Crime NewsLead NewsNational

पैसों के लालच में अवैध निर्माण करना पड़ा महंगा, सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के 40 मंजिला दो टॉवर्स गिराने का दिया आदेश

एमेराल्ड कोर्ट परियोजना में दो माह के भीतर दोनों दावरों को ध्वस्त करने होंगे

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा में सुपरटेक की एमेराल्ड कोर्ट परियोजना के 40 मंजिला दो टावरों को ध्वस्त करने का आदेश दिया है. अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि नोएडा में सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट के 915 फ्लैट और दुकानों वाले 40 मंजिला वाले दो टावरों का निर्माण नियमों के उल्लंघन में किया गया था. ये निर्माण नोएडा प्राधिकरण के साथ सांठगांठ कर किया गया है. अब सुपरटेक को अपनी लागत पर दो महीने के भीतर भीतर दोनों दावरों को ध्वस्त करना होगा. नोएडा प्राधिकरण इसकी निगरानी करेगा.

इसे भी पढ़ें :जियो फोन नेक्स्ट की बुकिंग इसी हफ्ते से, कीमत का सिर्फ 10% दे कर सकते हैं बुक

नोएडा में एमरल्ड कोर्ट परिसर में बने हैं 950 फ्लैट

Catalyst IAS
ram janam hospital

इससे पहले साल 2014 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दोनों टावरों को अवैध बताते हुए गिराने का आदेश दिया था. इन 40-40 मंजिला 2 टावरों में 950 फ्लैट बने हैं. हालांकि, बड़ी संख्या में लोग प्रोजेक्ट से अपने पैसे वापस ले चुके हैं. एमरल्ड कोर्ट परिसर में रह रहे लोगों ने आरोप लगाया था कि बिल्डर सुपरटेक ने पैसों के लालच में सोसाइटी के ओपन एरिया में बिना अनुमति के यह विशाल टावर खड़े कर दिए.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें :हेमंत के वायदे की परवाह नहीं, सरकारी सेवा के लिये 400 रुपये लिये जा रहे हैं आवेदन फीस

Related Articles

Back to top button