न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू का मोस्ट वांटेड 10 लाख का इनामी नक्सली बिहार से गिरफ्तार

बिहार-झारखंड पुलिस ने की संयुक्त कार्रवाई

115

Palamu: बिहार-झारखंड पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में गया जिला अंतर्गत शेरघाटी अनुमंडल के आमस मठ से 10 लाख रुपये के इनामी माओवादी कुंदन यादव को गिरफ्तार कर पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल की है.  झारखंड सरकार ने गिरफ्तार माओवादी के पर 10 लाख रुपये का इनाम रखा है. पलामू जिले के मनातू थाना क्षेत्र अंतर्गत चक-अदौरिया गांव का निवासी इनामी माओवादी कुंदन यादव अपनी पत्नी का इलाज कराने के लिए आमस मठ पहुंचा था. इसी दौरान इंटेलीजेंस की सूचना पर बिहार और झारखंड पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई की और उसे गिरफ्तार किया. पुलिस की गिरफ्त में आए इनामी माओवादी से औरंगाबाद के मदनपुर थाने में पूछताछ की जा रही है. डीएसपी रविश कुमार ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि इनामी माओवादी से पूछताछ की जा रही है.

रिमांड पर लेगी पलामू पुलिस

कुंदन को पलामू पुलिस रिमांड पर लेगी. कुंदन यादव से पूछताछ के लिए पलामू पुलिस गया में कैम्प कर रही है. बता दें कि कुंदन यादव जून 2016 में गया, औरंगाबाद में कोबरा टीम पर हमले का मुख्य आरोपी है. इस हमले में कोबरा के 10 जवान शहीद हुए थे. कुंदन माओवादियों के लिए लैंड माइंस एक्सपर्ट और हथियार एक्सपर्ट था.

पलामू जिले में कई बड़ी घटनाओं में शामिल रहा है कुंदन

पुलिस के मुताबिक मनातू थाना क्षेत्र निवासी ये इनामी माओवादी कई बड़ी घटनाओं में शामिल रहा है.  झारखंड के विभिन्न थाना में उसके खिलाफ दो दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं. इसी मामले को लेकर मदनपुर थाने में उससे पूछताछ की जा रही है. पूछताछ के दौरान कई अहम सुराग मिलने की बात कही जा रही है.

15 सालों से संगठन से जुड़ा था

गिरफ्तार इनामी माओवादी पिछले 15 सालों से संगठन में सक्रिय था. इनामी माओवादी के खिलाफ हत्या, आगजनी, हत्या के प्रयास, पुलिस वाहन उड़ाने जैसे दो दर्जन से ज्यादा मुकदमे झारखंड के विभिन्न थानों में दर्ज हैं. बताया जाता है कि गिरफ्तार माओवादी संगठन की क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ बेहतर रणनीति बनाने में भी दक्ष था.

केन्द्र सरकार के खुफिया विभाग की सूचना पर हुई कार्रवाई

सोर्स बता रहे हैं कि केन्द्र सरकार के खुफिया विभाग के एक बड़े अधिकारी को सूचना मिली कि झारखंड राज्य का 10 लाख का इनामी माओवादी आमस मठ में अपनी पत्नी का इलाज करा रहा है. इस आधार पर बिहार-झारखंड की पुलिस ने संयुक्त रूप से घेराबंदी की और पत्नी का इलाज करा रहे माओवादी को धर दबोचा.  कार्रवाई में डीएसपी रवीश कुमार और आमस थानाध्यक्ष सहित आधा दर्जन अधिकारी मौजूद थे. गिरफ्तार कुंदन यादव के खिलाफ औरंगाबाद जिले के विभिन्न थाना में ग्यारह मुकदमे दर्ज हैं. जिसमें मदनपुर में पांच, नवीनगर में एक, देव में दो, सलैया में एक और ढिबरा थाना में भी एक मुकदमा दर्ज है. दूसरे थानों का भी रिकार्ड खंगाला जा रहा है. पलामू जिले के मनातू थाना में भी कई आपराधिक मामले दर्ज होने की सूचना है.

मध्य जोन का बड़ा कमांडर है कुंदन

झारखंड पुलिस ने डेढ़ साल पहले कुंदन यादव की लगभग एक करोड़ रुपए से भी अधिक की संपत्ती को जब्त किया था. कुंदन यादव झारखंड बिहार में कई बड़े नक्सल हमले का आरोपी है. कुंदन माओवादियों के मध्य जोन का बड़ा कमांडर है. उसकी गिरफ्तारी से बिहार-बिहार सीमावर्ती क्षेत्र में माओवादियों को बड़ा झटका लगा है.

इसे भी पढ़ेंः  रामगढ़ में कोयला व्यापारी की गोली मारकर हत्या, पुलिस की जांच जारी

इसे भी पढ़ेंः लोहरदगा :  माओवादियों का शहीद सप्ताह 8 दिसंबर तक, पुलिस अलर्ट

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: