JharkhandJharkhand Vidhansabha ElectionRanchi

#JharkhandElection: पहले चरण में 6 अति नक्सल प्रभावित जिलों में चुनाव, पिछले 9 महीनों में इन जिलों से आ चुके हैं 114 नक्सल मामले

Ranchi: झारखंड में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 6 अतिनक्सल प्रभावित जिलों चतरा, गुमला, लोहरदगा, लातेहार, पलामू और गढ़वा के 13 विधानसभा सीटों पर 30 नवंबर को चुनाव होना है.

इन अति नक्सल प्रभावित जिलों से पिछले 9 महीने में 114 छोटी-बड़ी नक्सल मामले सामने आ चुके हैं. जिलों में शांतिपूर्ण चुनाव कराना सुरक्षाबलों के लिए चुनौती होगी.

कहां से कितने नक्सल मामले आये सामने

अतिनक्सल प्रभावित जिला चतरा, गुमला, लोहरदगा, लातेहार, पलामू और गढ़वा जिले से 114 छोटे-बड़े नक्सल मामले सामने आ चुके हैं. जिनमें चतरा से 27, गुमला 9, लोहरदगा 10, लातेहार 28, पलामू 31 और गढ़वा से 9 मामले इस वर्ष जनवरी से लेकर सितंबर तक सामने आ चुके हैं.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें- सरयू राय ने जमशेदपुर प. के साथ-साथ रघुवर के विधानसभा क्षेत्र जमशेदपुर पू. का भी नामांकन पत्र खरीदा, बढ़ेगी CM की मुश्किलें

जानिये किन विधानसभा क्षेत्रों में है नक्सलियों का प्रभाव

  • पलामू जिला के पांकी और छतरपुर, विश्रामपुर और हुसैनाबाद विधानसभा क्षेत्र में नक्सलियों का प्रभाव है. डालटेनगंज विधानसभा में नक्सलियों की सक्रियता नहीं के बराबर है.
  • गढ़वा जिला के दो विधानसभा क्षेत्र गढ़वा और भवनाथपुर में नक्सलियों की सक्रियता नहीं है.
  • चतरा जिले के चतरा विधानसभा में नक्सलियों का प्रभाव है.
  • लातेहार जिले के मनिका और लातेहार विधानसभा में नक्सलियों की सक्रियता है.
  • गुमला जिले के गुमला और बिशनपुर विधानसभा क्षेत्र में नक्सलियों की सक्रियता है.
  • लोहरदगा जिले के लोहरदगा विधानसभा में नक्सलियों की सक्रियता है.

विधानसभा चुनाव से पहले विस्फोटक हो रहे हैं बरामद

झारखंड विधानसभा चुनाव में अब महज कुछ दिन बाकी रह गये हैं. जिसके चलते झारखंज पुलिस काफी सतर्क दिखाई दे रही है. जहां एक तरफ विधानसभा चुनाव की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है, वहीं नक्सली चुनाव में विघ्न डालने की तैयारियों में हैं.

दूसरी तरफ पुलिस भी कार्रवाई करते हुए नक्सलियों के द्वारा छिपाकर रखे गये  विस्फोटक बरामद कर रही है. हाल के दिनों में पुलिस के द्वारा लातेहार पलामू और चतरा में विस्फोटक बरामद किया गया है. बरामद हुए विस्फोटक के मामले में पुलिस ने आशंका जतायी है कि चुनाव में कोई बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए विस्फोटक रखा गया था.

इसे भी पढ़ें- #EconomicSlowdown बिजली की खपत में कमी आने से बंद हो गये देश के 133 थर्मल पावर स्टेशन!

जानिए किन जिलों में कौन-कौन नक्सली और नक्सली संगठन है सक्रिय

  • गुमला: बलराम और सुदर्शन.
  • लातेहार: रविंद्र गंझू, राजेश गंझू, गोबिंद लोहरा, मुनेश्वर गंझू और अघनू गंझू, छोटू खेरवार.
  • चतरा: आलोक यादव, सहदेव यादव, विक्की सिंह और छोटू सिंह.
  • पलामू: अभिजीत यादव उर्फ बनवारी उर्फ महावीर, प्रसाद उर्फ सुजीत यादव और मुरारी सिंह खरवार.
  • लोहरदगा: रविंद्र गंझु.
  • गढ़वा: बुढ़ापहाड़ इलाके में छतीसगढ़ के माओवादी कैडर कैंप कर रहे हैं.
  • चतरा- टीपीसी, भाकपा माओवादी, जेजेएमपी.
  • लातेहार- भाकपा माओवादी, जेजेएमपी, टीपीसी.
  • पलामू- भाकपा माओवादी, टीपीसी, जेजेएमपी.
  • गढ़वा- भाकपा माओवादी.
  • गुमला- भाकपा माओवादी, पीएलएफआइ.

नक्सल प्रभावित जिलों की तैयारी

कम्युनिकेशन ग्रिड

सुरक्षाबलों के बीच संवाद स्थापित करने के लिए कम्युनिकेशन ग्रिड स्थापित किया गया है. झारखंड में माओवादी दूसरे राज्यों से आकर चुनाव को प्रभावित न करें, इसके लिए समन्यव समिति की लगातार बैठक हो रही है.

नक्सल अभियान

राज्य पुलिस व केंद्रीय बल चुनाव से पहले नक्सलियों के विरुद्ध अभियान चला रही है. जिलों के एसपी को पड़ोसी राज्यों की पुलिस के साथ समन्वय स्थापित कर अभियान चलाने का निर्देश है.

इसे भी पढ़ें- बिहार के मोतिहारी में NGO के किचन में बॉयलर फटने से चार की मौत, पांच घायल

Related Articles

Back to top button