न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुस्त अर्थव्यवस्था के बीच #GSTCouncil की बैठक आज, ऑटो सेक्टर समेत कई इंडस्ट्री को राहत की उम्मीद

987

New Delhi: अर्थव्यवस्था की सुस्त पड़ती रफ्तार के बीच शुक्रवार गोवा में जीएसटी काउंसिल की अहम बैठक होने वाली है. जीएसटी काउंसिल की 37वीं बैठक में कई वस्तुओं पर रेट कट की उम्मीद इंडस्ट्री को है. विभिन्न उद्योगों की जीएसटी में कटौती की मांग के बीच यह बैठक हो रही है.

आर्थिक मंदी के बीच जीएसटी काउंसिल की बैठक

Trade Friends

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता वाली जीएसटी काउंसिल की गोवा में यह 37वीं बैठक है. इसमें सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के प्रतिनिधि शामिल हैं. यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब आर्थिक वृद्धि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में छह साल के न्यूनतम सतर 5 प्रतिशत पर आ गयी है.

इसे भी पढ़ेंःसिंदरी #MLA फूलचंद मंडल का टिकट रडार पर, सीट के लिए #BJP ने शॉर्टलिस्ट किये पांच नाम

जीएसटी घटाने की मांग

आर्थिक नरमी के बीच बिस्कुट, होटल और रोजमर्रा के उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों समेत कई उद्योग जीएसटी दरों में कटौती की मांग कर रहे हैं. माल एवं सेवा कर (जीएसटी) में कटौती की मांग के पीछे दलील यह दी जा रही है कि इससे खपत और घरेलू मांग को बढ़ावा मिलेगा.

जबकि ऑटो इंडस्ट्री कारों पर लगने वाले 28 फीसदी जीएसटी को घटाकर 18 फीसदी करने की मांग कर रही है, इंडस्ट्री की इस मांग पर कई राज्य सरकारें ही सहमत नहीं दिख रही हैं.

हालांकि कई राज्यों का मानना है कि इस समय जीएसटी दर में कटौती की अनुमति टैक्स के लिहाज से बुद्धिमानी भरा निर्णय नहीं होगा. उनका कहना है कि क्षतिपूर्ति सेस फंड में राशि घट गयी है. जीएसटी कानून के तहत इस राशि का उपयोग राज्यों के राजस्व के लक्षित वृद्धि दर से नीचे जाने पर उनकी क्षतिपूर्ति के लिये किया जाता है.

इसे भी पढ़ेंःक्या #GharGharRaghubar अभियान को बीजेपी ने नकार दिया!

इस बीच, सूत्रों के अनुसार जीएसटी काउंसिल की समायोजन समिति राजस्व की कड़ी स्थिति का हवाला देते हुए बिस्कुट से लेकर कार उद्योग की जीएसटी में कटौती की मांग खारिज कर दी है. समिति में केंद्र एवं राज्यों के राजस्व अधिकारी शामिल हैं.

WH MART 1

सूत्रों ने कहा कि जीएसटी काउंसिल ईंट भट्टा, बालू खनन गतिविधियां और पत्थर की गिट्टियों (स्टोन क्रशर्स) की आपूर्ति करने वाले करदाताओं के लिये विशेष एक मुश्त योजना की पेशकश कर सकती है.

जीएसटी कानून में संशोधन की संभावना

इसके अलावा जीएसटी कानून में संशोधन पर भी चर्चा हो सकती है ताकि केंद्र शासित प्रदेशों के रूप में सृजित जम्मू कश्मीर ओर लद्दाख को इसके दायरे में लाया जाए. साथ ही बैठक में सोना और मूल्यवान पत्थरों की ढुलाई को लेकर केरल के ई-वे बिल प्रणाली के प्रस्ताव पर भी चर्चा की जाएगी.

बैठक में समायोजन समिति अपनी रिपोर्ट रखेगी. इसमें होटल उद्योग के लिये अच्छी खबर है. इसमें 12,000 रुपये प्रति रात वाले कमरों को 18 प्रतिशत जीएसटी के दायरे में रखने की सिफारिश की गयी है.

फिलहाल 7,500 रुपये तक के होटल के कमरों पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगता है.

सूत्रों के अनुसार समिति ने दूरसंचार मंत्रालय के दूरसंचार सेवाओं पर जीएसटी दर मौजूदा 18 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत करने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड सरकार के जीरो पावर कट के दावे की साक्षी धोनी ने खोली पोल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like