GiridihJharkhand

गिरिडीह : सुरक्षा प्रभारी की तलाश सातवें दिन भी जारी, NDRF ने कहा- चानक में है जहरीली गैस

विज्ञापन

Giridih : गिरिडीह सीसीएल के लापता सुरक्षा प्रभारी जयप्रकाश सिंह उर्फ भोला की तलाश रविवार को सातवें दिन भी जारी रही. रांची एनडीआरएफ की टीम भारी-भरकम मशीनों के साथ चानक के भीतर तलाशी अभियान चलाती रही. लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी.

इस दौरान डीसी राजेश पाठक, एसपी सुरेन्द्र झा, डीडीसी मुंकुद दास, सीसीएल क महाप्रबंधक प्रशांत वाजपेयी, एसडीएम राजेश प्रजापति, सदर एसडीपीओ जीतवाहन उरांव समेत कई अधिकारी मौजूद रहे. एनडीआरएफ ने अधिकारियों से कहा कि चानक के अंदर घातक गैस होने के संकेत मिल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : आरोपः शिक्षिका को गाड़ी भेजकर घर बुलाते हैं बीएड कॉलेज के निदेशक, नहीं आने पर रोक दिया वेतन

advt

कोलकाता से टीम बुलाने पर सहमति

गिरिडीह : सुरक्षा प्रभारी की तलाश सातवें दिन भी जारी, NDRF ने कहा- चानक में है घातक विष
स्थिति की जानकारी लेने पहुंचे प्रशासनिक अधिकारी.

छह दिनों से जारी तलाशी अभियान के बाद सांतवे दिन कोई सुराग नहीं मिलने से परिजनों की चिंता बढ़ती जा रही है. रविवार को लापता सुरक्षा प्रभारी के दामाद भी चानक के समीप पहुंचे. चानक के समीप ही अधिकारियों की टीम काफी देर तक माथापच्ची करती रही.

यहां तक के एनडीआरएफ टीम के साथ अधिकारियों ने काफी चर्चा की जिसमें गहरे चानक के भीतर घुसने वाली एक्सपर्ट टीम को कोलकाता से अत्याधुनिक उपकरणों के साथ बुलाने पर सहमति बनी.

मौके पर जीएम वाजपेयी ने डीसी व एसपी को बताया कि पश्चिम बंगाल की टीम का कहना है कि झारखंड सरकार के पत्राचार किये बगैर कोलकाता की टीम गिरिडीह नहीं जायेगी. लिहाजा, डीसी पाठक और एसपी ने खुद राज्य के मुख्य सचिव डीके त्रिपाठी से बात कर सारी बातों से अवगत कराया.

फोन पर हुए बातचीत के दौरान डीसी ने मुख्य सचिव को बताया कि बंगाल के मुख्य सचिव ने राज्य सरकार से पत्राचार होने के बाद ही सहयोग का आश्वासन दिया. इसके बाद मुख्य सचिव ने डीसी व एसपी को बताया कि रविवार को ही बंगाल के मुख्य सचिव बंदोपाध्याय से पत्राचार कर सहयोग मांगा जायेगा.

adv

इसे भी पढ़ें : चतरा : नदी में बहने से बाल-बाल बची BDO, तेज धार में बहा सरकारी वाहन

बिना सुरक्षा के भीतर घुसना खतरे से खाली नहीं

इधर चानक में एनडीआरएफ द्वारा चलाये जा रहे रेस्क्यू ऑपरेशन से भी अधिकारी अवगत हुए. मौके पर टीम जिस रस्सी को घुसाकर चानक की गहराई नाप रही थी उसे सूंघकर डीसी, एसपी ने पाया कि चानक के भीतर कोई घातक गैस मौजूद है. लिहाजा, बगैर सुरक्षा के भीतर घुसना संभव नहीं है.

एनडीआरएफ के टीम कमांडर मो कलाम ने इस दौरान डीसी व एसपी को बताया कि इसी चानक के अगल-बगल ही दो-तीन और चानक होने की बात सामने आ रही है. यह भी बताया कि हर चानक भीतर-भीतर से एक-दूसरे से कनेक्टड है जो राहत कामों में और भी समस्या खड़ा कर सकता है.

बारिश और भीड़ से हो रही परेशानी

टीम कमांडर ने यह भी बताया कि जिस प्रकार बारिश हो रही है उससे राहत कार्य चलाने में कुछ परेशानी है. राहत कार्य चलाने के दौरान लोगों की भीड़ जुट जाती है जिससे भी हादसा हो सकता है. यह जानने के बाद अधिकारियों ने पूरे चानक की घेराबंदी करने निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें : धोनी का बर्थडे बैश : बेटी संग थिरके, पत्नी ने शेयर की फोटो

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button