न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नरेंद्र मोदी ने कहा, प्रधानमंत्री आवास योजना गरीबी के विरुद्ध सरकार का संघर्ष    

जनजाति बहुल नंदुरबार जिले के लोगों से बातचीत करते हुए मोदी ने स्मरण किया कि कैसे वह एक समय वहां जाया करते थे और उन्होंने चौधरी की चाय पी.  

72

Shirdi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) गरीबी हटाने की उनकी सरकार की कोशिश है और उन्होंने योजना के लाभार्थियों से अपनी अगली पीढ़ियों को शिक्षा के माध्यम से सशक्त बनाने की अपील की. वह अहमदनगर जिले में मंदिर नगरी शिरडी से वीडियो काफ्रेंस के माध्यम से महाराष्ट्र के पीएमएवाई लाभार्थियों से बातचीत कर रहे थे. मोदी ने कहा कि इस योजना के तहत जिन लोगों को पक्का मकान मिला है, उन्हें आयुष्मान भारत स्वास्थ्य योजना का भी लाभ लेना चाहिए. उन्होंने कहा, आपको मेरा पत्र मिलेगा.  यदि आप इसे अस्पताल में देंगे, तो आपको गोल्ड कार्ड मिलेगा.  उसके माध्यम से आप अपने परिवार के सदस्यों को (जरुरत पड़ने पर) अस्पताल में भर्ती कराने की सहायता पा सकते हैं.  गंभीर बीमारियों के लिए पांच लाख रुपये प्रति वर्ष प्रति परिवार मिलेंगे.

लाभार्थियों से ज्यादातर मराठी में संवाद करते हुए मोदी ने उनसे पूछा कि क्या पीएमएवाई के तहत मकानों की गुणवत्ता अच्छी है, क्या उन्हें मकानों के वास्ते पैसे हासिल करने में किसी को रिश्वत देनी पड़ी. जब लाभार्थियों ने इन प्रश्नों का ना में जवाब दिया तब उन्होंने कहा कि राजग शासन में बिचौलिये असहाय हो गये हैं. जनजाति बहुल नंदुरबार जिले के लोगों से बातचीत करते हुए मोदी ने स्मरण किया कि कैसे वह एक समय वहां जाया करते थे और उन्होंने चौधरी की चाय पी.

इसे भी पढ़ें –  धू…धू…कर जल रहा था रावण, पटाखों के शोर के बीच ट्रेन की चपेट में आये 61 लोगों की मौत, 50 से अधिक घायल

आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि आपकी अगली पीढ़ी शिक्षा हासिल करे

उन्होंने कहा कि जिस तरह वह मराठी बोलते हैं, नंदुरबार जिले के लोग उसी तरह गुजराती बोल सकते हैं, (क्योंकि)  आखिरकार आप हमारे बड़े पड़ोसी हैं. उन्होंने एक लाभार्थी अहिल्या पड़वी से पूछा कि क्या वह अपने नये मकान में और आंगुतकों का स्वागत कर पायेंगी. जब मोदी ने ठाणे की महिला लाभार्थियों से पूछा कि उनमें से कितनी पढ़ी-लिखी हैं तो उनमें से केवल एक ने अपना हाथ उठाया. इस पर उन्होंने कहा,आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि आपकी अगली पीढ़ी शिक्षा हासिल करे.  यह आवास योजना गरीबी के खिलाफ एक संघर्ष है और नये मकानों के साथ आप आयुष्मान भारत योजना के तहत स्वास्थ लाभ भी पा सकते हैं. शोलापुर की लाभार्थियों से जब प्रधानमंत्री ने पूछा कि क्या मकान का स्वामित्व महिलाओं को देने से पुरुष नाराज हैं तो उस पर महिलाओं ने कहा कि यह एक अच्छा निर्णय है. सतारा के लाभार्थियों से संवाद करते हुए उन्होंने कहा कि उनका इस जगह से विशेष संबंध है क्योंकि उनके शिक्षक लक्ष्मण नामदार वहीं के हैं.

इसे भी पढ़ें – राफेल डील : जेटली-राहुल के बीच जुबानी जंग तेज, बात बातूनी ब्लॉगर, विदूषक युवराज तक पहुंची 

प्रधानमंत्री ने दस लाभार्थियों को प्रतीकात्मक चाबियां सौंपीं

उन्होंने लातूर के लोगों से भी पूछा कि क्या उन्हें सरकार की आयुष्मान भारत योजना और स्वच्छता अभियान के बारे में पता है.  उन्होंने उनसे अपने गांवों में इन योजनाओं को बढ़ावा देने को कहा. यह वार्तालाप पीएमएवाई के 40,000 लाभार्थियों के लिए ई-गृह प्रवेश समारोह के तहत आयोजित किया गया.  उससे पहले प्रधानमंत्री ने दस लाभार्थियों को प्रतीकात्मक चाबियां सौंपीं. मोदी ने मंदिर न्यास द्वारा शुरु की गयी 475 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं का शुभारंभ किया और साईबाबा की महासमाधि के शताब्दी कार्यक्रम में हिस्सा लिया. इस मौके पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि शुक्रवार को ढाई लाख लाभार्थियों को पीएमएवाई के तहत मकानों का स्वामित्व मिला.  राज्य छह लाख और मकान चाहता है और यदि ये आवंटित हुए तो सरकार अगले साल अक्टूबर तक इन्हें बनाकर तैयार कर देगी. उन्होंने कहा, साढ़े चार लाख मकानों का निर्माण चल रहा है और वह इस साल दिसंबर तक बनकर तैयार हो जायेंगे.

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: