न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक लाख नौकरी का दावाः एक महीने बाद भी कितनों ने किया ज्वाइन, सरकार के पास नहीं आंकड़ा

1,216

-10 जनवरी को ही बांटा था ज्वाइनिंग लेटर
-84,458 युवाओं को सिर्फ 12 हजार तक की नौकरी वो भी दूसरे राज्यों में
-मिशन निदेशक बोले ज्वाइनिंग करने वालों का आंकड़ा दे पाना मुश्किल, बहुत जल्दबाजी

Ranchi: सरकार ने 10 जनवरी 2019 को एक लाख छह हजार युवाओं को नौकरी दी. वाकई सरकार का ये बहुत बड़ा कदम है. कौशल विकास विभाग के लिए एक उपलब्धि भी. सरकार के इस कदम को पूरे देश ने सराहा. अब सरकार के उस कदम को एक महीने बीत गए, लेकिन अबतक कितने युवाओं ने नौकरी ज्वाइन की, सरकार के पास इसका आंकड़ा नहीं है. किस कंपनी में नौकरी दी गयी ये भी बता पाने में कौशल विकास नाकाम है.

पिछले साल भी सरकार ने 27 हजार युवाओं को नौकरी देने का दावा किया था. लेकिन ज्वाइनिंग मात्र छह हजार लोगों ने की थी. जिन्होंने किया उसमें से भी कई वापस आ गए थे. इस बार एक महीने हो जाने के बाद भी अभी तक कौशल विकास विभाग के पास इसका आंकड़ा नहीं है कि कितने युवाओं ने नौकरी की ज्वाइनिंग की.

बेरोजगारी भत्ता की मांग पर कहा- हाल ही में एक लाख को दी नौकरी

विधानसभा सत्र के दौरान, जब सत्ता पक्ष की विधायक विमला प्रधान, राज सिन्हा और कांग्रेस की विधायक गीता कोड़ा ने विभिन्न सवालों के जरिए बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने का मांग की. इस पर सरकार ने अपने जवाब में कहा कि सरकार के पास बेरोजगारी भत्ता देने का कोई प्रावधान नहीं है. सरकार बेरोजगारों के लिए नौकरी की व्यवस्था कर रही है. हाल ही में एक लाख छह हजार युवाओं को नौकरी दी गई है. ये निरंतर प्रक्रिया है आगे भी नौकरी दी जाएगी.

मिशन निदेशक बोले ज्वाइनिंग करने वालों का आंकड़ा दे पाना जल्दबाजी

SMILE

कौशल विकास के मिशन निदेशक रवि रंजन से जब युवाओं से संबंधित आंकड़ा नहीं होने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा किसी भी आंकड़ा रखने के लिए ये बहुत जल्दबाजी होगी.

बता दें कि सरकार ने अपने तय समय से दो दिन पहले तक अपने टारगेट से 18 हजार पीछे थी, 10 जनवरी को टारगेट से छह हजार अधिक युवाओं को नौकरी दे देने का दावा सरकार के विभाग ने किया है. मतलब ये कि महज दो दिनों में ही सरकार ने 24 हजार युवाओं को नौकरी का ऑफर दिया.

84,458 युवाओं को 8-12 हजार की नौकरी, अधिकतर को नौकरी दूसरे राज्यों में

सरकार ने 1लाख 6 हजार 619 युवाओं को नौकरी देने का दावा किया है. जिसमें से 8 से 12 हजार तक की सैलरी में 84,458 युवाओं को नौकरी मिली है. इनमें भी आधे से अधिक युवाओं को महज इतनी सैलरी में ही दूसरे राज्यों में पलायन करना पड़ा है. अगर ऐसा है तो युवाओं के रहने और खाने में ही इतने से अधिक खर्च हो जाएगा. उन्होंने कहा कि 8 हजार से कम सैलरी में 25,172 युवाओं को ऑफर दिया गया. वहीं 8 से 10 हजार तक 41 हजार युवाओं को नौकरी मिली. वहीं 12 हजार तक 18हजार युवाओं को नौकरी देने का दावा सरकार ने किया है.

इसे भी पढ़ेंः राजस्व और इंजीनियर की कमी से जूझ रहा RRDA, योजनाओं की प्लानिंग व मॉनिटरिंग प्रभावित

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: