों में डाला गया. आश्चर्यजनक ढंग से दूसरी किस्त की राशि सिर्फ 3,83,16,673 किसानों के खातों में डाले गये. मतलब साफ है, केंद्र की मोदी सरकार ने पहली किस्त में जितने किसानों के खाते में राशि डाले थे, उनमें से 2,71,02,213 किसानों के खाते में दूसरी किस्त की राशि नहीं डाले गये.

इसे भी पढ़ें – न्यूज विंग की खबर पर #INTUC हुआ रेस, #SBC पर कार्रवाई नहीं करने पर कोर्ट में जाने की चेतावनी

अब तीसरी किस्त की बात करें. केंद्र सरकार ने तीसरी किस्त की राशि मात्र 1,41,46,724 किसानों के खाते में डाले. इस आंकड़े से साफ है कि पहली किस्त की राशि जितने किसानों के खाते में डाले गये थे, उनमें से 5,12,72,162 किसानों के खाते में तीसरी किस्त की राशि डाली ही नहीं गयी.

ये आंकड़े क्या कहते हैं. क्या इस योजना को लाने के पीछे की मंशा सिर्फ लोकसभा चुनाव में किसानों को खुश करना था. क्या इसी उद्देश्य से पहली किस्त में 6.54 करोड़ किसानों के खाते में राशि दी गयी. और चुनाव बीतने के बाद सिर्फ 1.41 करोड़ किसानों के खाते में ही पैसे डाले गये.

इसे भी पढ़ें – गोड्डा : #MNREGA में तकनीकी सहायक की नियुक्ति में ‘खेल’, आवेदक ने एक साल में डिप्लोमा से बीटेक तक किया पूरा

तो क्या आने वाले समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा खुद को इस आरोप से बचा पायेगी कि वोट लेने के बाद देश के 5.71 करोड़ किसानों को धोखा दिया गया. जिन किसानों के खाते में अब सम्मान निधि योजना की राशि नहीं डाली जा रही है, क्या अब वह खुद को ठगा महसूस नहीं कर रहे होंगे.

बात झारखंड की करें, तो झारखंड के 13,75,799 किसानों का चयन किसान सम्मान निधि योजना के तहत की गई थी. इसमें से 8,29,494 किसानों को फरवरी माह में पहली किस्त दी गई.

दूसरी किस्त 4,03,912 किसानों के खाते में दी गई. जबकि अगस्त में तीसरी किस्त के 2000 रुपये सिर्फ 1,92,698  किसानों के खाते में डाले गये. तो क्या झारखंड के करीब 11.83 लाख किसानों के साथ धोखा नहीं किया गया. यह आंकड़ा 20 सितंबर को सरकार के साइट पर उपलब्ध है.

इसे भी पढ़ें – #LIC की जमापूंजी भी लुटने की कगार पर, ढाई माह में हुआ 57000 करोड़ का नुकसान

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like