JharkhandLead NewsRanchi

PUCL के वेबिनार में ज्यां द्रेज बोले- फादर स्टेन स्वामी को जेल में डालना उनके लिए मृत्युदंड के समान

  • वेबिनार में सीताराम बोले- RSS और BJP की नीतियों के अनुसार हुई फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी
  • डी राजा ने की अपील- काले कानून UAPA के खिलाफ खड़ी हो देश की जनता

Ranchi : भीमा कोरेगांव मामले में फादर स्टेन स्वामी सहित देशभर से 16 सामाजिक कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के विरोध में मानवाधिकार संगठन PUCL ने बुधवार को वेबिनार आयोजित किया. इसमें देश की विपक्षी पार्टियों के नेता, सामाजिक और मानवाधिकार कार्यकर्ता शामिल हुए. वेबिनार में मांग की गयी कि फादर स्टेन सवामी को तुरंत रिहा किया जाये. भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ्तार सभी 16 लोगों को तुरंत रिहा किया जाये. इस केस को समाप्त करने और UAPA कानून को रद्द करने की भी मांग की गयी.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेः महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने के लिए रांची पुलिस ने जारी किये दो व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर

फादर स्टेन स्वामी को जेल मृत्युदंड के समान

इसमें अर्थशास्त्री प्रो ज्यां द्रेज ने कहा कि फादर स्टेन स्वामी ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने अपना पूरा जीवन दलितों, आदिवासियों और विचाराधीन कैदियों के अधिकारों के लिए समर्पित कर दिया. यह दुख की बात है कि अब उन्हें खुद ही एक कैदी के रूप में रहना पड़ रहा है. जिस तरह से कोविड के समय उन्हें गिरफ्तार कर जेल में रखा गया है, वह उनके लिए मृत्युदंड के ही समान है.

इसे भी पढ़ेः बाबूलाल पर झामुमो ने फिर बोला हमला, कहा- जमीर बेच चुके हैं मरांडी

Samford

कश्मीर हो या छत्तीसगढ़, वंचितों के लिए काम रहे लोग भेजे जाते रहे हैं जेल

प्रो ज्यां द्रेज ने कहा कि UAPA जैसे कानून इस देश में और भी हैं. चाहे वह छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों के लिए हो या फिर कश्मीर में या कहीं और. पूरे देश में जो भी वंचित समुदाय के लिए काम कर रहे हैं, उन्हें माओवादी बताकर जेल भेजा जाता रहा है. यह बहुत बड़ा अन्याय है.

इसे भी पढ़ेः CM हेमंत बोले- स्टेन स्वामी को प्रताड़ित कर रही केंद्र सरकार, ‘हिटलरशाही व्यवस्था’ का एकजुट हो विरोध करें सभी विपक्षी दल

गिरफ्तारी लोकतंत्र पर हमला : दयामनी बरला

सामाजिक कार्यकर्ता दयामनी बरला ने कहा कि 83 वर्षीय फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी अमानवीय और लोकतंत्र पर हमला है. फादर स्टेन स्वामी उन लोगों के पक्ष में लड़ रहे थे, जो जल, जंगल जमीन की लड़ाई लड़ रहे हैं. उनकी गिरफ्तारी उन लोगों को चुप कराने के लिए है, जो लोगों के लिए लड़ाई कर रहे हैं. ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार लोगों को चुप कराना चाहती है. दयामनी ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि संघर्ष करनेवाले सभी लोगों को एक मंच पर खड़ा होना होगा.

इसे भी पढ़ेः रघुवर बोले-  मेरी बात से किसी को मिर्ची लगी, तो मैं क्या करूं

UAPA काला कानून, इसके खिलाफ देश की जनता एक साथ खड़ी हो

CPI (M) के महासचिव और पूर्व सांसद सीताराम येचुरी ने कहा कि फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) और भाजपा की नीतियों के अनुसार हुई है. येचुरी और सांसद डी राजा ने कहा कि UAPA काला कानून है और इसके खिलाफ पूरे देश की जनता को एक साथ खड़ा होना होगा, क्योंकि सिर्फ शक के आधार पर किसी को गिरफ्तार करना लोकतंत्र के खिलाफ है.

फादर स्टेन स्वामी को फंसाया गया है : फादर मरियानुस

XISS के फादर मरियानुस ने कहा कि फादर स्टेन स्वामी ने अपनी जिंदगी के 30 साल आदिवासी, दलित और उनके मुद्दों पर काम किया. वे शोधकर्ता और लेखक थे. हम मानते हैं कि भीमा कोरेगांव मामले में उन्हें फंसाया गया है. वेबिनार को अन्य वक्ताओं ने भी संबोधित किया.

इसे भी पढ़ेः दोहरी मार झेल रहे झारखंड के आदिवासी, हम 2021 की जनगणना में सरना कोड चाहते हैं : शिवा कच्छप

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: