West Bengal

#BJP के खिलाफ बोलने वालों पर देशद्रोह का मामला दर्ज कर रही है मोदी सरकार : अभिषेक मनु सिंघवी

विज्ञापन

Kolkata : कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने केंद्र सरकार पर देश में लोकतांत्रिक अधिकारों को खत्म करने का आरोप लगाया है. शनिवार को कोलकाता स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय विधान भवन में मीडिया से करते हुए उन्होंने कहा कि आज जो भी भाजपा के खिलाफ बोलता है उसके खिलाफ देशद्रोह के मामले दर्ज कराये जा रहे है। अगर आज स्टालिन जिंदा होते तो खुश होते क्योंकि भारत उन्हीं की राह पर चल पड़ा है. कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने लोकतांत्रिक मूल्यों को शर्मसार किया है.  सिंघवी ने कहा कि वर्तमान सरकार के नेतृत्व में देश भर में डाटा प्रोटेक्शन एक्ट से खिलवाड़ हो रहा है.

इसे भी पढ़ें : #International_Judicial_Conference में कानून मंत्री ने कहा, शासन की जिम्मेदारी निर्वाचित प्रतिनिधियों पर छोड़ देनी चाहिए

जेएनयू के छात्रों पर देशद्रोह का मामला क्यों?

2016 से डेटा रोटेक्शन बिल पर बात चल रही थी लेकिन चार साल बाद खोदा पहाड़ निकला चूहा. अकबरुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के मंच से एक लड़की द्वारा पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाये जाने के परिपेक्ष्य में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे वालों का मैं समर्थन नहीं करता लेकिन क्या सब के खिलाफ देशद्रोह का मामला चलाया जायेगा? सीएए के विरुद्ध प्रदर्शन करने, जेएनयू के छात्रों पर देशद्रोह का मामला क्यों?

इसे भी पढ़ें : #AIMIM नेता वारिस पठान पर एफआइआर दर्ज, भड़काऊ बयान के खिलाफ एक्शन

भाजपा के लोग देशद्रोह का मामला  दर्ज करवा रहे हैं

सिंघवी ने कोर्ट के एक आदेश का जिक्र करते हुए कहा कि 1962 में केदारनाथ मामले में न्यायालय ने कहा था कि केवल बोलने से नहीं होता देशद्रोह का मामला. भाजपा के लोग देशद्रोह का मामला  दर्ज करवा रहे हैं. आंकड़ों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 2014 में 47, 2015 में 20, 2016 से 2018 में 156 और 2019 से अबतक 194 देशद्रोह के मामले दर्ज हुए हैं. यह शर्मनाक है, ब्रिटिश शासन में भी इतने मामले दर्ज नहीं हुए. सिंघवी ने प्रधानमंत्री पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी जी की सबसे बड़ी उपलब्धि है कि हर देश हमारे ऊपर सवाल खड़ा कर रहा है, हमारी निंदा कर रहा है.

पाकिस्तान को वर्तमान सरकार ने बोलने का मौका दिया. पाकिस्तान सवाल खड़ा कर रहा है हमारे सेक्युलर होने पर. आज देश की अर्थव्यवस्था अथवा बेरोजगारी पर बात नहीं होती. 36 घंटे बाद बजट पर चर्चा नहीं होती. केवल सीएए और एनआरसी पर बात हो रही है. आखिर ऐसे माहौल के लिए कौन जिम्मेदार है? उन्होंन दावा किया कि जम्मू कश्मीर में 2.4 बिलियन डॉलर का आर्थिक नुकसान हुआ हैं.

इसे भी पढ़ें : #Shaheen_Bagh_ Protesters नरम हुए, वार्ता के बाद नोएडा-फरीदाबाद जाने वाला एक रास्ता खोला

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close