न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दिल्ली सरकार के मंत्री कैलाश गहलोत के 16 ठिकानों पर आईटी का छापा

आप ने केंद्र सरकार पर बोला हमला, कार्रवाई को बताया राजनीति से प्रेरित

136

New Delhi: दिल्ली की आप सरकार में परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के आवास पर बुधवार सुबह आयकर की छापेमारी हुई है. आयकर विभाग ने इनकम रिटर्न्स को लेकर ये कार्रवाई की है. बताया जा रहा है कि परिवहन मंत्री के 16 ठिकानों पर रेड पड़ी है. आयकर विभाग की इस कार्रवाई को आम आदमी पार्टी ने राजनीतिक एजेंडा बताते हुए केंद्र सरकार पर हमला बोला.

इसे भी पढ़ेंःमालदा से दिल्ली जा रही न्यू फरक्का एक्सप्रेस की छह बोगियां बेपटरी  पांच की मौत, कई घायल

16 ठिकानों पर रेड

hosp3

आयकर विभाग ने दिल्ली सरकार के मंत्री कैलाश गहलोत से जुड़े 16 ठिकानों की तलाशी ली है. सूत्रों की मानें तो कैलाश गहलोत के दिल्ली और गुरुग्राम स्थित ठिकानों पर रेड की गई है. ब्रिस्क इन्फ्रास्ट्रक्चर ऐंड डिवेलपर्स लिमिटेड और कॉरर्पोरेट इंटरनैशनल फाइनैंशल सर्विसेज लिमिटेड में फिलहाल सर्च जारी है. ज्ञात हो कि इनकम टैक्सं ने गहलोत के वसंत कुंज स्थित घर पर भी छापा मारा है.

कैलाश गहलोत साउथ पश्चिमी दिल्लीै के नजफगढ़ से आम आदमी पार्टी के विधायक हैं और मई 2017 में दिल्लीम के मुख्यकमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उन्हें परिवहन मंत्री बनाया था.

इसे भी पढ़ेंःकोर्ट, पीएमओ, राष्ट्रपति, सीएम, मंत्रालय, नीति आयोग और कमिश्नर किसी की परवाह नहीं है कल्याण विभाग को

कार्रवाई राजनीतिक एजेंडा- आप

परिवहन मंत्री के ठिकानों पर हुई आयकर विभाग की कार्रवाई को लेकर आम आदमी पार्टीने आईटी के छापों को राजनीतिक बदले की कार्रवाई बताया है. रेड के फौरन बाद AAP के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा गया, ‘हम जनता को सस्ती बिजली दे रहे, मुफ्त पानी दे रहे, अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य दे रहे हैं. सरकारी सेवाएं घर-घर तक पहुंचा रहे हैं और वे CBI, ED से हमारे मंत्रियों और नेताओं के घर छापे पड़वा रहे हैं.’

इसे भी पढ़ें – पाकुड़ समाहरणालय से लेकर तमाम शहर में डीसी के खिलाफ आजसू की पोस्टरबाजी, कहा – डीसी साहब जनता के सवालों का दें जवाब

आम आदमी पार्टी ने कहा है कि जनता सब देख रही है और 2019 में सारा हिसाब एक साथ करेगी.

विवादों से कैलाश गहलोत का पुराना नाता

गौरतलब है कि कैलाश गहलोत का इससे पहले भी विवादों से नाता रहा है. इससे पहले उनपर आचार संहिता का उल्लंघन का मामला चल रहा था, जिसे लेकर चुनाव आयोग ने उनपर एफआईआर दर्ज की थी. हालांकि, बाद में उन्हें कोर्ट से राहत मिल गई थी.

इसे भी पढ़ें – सवालः आखिर पाकुड़ में डीसी के खिलाफ हो रहे हंगामे पर सरकार क्यों नहीं ले रही संज्ञान

वही कैलाश गहलोत उन 20 विधायकों में शामिल थे, जिनपर ऑफिस ऑफ प्रोफिट का मामला चल रहा था. हालांकि, इस मामले में भी उन्हें राहत मिल गई थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: