JharkhandPalamu

पलामू : कोरोना वायरस से लड़ाई में अब मुखिया, वार्ड सदस्य, वार्ड पार्षद की भूमिका होगी अहम, उपायुक्त ने वीसी कर दिये निर्देश

Palamu :  कोरोना संक्रमण से मुक्ति के लिए पलामू जिले में पंचायत प्रतिनिधियों को जवाबदेह बनाने बनाया जा रहा है. जिले के उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि ने आज इस सिलसिले  पंचायत प्रतिनिधियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की औऱ उन्हें प्रवासी श्रमिक व विद्यार्थियों की स्टम्पींग व क्वारेंटाइन करवाना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया. बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्तियों की सूचना देने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ेंः मदर्स डे पर जानिये इस मां शकुतंला को, जिसने 1000 किमी चलने के दौरान बच्चे को जन्म दिया

उपायुक्त ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार को देखते हुए जिले के वैसे मजदूर, जो रोजगार के लिए दूसरे राज्यों, जिलों में प्रवास के लिए चले गये हैं, उन प्रवासी मजदूरों व विद्यार्थियों की वापसी लगतार जारी है. सरकारी व प्रशासनिक व्यवस्था तथा वे स्वयं भी वापस आ रहे हैं. इस घड़ी में मुखिया, वार्ड सदस्यों की जिम्मेदारी बढ़ गयी है.

Catalyst IAS
SIP abacus

पंचायत, वार्ड की सुरक्षा, स्वच्छता, स्वस्थता मुखिया, वार्ड सदस्य, वार्ड पार्षदों के हाथ में है. पंचायत का भविष्य उनके हाथ में सुरक्षित है. होम क्वारेंटाइन किये जाने वाले व्यक्ति अपने घर में ही रहें, इसे सुनिश्चित करें. सामाजिक दबाव बनाकर व्यक्ति को होम क्वारेंटाइन में रखा जाना स्थानीय तौर पर कोविड-19 से इलाके को सुरक्षित रखे जाने का सबसे आसान तरीका है.

Sanjeevani
MDLM

इसे भी पढ़ेंः #E-Pass वेबसाइट से गिरिडीह के लोगों को बड़ी मुश्किल से मिल रहा लाभ, साइट खुलने में भी परेशानी

बाहर से 10 हजार लोग पहुंचे हैं अभी तक

उपायुक्त ने कहा कि दूसरे राज्यों, जिलों से करीब 10 हजार लोग पलामू जिले में आये हैं. इसमें 70 प्रतिशत लोग रेड जोन से आने वाले हैं. ऐसे श्रमिक, विद्यार्थियों को क्वारेंटाइन करवाया जा रहा है. कोविड-19 के लक्षण वाले एवं रेड जोन से आने वाले व्यक्तियों को सरकारी क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है, जबकि अन्य व्यक्तियों को होम क्वारेंटाइन में रखा जा रहा है.

क्वारेंटाइन वाले व्यक्तियों के हाथों पर स्टंपींग की जा रही है कि उन्हें इस तिथि तक होम क्वारेंटाइन में रहना है. मुखिया, वार्ड सदस्य, वार्ड पार्षद स्थानीय निवासियों के सहयोग से यह सुनिश्चित करें कि होम क्वारेंटाइन वाले व्यक्ति अपने घरों में ही रहें एवं बाहर आवागमन नहीं करें. आवश्यक वस्तुओं-सामग्रियों की उपलब्धता के लिए पलामू जिला प्रशासन की ओर से घर तक पहुंचवाने की व्यवस्था की गयी है.

उपायुक्त ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों को निदेशित किया कि होम क्वारेंटाइन में रखे जाने वाले व्यक्तियों की सूची क्षेत्र के मुखिया व वार्ड सदस्यों को उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराएं, ताकि बाहर से आने वाले प्रवासी व्यक्ति को होम क्वारेंटाइन में ही रखा जा सके. उन्होंने कहा कि प्रखंड विकास पदाधिकारी मुखिया व वार्ड सदस्यों आपस में समन्वय रखें और बाहर से आने वाले व्यक्तियों का स्टम्पींग करवाना जरूर सुनिश्चित करें.

आरोग्य सेतु  एप करवाएं डाउनलोड

उपायुक्त ने कहा कि होम क्वारेंटाइन वाले सभी श्रमिक, विद्यार्थियों को आरोग्य सेतु एप्प डाउन लोड करवाना सुनिश्चित करें. सरकार द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों की सुरक्षा के लिए कोरोना टैकिंग आरोग्य सेतु एप्प जारी किया है.

एप्प का इस्तेमाल स्मार्टफोन के यूजर ही कर सकते हैं. जिन व्यक्तियों के पास र्स्माटफोन- एन्डॉयड फोन नहीं है, उनके लिए आरोग्य सेतु आईवीआरएस  सेवा शुरू की गयी है. इस सेवा से वैसे लोग जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं है वे भी इससे जुड़ सकते हैं, उन्हें टॉल फ्री नंबर 1921 पर मिस्ड कॉल करना होगा. वैसे व्यक्ति जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं है, उनसे टॉल फ्री नंबर 1921 पर मिस्ड कॉल करवाना सुनिश्चित करें.

बता दें कि मिस्ड कॉल के बाद यूजर्स के पास कॉल बैक आएगा और उनके सेहत से जुड़ी जानकारी पूछी जाएगी. सवालों के जवाब के आधार पर व्यक्तियों को एसएमएस प्राप्त होगा, जिसमें उनके हेल्थ स्टेटस से जुड़ी जानकारी मिलेगी. आरोग्य सेतु की तरह ही यह सर्विस 11 क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है.

इसे भी पढ़ेंः #CoronaUpdates: हजारीबाग में कोरोना संक्रमण का नया केस मिला, झारखंड में मामले हुए 157

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button