JamshedpurJharkhand

#Jamshedpur: गुदड़ी नरसंहार हेमंत सरकार की जल्दबाजी और सस्ती लोकप्रियता पाने का नतीजा- अमर बाउरी

विज्ञापन

Ranchi: हेमंत सरकार पर सस्ती लोकप्रियता और पत्थलगड़ी के आरोपियों से केस की वापसी मे जल्दबाजी दिखाने का आरोप लगाते हुए पूर्व मंत्री अमर बाउरी ने कहा कि सरकार ने नक्सलियों का मन बढ़ाया है.

उन्होंने कहा कि नयी सरकार ने उनके अंदर से कानून का खौफ खत्म हो गया है. सरकार और लोगों को सोचने की जरूरत है कि आरोपियों पर कार्रवाई के बजाय उनके उपर से केस हटा लिया जायेगा तो फिर कानून का डर किसको होगा.

गुदड़ी नरसंहार को इसका उदाहरण बताते हुए उन्होंने कहा कि नक्सलियों ने सोच लिया है कि सरकार उनके साथ है.

advt

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि अभी तो बिना सोचे-समझे लिए गये फैसले का पहला नतीजा सामने आया है, नयी सरकार के अभी कई और ऐसे फैसले आने बाकी हैं जो बगैर सोच-समझे लिये जायेंगे और उसका खामियाजा राज्य की जनता को उठाना होगा.

इसे भी पढ़ें : #Jharkhand: ज्वाइनिंग के 7 महीने बाद भी नहीं मिल सका है नवनियुक्त प्राथमिक शिक्षकों को वेतन

हेमंत को दी सलाह

बीते पांच वर्षों की भाजपा सरकार की तारीफ करते हुए पूर्व मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के दौरान पत्थगड़ी मसले पर भी विवाद था. रघुवर सरकार ने संजीदगी के साथ इसको सुलझाया जिसके बाद से पत्थलगड़ी के मामले सामने नहीं आये.

उन्होंने हेमंत सोरेन को सलाह देते हुए कहा कि हेमंत सरकार को केस हटाने से पहले केस को पढ़ लेना चाहिए था कि किस धारा और कौन से आरोप के तहत आरोपियों पर केस चलायी जा रही है.

adv

कम से कम पुरानी सरकार के लोगों के साथ बैठकर पूरे मुद्दे को समझ लेना था. उसके बाद केस वापसी पर विचार करते. बात को आगे बढाते हुए उन्होने कहा की इस मुद्दे पर उनकी सरकार काफी गंभीर रही है.

कानून के दायरे में सभी को लाने की कोशिश की गयी. लेकिन नई सरकार ने बिना किसी तरह का इंपैक्ट सोचे बस फैसला कर दिया. नतीजा नरसंहार सामने है जिसका कोई जवाब नयी सरकार के पास नहीं है.

इसे भी पढ़ें : #Ranchi: सदर अस्पताल में दो साल बाद भी तैयार नहीं हो सका डायलिसिस सेंटर

आगे आयें बन्ना गुप्ता

पूव मंत्री अमर बाउरी के साथ बैठे भाजपा जिला अध्यक्ष दिनेश कुमार का कहना है कि इस मसले पर बन्ना गुप्ता को आगे आना चाहिए. गुदड़ी नरसंहार के पीड़ित परिवारों को बतौर मुआवजा दो–दो लाख रुपये उनको देना चाहिए.

दिनेश कुमार ने आगे कहा कि साल भर पहले हुए खरसांवा मॉब लिंचिंग के वक्त तबरेज अंसारी के घर बन्ना गुप्ता पहुंचे थे. तबरेज अंसारी के परिवार वालों से मिलकर उनको दो लाख रुपये की सहयोग राशि दी थी. जो मीडिया ने भी खूब दिखाया था.

दिनेश कुमार ने सवाल पूछते हुए कहा कि जब तबरेज अंसारी को सहयोग राशि बन्ना गुप्ता दे सकते हैं तो फिर गुदड़ी नरसंहार के पीड़ित परिवारों के लिए भी क्या बन्ना गुप्ता खड़े होंगे?

इसे भी पढ़ें : #Palamu: दफ्तरी परिवेश से बाहर निकले उपायुक्त, ट्रेन में लगाया जनता दरबार

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button