JharkhandRanchi

 झारखंड : सातवें चरण के चुनाव में 37,398 जवान संभालेंगे सुरक्षा की कमान

Ranchi : 19 मई को होनेवाले देश के सातवें चरण (झारखंड के चौथे चरण) के चुनाव के तहत झारखंड के संथाल परगना की तीन लोकसभा संसदीय सीटों दुमका, गोड्डा और राजमहल में शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव कराने को लेकर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गये हैं.

राजमहल में 2024, दुमका 1891 और गोड्डा में 2347 बूथों पर मतदान होना है. जहां तीनों लोकसभा संसदीय सीट के शहरी क्षेत्रों में 489 बूथों पर मतदान होगा वहीं ग्रामीण क्षेत्रों के 5769 बूथों मतदान किया जाएगा. चुनाव के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कुल 37398 जवान तैनात रहेंगे.

इसे भी पढ़ेंः राहुल गांधी ने कहा,  मोदी जी की फिलॉसफी हिंसा की है,  गांधी जी की नहीं है

सीआरपीएफ व राज्य पुलिस के बल किए गए प्रतिनियुक्त

सीआरपीएफ और राज्य पुलिस के बल प्रतिनियुक्त किए गए हैं. जिसमें सीआरपीएफ की 153 कंपनी प्रतिनियुक्त किए गए हैं,.जैप और जिला पुलिस की 66 कंपनी एवं 4700 होमगार्ड और 18000 जिला पुलिस तैनात किए गए हैं.

कुल मिलाकर 37,398 बलों की प्रतिनियुक्ति की गई है. बूथ पर हथियार से लैस पुलिस बलों की प्रतिनियुक्ति की गई है. चुनाव में 1400 महिला पुलिसकर्मियों की भी प्रतिनियुक्ति की गई है.

इसे भी पढ़ेंःपुलवामा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने किए दो आतंकी ढेर

हेलीकॉप्टर से भी की जाएगी निगरानी

सुरक्षा को लेकर हेलीकॉप्टर से भी निगरानी की जाएगी. सात बूथों पर हेलीकॉप्टर से निगरानी रखी जाएगी. दो हेलीकॉप्टर से नक्सल प्रभावित इलाकों में निगरानी की जाएगी. सुरक्षित मतदान कराने के लिए बॉर्डर इलाकों में अब तक पिछले तीन महीने में 23 मीटिंग की जा चुकी है और अंतर्राज्यीय बैठक भी की गई है.

जिसमें बिहार, वेस्ट बंगाल के अधिकारियों और पदाधिकारियों के साथ लगातार ज्वाइंट ऑपरेशन और डिस्कशन किए गए. नक्सल प्रभावित इलाकों से सटे बॉर्डर को सीलिंग किया गया है.

इसे भी पढ़ेंःचुनाव प्रचार खत्म होने के बाद केदारनाथ की शरण में प्रधानमंत्री, दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे उत्तराखंड

शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव को संपन्न कराना एक बड़ी चुनौती होगी

19 मई को होनेवाले देश के सातवें चरण (झारखंड के चौथे चरण) के चुनाव के तहत झारखंड के संथाल परगना की तीन  लोकसभा संसदीय सीटों दुमका, गोड्डा और राजमहल में सुरक्षाबलों के लिए शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव को संपन्न कराना एक बड़ी चुनौती होगी.

चुनाव बहिष्कार की घोषणा को नक्सली जहां सफल बनाने के लिए किसी न किसी घटना को अंजाम देने की फिराक में रहे हैं, तो वहीं सुरक्षा बलों ने अब तक नक्सलियों के मंसूबों को सफल नहीं होने दिया है. लेकिन 12 मई को हुए चुनाव में नक्सलियों ने चाईबासा में कुछ जगहों पर गोलीबारी और बम विस्फोट कर दहशत फैलाने की कोशिश की थी.

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close