NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोरंगा बस्ती के लोग आज भी खुले में कर रहे शौच, निगम ने किया ओडीएफ घोषित

137

Dhanbad :  नगर निगम पिछले साल 2 अक्टूबर को ही ओडीएफ घोषित कर दिया है, यानी खुले में शौच मुक्त. लेकिन शहर के बीचोबीच एक दलित बस्ती में आज भी शौचालय के अभाव में दर्जनों गरीब दलित परिवार खुले में शौच जाने को विवश हैं. जिला मुख्यालय और नगर निगम कार्यालय से महज़ 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित धैया का कोरंगा दलिल बस्ती व मंडल बस्ती है. इस बस्ती में दो हजार से ज्यादा परिवार रहते हैं. कुछ लोगों को शौचालय का लाभ दिया गया, लेकिन किसी कारण एक ही किस्त मिलकर रह गई. जिससे वे लोग शौचालय को अधूरा बनाकर ही छोड़ दिया.

इसे भी पढ़ें-  नक्सलियों का उत्पात, तीन बॉक्साइट ट्रक व एक जेसीबी गाड़ी जलाया, ठेकेदार को बेरहमी से पीटा

आशियाने के अभाव में झोंपड़ी में गुजारा करने को मजबूर

वहीं दूसरी किस्त पाने को लेकर लाभुकों ने निगम कार्यालय का कई चक्कर लगाया, लेकिन इससे कोई लाभ नहीं मिलता देख थक हारकर छोड़ दिया. बता दें कि ये लोग दूसरे के घरों में साफ़ सफाई और मजदूरी कर परिवार वालों का भरण पोषण करते हैं. लेकिन शहर की वीआईपी कॉलोनियों की तरह इन्हें सुख- सुविधा नसीब नहीं है. कोई आशियाने के अभाव में झोंपड़ी में गुजारा करने को मजबूर हैं तो दूसरी ओर शौचालय के अभाव में दर्जनों दलित और पिछड़ी जाति के महिलाएं और पुरुष अभी भी खुले में शौच जाने को विवश हैं. लेकिन असल सवाल ये है कि पिछले 2 अक्टूबर को पूरे ताम झाम के साथ सांसद, विधायक और मेयर की मौजूदगी मे निगम के ओडीएफ फ्री होने कि घोषणा अब तक जमीनी सच्चाई नहीं बन पाई है.

इसे भी पढ़ें- घाघरा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा किया गया था दमन : फैक्ट फाइंडिंग टीम

बस्‍ती के लोगों ने कहा : चुनाव के समय ही आते हैं याद

madhuranjan_add

जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों द्वारा शौचालय का इस्तेमाल करने की समूहिक शपथ के साथ ये भूल गए कि जिन गरीबों के पास ये सुविधा नहीं उनकी खोज खबर कौन लेगा. वहीं बस्ती के लोगों ने कहा कि दलित पिछड़ो की बस्ती  याद विधायक, सांसद को सिर्फ चुनाव के समय ही आती है. ग़ौरतलब है कि  नगर निगम ने पिछले 2 अक्टूबर 17 को ही अपने सभी 55 वार्ड को पूरी तरह ओडीएफ फ़्री होने की घोषणा की थी. लेकिन तीन माह बीतने के बाद ये दावा हक़ीक़त नहीं बन पाई. धैया कोरंगा हरिजन बस्ती का आंगनबाड़ी केंद्र भी शिक्षक के अभाव 6 माह में बेकार पड़ा है.

मेयर शेखर अग्रवाल का कहना है कि जिन्हें  शौचालय का लाभ नहीं मिला है  उन्‍हें जल्द ही  इसका लाभ दिया जाएगा और जिन लाभुकों को एक किस्त मिला है उसे भी जल्द दे दिया जाएगा, ताकि वे लोग शौचालय निर्माण कर सके, साथ ही जिन लोगों के पास जमीन रहते  पक्का मकान नहीं है उन्हें पीएम आवास योजना  का लाभ दिया जाएगा.

चंद्रशेखर अग्रवाल, मेयर धनबाद 

इसे भी पढ़ें- क्या सरकार नहीं चाहती कि बनें और धोनी? चार साल बीतने को हैं, फिर भी नहीं बन सकी खेल नीति

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: