JharkhandOFFBEATRanchi

उदास चेहरों पर मुस्कान लाने के लिए शुरू हुआ ‘मिशन स्माइल’, आप भी बंटा सकते हैं हाथ

  • ठंड में गर्म कपड़े और मार्च से बच्चों को किताबें दी जायेगी
  • जिले में 22 जगहों पर सेंटर बनाये गये हैं, सभी सेंटरों के कपड़े सर्किट हाउस में जमा किये जा रहे
  • 10 लाख जरूरतमंदों को मदद करने की है प्लानिंग, अन्य जिलों के जरूरतमंद भी ले सकते है लाभ

Ranchi: रांची जिला प्रशासन और चेंबर ऑफ कॉमर्स की ओर से अनूठी पहल की गयी है. ये पहल जरूरतमंदों को गर्म कपड़े उपलब्ध कराने की है. इस मिशन का नाम ‘मिशन वन मिलियन स्माइल्स’ रखा गया है. मिशन की औपचारिक शुरुआत रांची डीसी ने पिछले दिनों की.

चेंबर से जानकारी मिली की जिले के कुछ प्रतिष्ठानों को इसके लिये सेंटर बनाया गया है जिनकी संख्या लगभग 22 है. इन सेंटरों पर लोग जरूरतमंदों के लिए कपड़े दे सकते हैं. वहीं रांची सर्किट हाउस में इन सभी कपड़ों को इकट्ठा किया जा रहा है, जहां से जरूरतमंदों को बांटा जायेगा.

हालांकि कोई जरूरतमंद या चाहे तो सेंटरों से भी ले सकते है. वहीं इच्छुक व्यक्ति भी कपड़े लेकर लोगों को दे सकते हैं. चेंबर अध्यक्ष कुणाल आजमानी ने बताया कि रांची डीसी के साथ मिलकर ऐसे काम किया जा रहा है.

अन्य जिलों में अगर लोगों को जरूरत हो तो उन्हें गर्म कपड़े दिये जायेंगे. कुणाल ने कहा कि मिशन जरूरतमंदों के लिए है. ऐसे में अधिक से अधिक लोगों को गर्म कपड़े उपलब्ध कराये जायेंगे.

इसे भी पढ़ें:अवैध बालू लदे एक हाइवा और छह 407 ट्रक जब्त

22 जगहों पर किया जा रहा इक्ठ्ठा

मिशन के तहत रांची जिले में 22 जगहों में गर्म कपड़े इकठ्ठे किये जा रहे हैं, जिनमें स्पाइकर, वीएलसीसी, फिरायालाल, लुक्स सैलॉन, मारूति हाउस, पेपे, आसियाना, स्प्रिंग सिटी मॉल, फर्स्ट क्राइ मॉरीशस बेकरी के सभी प्रतिष्ठान, हील व्यू अस्पताल, प्रेमसंस, मेन रोड गुरुद्वारा, विशालाक्षी बैंक्वेट, लालजी हीरजी रोड समेत अन्य जगह हैं.

मार्च के बाद किताबों में होगा काम: कुणाल ने बताया कि ये मिशन सिर्फ गर्म कपड़ों के लिये नहीं है. ये मिशन आगे भी चलेगी. मार्च में बच्चों के लिये किताबों पर काम किया जायेगा. कई बच्चें होते है जिनके पास किताबें नहीं होती. ऐसे में उन्हें किताब दिलाने पर काम किया जायेगा. ये मिशन मार्च से मई तक चलाने की योजना है. इसके बाद आगे की रणनीति बनायी जायेगी.

इसमें चेंबर और जिला प्रशासन के साथ कुछ और संगठन भी सहयोग कर रहे है. जिसमें ओल्ड जेवियर ग्रुप, ऑटोमोबाइल्स एसोसिएशन, जेसिया, बिल्डर एसोसिएशन समेत कई सेक्टरों के उद्यमियों को जोड़ा गया है.

इसे भी पढ़ें: कभी 12 से कम मंत्रियों के होने को असंवैधानिक बतानेवाले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आज खुद 10 सदस्यीय मंत्रिमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं: भाजपा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: