JharkhandMain Slider

हेमंत सोरेन का आरोप : जिस विभाग के मंत्री हैं CM रघुवर दास, उस JBVNL के एमडी राहुल पुरवार कर रहे हैं भ्रष्टाचार

Ranchi: विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन ने 25 जुलाई को विधानसभा में प्रेस कांफ्रेंस करके झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास पर गंभीर आरोप लगाये हैं. हेमंत सोरेन ने आरोप लगाया कि रघुवर दास जिस विभाग के मंत्री हैं, उस जेबीवीएनएल (झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड) के एमडी राहुल पुरवार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं. पैसा मांगने की शिकायत पहले भी की गयी.

लेकिन राहुल पुरवार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गयी. हेमंत सोरेन ने अविनाश कुमार नाम के व्यक्ति द्वारा किए गये एक ई-मेल की प्रति भी जारी की है. ई-मेल सात जून 2019 को राज्य के मुख्य सचिव को भेजा गया है.

इसे भी पढ़ें –JBVNL में हुए 15 करोड़ के TDS घोटालेबाज को बचाने में फंसे डिप्टी एकाउंटेंट जनरल

चार साल से पदस्थापित हैं राहुल पुरवार

हेमंत सोरेन ने मुख्यमंत्री रघुवर दास पर भी गंभीर आरोप लगाये हैं. सवाल उठाया है कि जब तत्कालीन सीएमडी नितिन मदन कुलकर्णी ने कथित तौर पर राहुल पुरवार के भ्रष्टाचार की जानकारी मुख्यमंत्री को दी, तब उनका ही तबादला कर दिया गया. राहुल पुरवार पिछले चार साल से इसी विभाग में पदस्थापित हैं और भ्रष्टाचार कर रहे हैं. उनके भ्रष्टाचार को सरकार संरक्षण दे रही है.

हेमंत सोरेन ने जो पत्र जारी किया है, उसमें कहा गया है कि 02 जून को भी राहुल पुरवार के खिलाफ एक शिकायत की गयी. जिसपर कोई कार्रवाई नहीं की गयी. जेबीवीएनएल के एमडी राहुल पुरवार भ्रष्टाचार कर रहे हैं. कंपनियों को धमका कर पैसे की उगाही कर रहे हैं.

मुख्य सचिव को भेजे गये ई-मेल में अविनाश कुमार ने 13 सवाल उठाये हैं. पत्र में इस बात का जिक्र किया गया है कि एक सच यह भी है कि तत्कालीन सीएमडी नितिन मदन कुलकर्णी ने मुख्यमंत्री से राहुल पुरवार की शिकायत की थी.

लेकिन मुख्यमंत्री ने अपनी आंख और कान बंद कर लिये. तो क्या राहुल पुरवार मुख्यमंत्री के लिये कैश काउ हैं. इन तथ्यों से तीन सवाल उठते हैं. राहुल पुरवार का ट्रांसफर क्यों नहीं किया जाता. नितिन मदन कुलकर्णी को क्यों हटाया गया.

इसे भी पढ़ें –जानें भ्रष्टाचार के उन छह मामलों को जो बिजली वितरण निगम के एमडी राहुल पुरवार के समय हुए

मुख्य सचिव को भेजे गये 13 सवाल

01-   हमारा करीब 42 करोड़ रुपये का पेमेंट जेबीवीएनएल में पेंडिंग हैं. 19 करोड़ रुपये की भुगतान की संचिका राहुल पुरवार के टेबल पर पिछले तीन माह से है. राहुल पुरवार हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं. उनके द्वारा टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड से ठेके के कुल राशि का 2.5 प्रतिशत कमीशन मांगा जा रहा है.

02-   आप फाइल को मंगा करके देख सकते हैं. उस फाइल को टेक्नीकल व फाइनांस विभाग ने क्लीयर कर दिया है. भुगतान के लिये राहुल पुरवार का हस्ताक्षर का इंतजार है.

03-  42 करोड़ रुपया का बकाया पेमेंट भी जेबीवीएनएल के टेक्नीकल व फाइनांस डिपार्टमेंट से क्लीयर होकर एमडी के टेबुल पर है.

04-   प्रधानमंत्री जी कहते हैं, देश के सभी घरों में बिजली पहुंचाना है. हमने समय पर काम पूरा किया. लेकिन अब हमें पेमेंट नहीं किया जा रहा.

05-  हमलोगों ने कई बार जेबीवीएनएल के एमडी राहुल पुरवार के समक्ष उपस्थित होकर पेमेंट के लिए आग्रह किया.

06-  उन्हें बताया कि टाटा कंपनी किसी भ्रष्ट गतिविधि में शामिल नहीं होती है. हम किसी को भी कमीशन के रुप में रुपये नहीं देते. हमारे यहां यह कल्चर नहीं है. हम भ्रष्टाचारमुक्त व्यापार के पक्षधर हैं.

07-  राहुल पुरवार का भाई या कोई रिश्तेदार (क्या रिश्ता है, यह कंफर्म नहीं है) सुमीत कुमार पुरवार, जिसका मोबाइल नंबर 9709036921 है. सुमीत कुमार पुरवार के द्वारा टाटा कंपनी के टॉप मैनेजमेंट को फोन किया जाता है. और राहुल पुरवार की तरफ से कमीशन मांगे जाने की बात कह कर धमकाया जाता है.

08-   पिछले दो साल में राहुल पुरवार ने कमीशन की राशि 2 प्रतिशत से बढ़ाकर 2.5 प्रतिशत कर दी है.

09-  जो भी कांट्रेक्टर कमीशन नहीं देता है, उसका पेमेंट को रोक दिया जाता है. और मजबूर किया जाता है कि वह राहुल पुरवार को खुश कर दे.

10-  राहुल पुरवार के रिश्तेदार के द्वारा कमीशन मांगते वक्त कहा जाता है कि सारे पैसे उनके पास नहीं जाते. कंपनी के सीएमडी, सीएस और मुख्यमंत्री तक को देना पड़ता है. यह आश्चर्यजनक है. क्योंकि सीएस और सीएमडी ईमानदार हैं.

11-   दो सप्ताह पहले राहुल पुरवार ने सभी इपीसी कांट्रेक्टर के प्रतिनिधियों से अपने दिल्ली दौरे में मुलाकात की. वहां साफ कहा कि कमीशन दें, नहीं तो भुगतान अनिश्चित काल के लिये लंबित रहेगा.

12-  सितंबर 2018 को भी कंपनी की तरफ से एक शिकायत मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव को दिया गया. लेकिन राहुल पुरवार के खिलाफ किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं हुई.

13-   टाटा कंपनी की तरफ से एक शिकायत झारखंड सरकार के एंटी करप्शन विंग, सीबीआइ , पीएमओ, सीवीसी से की गयी. और अभी राहुल पुरवार के खिलाफ पीआईएल करने के लिये प्रक्रिया में हूं. हमारे पास बहुत सारे मैसेज और कॉल रिकॉर्डिंग हैं, जो राहुल पुरवार के लिए सुमीत कुमार पुरवार ने किये हैं.

इसे भी पढ़ें –JBVNL में 15 करोड़ का घपला और घपलेबाज को संरक्षण देने वाले आईएएस राहुल पुरवार पर सरकार की चुप्पी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close