न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शुरु हुई दुर्गा पूजा की तैयारी, खरीददारी में जुटे लोग

बाजार में मंदी का दौर- दुकानदार

201

Ranchi: दुर्गा पूजा को लेकर हर ओर रौनक दिखने लगी है. एक ओर जहां राजधानी पंडालों से सज रही है. वहीं दूसरी ओर बाजार में कपड़ों की खरीदारी को लेकर भी भीड़ देखी जा रही है. लोगों ने पूजा की शॉपिंग शुरु कर दी है. पूजा के एक-दो सप्ताह पूर्व से ही बाजारों में विशेष भीड़ देखी जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः एसबीआई के ग्राहक एटीएम से एक दिन में 40 नहीं, 20 हजार रुपये ही निकाल पायेंगे

दशहरा को लेकर बाजार में कपड़ों के आकर्षक और नये स्टॉक आये हैं. दुकानदारों ने जानकारी दी कि बाजार में पूजा के दस-पंद्रह दिन पूर्व ही नये स्टॉक आ जाते हैं. लोगों के पंसद और फैशन को देखते हुए इस वर्ष बाजार में काफी कुछ नया है. हर आयु वर्ग के लिये काफी कुछ है. फिर भी दुकानदारों में ग्राहकों को लेकर थोड़ी निराशा देखी जा रही है.

बच्चियों के लिये एंजेल फ्रॉक है आकर्षक

बाजार में छोटी बच्चियों के लिये एंजेल फ्रॉक काफी पंसद किया जा रहा है. दुकानदारों ने जानकारी दी कि एंजेल फ्रॉक बच्चियों के लिये काफी पंसद किया जा रहा है. इसमें नेट, जार्जेट आदि कपड़ों से डिजाइन बनाये गये है. वहीं कुछ में कृत्रिम डिजाइन भी देखा जा रहा है. फ्रॉक की कीमत 900 से शुरू होती है. इसे अलावा बच्चियों के लिये डांगरी, बाबा सूट, कैपरी, जींस, प्लाजो भी पंसद किया जा रहा है. जिनकी कीमत 300 से शुरू होती है.

इसे भी पढ़ेंःनीरव मोदी पर ईडी का शिकंजा, भारत समेत पांच देशों में 637 करोड़ की संपत्ति अटैच

डांगरी, गाउन कर रही युवतियां पसंद

बाजार में जींस के डागंरी, युवतियों को काफी आकर्षित कर रहा है. हेवी वर्क से दूर ये डांगरी काफी फैंसी और लाइट वर्क के होते हैं. जो युवतियों को एक अलग लुक देगा. इसकी कीमत 700 से शुरू होती है. इसके साथ ही प्लाजो, गाउन फ्रॉक, पटिया भी काफी पसंद किया जा रहा है. इनके नये स्टॉक मार्केट में उपलब्ध है. गाउन और फ्रॉक में रियोन और नेट के फ्रॉक काफी पसंद किये जा रहे है. इनकी कीमत 1000 से शुरू होती है. फ्रॉक, गाउन और प्लाजो की मांग महिलाओं में भी अधिक है.

थ्री पीस सूट लड़कों को लुभा रहा

छोटे बच्चों और युवकों के लिये बाजार में थ्री पीस सूट उपलब्ध है. जिसमें शर्ट, पैंट या जींस के साथ जैकेट काफी पसंद किया जा रहा है. दुकानदारों ने बताया कि युवकों को ये काफी अलग लुक देता है. थ्री पीस की कीमत 1500 से शुरू होती है. ब्रांड के अनुसार कपड़े की कीमत अलग-अलग है. वहीं कुछ दुकानों से अलग-अलग खरीद कर भी इसके सेट बनाये जा सकते हैं. इसके अलावा जींस, शर्ट, टी शर्ट आदि भी मिल रहा है.

इसे भी पढ़ें-सरकारी बैंकों ने चार साल में वसूले 44,900 करोड़, 316,500 करोड़ बट्टे खाते में डाले

ग्राहकों की कमी देखी जा रही

शहर के अधिकांश दुकानदारों ने बताया कि पिछले कुछ सालों से पूजा के दौरान ग्राहकों की कमी बाजार में देखी जा रही है. दुकानदार मनोज मुंजाल ने बताया कि पहले पूजा के महीनों पहले से लोग खरीदारी करते थे, लेकिन अब लोगों की कम भीड़ बाजार में आती है. वहीं जो आते हैं वो बजट का विशेष ख्याल अधिक रखते हैं. ऐसे में कपड़े के बाजार में पूजा के दौरान मंदी देखी जा रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: