HEALTHJharkhandNationalNEWS

INDIAN ARMY ने देश के कई हिस्सों में कोविड मैनेजमेंट सेल का गठन किया

New Delhi: कोरोना संकट से निपटने के लिए भारतीय सेना भी युद्ध स्तर पर काम कर रही है. सेना ने देश के कई हिस्सों में कोविड मैनेजमेंट सेल का गठन किया है. इसके जरिए आम नागरिकों को बेहतर चिकित्सा सुविधा प्रदान करने का लक्ष्य है. इस सेल का प्रमुख डायरेक्टर जनरल स्तर के एक अधिकारी को बनाया गया है, जो सीधे उप सेना प्रमुख को रिपोर्ट करेगा. बता दें कि कोरोना महामारी के इस दौर में नागरिकों की मदद के लिए सेना पूरी जी जान से लगी हुई है. सेना के तीनों अंग कोरोना संकट से निपटने के लिए अपने-अपने स्तर पर जुटे हैं.

इसे भी पढ़ें: CORONA UPDATE: लगातार दूसरे संक्रमितों की संख्या चार लाख के पार, मौत के मामले में अमेरिका,ब्राजील को पीछे छोड़ा

advt

इस क्रम में सेना ने कोविड मैनेजमेंट सेल का गठन किया है, जो नागरिक प्रशासन को सेना के स्टाफ व लॉजिस्टिक्स की मदद सुनिश्चित करेगी. गौरतलब है कि बीते दिनों ही इसे लेकर पीएम मोदी की सीडीएस जनरल बिपिन रावत समेत कई शीर्ष सैन्य अधिकारियों संग चर्चा हुई थी. इसके बाद सेना की ओर से कोविड मैनेजमेंट सेल के गठन का फैसला किया गया.

इसे भी पढ़ें: रांची प्रेस क्लब में कोविड अस्पताल की तैयारी शुरू, वेंटिलेटर व आइसीयू की भी सुविधा

गुरुवार को सेना ने बताया कि कोविड मैनेजमेंट सेल कोरोना संकट में और बेहतर ढंग से रियल टाइम मदद सुनिश्चित करने की कोशिश करेगी. सेना कोविड मरीजों की टेस्टिंग, उन्हें आर्मी हॉस्पिटल में भर्ती कराने, मेडिकल उपकरणों के ट्रांसपोर्टेशन आदि में मदद करेगी. गौरतलब वायुसेना के साथ-साथ नौसेना भी देश में ऑक्सीजन आपूर्ति, चिकित्सा उपकरणों आदि के ट्रांसपोर्टेशन में जुटी हुई है.

इसे भी पढ़ें: Ranchi ट्रैफिक पुलिस का सख्त निर्देश, तीन बजे के बाद सड़क पर वाहनों को संदिग्ध माना जायेगा

विदेशों से भी मेडिकल उपकरण का ट्रांसपोर्टेशन किया जा रहा है. वहीं अब सेना के अस्पतालों के दरवाजे भी आम लागों के लिए खोले जा रहे हैं.  सेना ने इन सुविधाओं के प्रभारी के रूप में अपने सीनियर चिकित्सा अधिकारियों को नियुक्त किया है, जो राज्य सरकारों में अपने समकक्षों के साथ संपर्क बनाए हुए हैं. सेना ने विशेष रूप से पहले से ही कार्यरत पांच कोविड ​​अस्पतालों में दिल्ली, अहमदाबाद, लखनऊ, वाराणसी और पटना में चिकित्सा संसाधन तैनात किए हैं.देश भर में रक्षा मंत्रालय द्वारा संचालित विभिन्न अस्पतालों में डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और पैरामेडिक्स सहित सशस्त्र बलों के 500 से अधिक चिकित्साकर्मी पहले से ही तैनात हैं.

इसे भी पढ़ें: झारखंड में कोरोना के 6974 नये मरीज मिले, 133 संक्रमितों की मौत

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: