Business

#IndiaFightsCorona :  RBI ने नीतिगत दर में कटौती के संकेत दिये, नकदी बढ़ाने के उपायों की घोषणा की

Mumbai :  रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने सोमवार को नीतिगत दर में कटौती के संकेत दिये हैं.  उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर तीन अप्रैल को होने वाली अगली मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दर में कटौती समेत और कदम उठाये जा सकते हैं.  साथ ही उन्होंने तंत्र में नकदी बढ़ाने के और उपायों की भी घोषणा की. कोरोना वायरस संक्रमण के कारण वैश्विक और घरेलू बाजार में जारी नरमी के बीच उन्होंने यह बात कही.

रिजर्व बैंक ने अचानक दोपहर में संवाददाता सम्मेलन बुलाये जाने की सूचना दी.  इसको देखते हुए बाजार नीतिगत दर में कटौती की उम्मीद कर रहा था. अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने पिछले 10 दिनों में नीतिगत दर में दोबारा कटौती की और यह शून्य के करीब पहुंच गयी है.  इसी प्रकार, बैंक ऑफ इंग्लैंड ने भी नीतिगत दर में 0.50 प्रतिशत की कटौती की है. यूरोपीय सेंट्रल बैंक ने भी इसी प्रकार का कदम उठाया है.

इसे भी पढ़ें : #IndiaFightsCorona: विश्व भर की अधिकतर विमानन कंपनियां मई के अंत तक दिवालिया हो सकती हैं

ram janam hospital
Catalyst IAS

नीतिगत दर में कटौती मौद्रिक नीति समिति की बैठक में होने वाले निर्णय के जरिये होती है

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

उन्होंने कहा, कानून के तहत नीतिगत दर में कटौती मौद्रिक नीति समिति की बैठक में होने वाले निर्णय के जरिये होती है लेकिन वह किसी भी संभावना से इनकार नहीं कर रहे. कहा कि जरूरत पड़ने पर अगली मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दर में कटौती समेत और कदम उठाये जा सकते हैं.आरबीआई ने नकदी बढ़ाने के इरादे से विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में 23 मार्च को बिक्री/खरीद अदला-बदली के जरिये 2 अरब डॉलर डालने की घोषणा की है.  इसके साथ ही जरूरत पड़ने पर रेपो दर पर दीर्घकालीन एक लाख करोड़ रुपये मूल्य के बांड की खरीद-फरोख्त का एक और दौर शुरू करेगा.

इसे भी पढ़ें  : #Fear_Of_Corona : शेयर बाजार में कोहराम जारी, सेंसेक्स 2600 अंकों से ज्यादा लुढ़का

यस बैंक का पुनर्गठन भरोसेमंद और मजबूत है

यस बैंक के बारे में दास ने कहा कि यस बैंक संकट के समाधान को लेकर सरकार तथा केंद्रीय बैंक ने त्वरित कदम उठाये हैं.  यस बैंक का पुनर्गठन भरोसेमंद और मजबूत है. उन्होंने कहा कि यस बैंक में जमाकर्ताओं का धन पूर्ण रूप से सुरक्षित, बैंक निजी क्षेत्र की इकाई बना रहेगा.आरबीआई गवर्नर ने कहा कि निजी क्षेत्र के छोटे बैंकों समेत सभी बैंकों की सेहत बेहतर है और यस बैंक मजबूत पुनरूद्धार योजना के अंतर्गत है. उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना वायरस के कारण घरेलू और वैश्विक आर्थिक वृद्धि पर असर पड़ेगा. दास ने कहा कि आरबीआई के पास कई कोरोना वायरस महामारी के प्रभाव से निपटने को लेकर कई नीतिगत उपाय हैं और वह उसके लिए तैयार है.

इसे भी पढ़ें : राज्यपाल ने कमलनाथ को दिया अल्टीमेटम, 17 को साबित करें बहुमत, नहीं तो अल्पमत मानेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button