DhanbadJharkhand

आरोपः शिक्षिका को गाड़ी भेजकर घर बुलाते हैं बीएड कॉलेज के निदेशक, नहीं आने पर रोक दिया वेतन

विज्ञापन

Dhanbad: तथागत बीएड कॉलेज बरवाअड्डा के निदेशक अरुण कुमार वर्मा के खिलाफ धनबाद के महिला थाने में शिकायत की  गयी है. कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत शिक्षिका ने निदेशक अरुण कुमार वर्मा पर शारीरिक शोषण के प्रयास व मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया है. शनिवार को आरोपित निदेशक अरुण कुमार वर्मा को धनबाद महिला थाना में तलब किया गया था.

आरोपित निदेशक से थाना प्रभारी एम गुड़िया और शशि प्रभा टोप्पो ने पूछताछ की. लगभग चार घंटे चली पूछताछ के बाद आरोपित निदेशक को छोड़ दिया गया है. थाना प्रभारी एम गुड़िया ने बताया की लिखित शिकायत मिलने के बाद पुलिस मामले की जांच में जुटी है. निदेशक और शिकायतकर्ता को एक साथ थाना में बुलाया गया. पूछताछ के बाद पुलिस की आगे की कार्रवाई जारी है.

इसे भी पढ़ेंः पारंपरिक ग्राम प्रधानों को मिलेगी मासिक सम्मान राशि, पहली किश्त 12.19 करोड़ जारी

advt

महीनों से प्रताड़ित कर रहे हैं निदेशकः शिक्षिका

शिकायत में पीड़िता ने बताया है कि कॉलेज निदेशक अरुण कुमार वर्मा पिछले कुछ महीनों से उसे प्रताड़ित कर रहे हैं. उन्होंने उसके शारीरिक शोषण का प्रयास भी किया. पीड़िता के विरोध करने पर उसे कॉलेज में सार्वजनिक रूप से अपमानित किया जाने लगा. लगातार हो रहे अपमान से त्रस्त पीड़िता ने कॉलेज जाना छोड़ दिया है.

इसे भी पढ़ेंः खूंटी : कोचांग ग्राम प्रधान की हत्या, आरोपियों की गिरफ्तारी में जुटी पुलिस

कुलपति से शिकायत कर चुकी है शिक्षिका

बीते 27 जून 2019 को महिला असिस्टेंट प्रोफेसर ने निदेशक अरुण कुमार वर्मा पर प्रताडऩा का आरोप लगाते हुए बिनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय के कुलपति एके श्रीवास्तव से शिकायत की थी. पीडि़ता ने विश्वविद्यालय कुलपति को बताया कि पिछले कुछ महीनों से कॉलेज के निदेशक उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं. विरोध करने पर उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया.

पीडि़ता ने घटना की जानकारी अपने परिजनों को दी. बीते 15 मई को पीडि़ता के परिजन निदेशक से इस मामले में बातचीत करने के लिए कॉलेज पहुंचे. कॉलेज में निदेशक अरुण कुमार वर्मा ने न सिर्फ उनके साथ दुर्व्‍यवहार किया, बल्कि अपमानित करते हुए कॉलेज से तुरंत निकल जाने को कहा. इसके बाद निदेशक ने पीडि़ता के कॉलेज आने पर भी पाबंदी लगा दी.

adv

इतना ही नहीं पीडि़ता को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी देते हुए निदेशक ने कहा कि वह उन्हें किसी भी कॉलेज में काम नहीं करने देंगे. सहमी पीडि़ता ने कॉलेज जाना छोड़ दिया है.

कुलपति को ऑडियो रिकॉर्डिंग भी सुनायी

पीडि़ता ने कुलपति एके श्रीवास्तव को एक ऑडियो रिकॉर्डिंग भी सुनायी. जिसमें आरोपित निदेशक पीडि़ता को अपनी गाड़ी से जबरन घर आने को कहते हैं और पीडि़ता टालने का प्रयास करती है. पीडि़ता ने बताया कि उसका वेतन भी रोक दिया गया है. पीडि़ता ने बताया कि निदेशक उन्हें फोन कर घर आने का दबाव बनाया करते थे.

जब उसने घर जाने से इन्कार कर दिया तब वे उन्होंने दुर्व्‍यवहार किया. कुलपति ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए अविलंब कार्रवाई करने का आश्वासन दिया. कुलपति ने मामले की जांच करने के लिए एक जांच कमेटी बनाने की बात कही थी.

क्या कहते हैं कुलपति

बीबीएमकेयू कुलपति एके श्रीवास्तव ने मीडिया से कहा कि  एक महिला शिक्षिका को प्रताडि़त करना गंभीर मामला है. विश्वविद्यालय एक कमिटी बनाकर पूरे मामले की जांच करायेंगे. जांच रिपोर्ट के आधार पर निदेशक पर कार्रवाई की जायेगी.

क्या कहते हैं निदेशक

इधर, तथागत बीएड कॉलेज के निदेशक अरुण कुमार वर्मा ने आरोपों को नकारा है. कहा कि  मेरे ऊपर लगाए गये आरोप गलत हैं. शिक्षिका ने झूठी शिकायत की है.

इसे भी पढ़ेंः कर्नाटक : इस्तीफा देने वाले 11 विधायक मुंबई के होटल सोफिटेल में, पांच-छह और विधायकों के इस्तीफे देने के कयास

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button