न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

घोषणा कर भूल गयी सरकार – 15 जुलाई : नहीं बन सका मेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट, हुनर ऐप भी हुआ बेकार

722

Sweta Kumari

Ranchi : झारखंड में बहुमत की सरकार है. सरकार के मुखिया को इसका गुमान भी है. अक्सर कहते हैं कि हमने हर क्षेत्र में बहुत काम किया. झारखंड में सबका साथ और सबका विकास हो रहा है. इसे परखने के लिए न्यूज विंग ने “घोषणा करके भूल गयी सरकार” नाम से एक सीरीज शुरु की है. आज हम सरकार के तीन सालों के कार्यकाल के बाद 15 जुलाई 2017 को की गयी घोषणाओं और लिये गये फैसलों की बात करेंगे.

Trade Friends

 

15 जुलाई 2015 के दिन मीडिया में एक खबर आयी थी. जिसमें कहा गया था कि रातू के झिरी में मेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट लगेगा. इसका डीपीआर तैयार कर लिया गया है. खबर में यह भी उल्लेख था कि झारखंड के सभी जिलों और मेडिकल कॉलोजों में 25 रेडियोलॉजी सेंटर बनाया जायेगा. जिसका संचालन मणिपाल ग्रुप करेगा और बदले में ग्रुप सरकार को 32 लाख का राजस्व देगा. तत्कालीन मुख्य सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग की स्टेयरिंग कमेटी ने इसपर अपनी सहमती भी दे दी थी. कैबिनेट से यह योजना पहले ही स्वीकृत हो चुकी थी. यह भी कहा गया था कि पीपीपी मोड पर संचालित इन सेंटरों पर बीपीएल मरीजों की जांच पूरी तरह से निशुल्क होगा. जबकि एपीएल वालों को इसकी सुविधा सीजीएचएस दर पर दी जायेगी.

इसे भी पढ़ें- सरकार ने जीएम लैंड की रसीद काटने का दिया आदेश

तत्कालीन मुख्य सचिव राजीव गौबा ने मेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट का डीपीआर बनाने का निर्देश भी जारी कर दिया था. इसके अलावा गौबा ने हाईकोर्ट के मॉनिटरिंग के मद्देनजर राज्यभर के नर्सिंग होम, रेडियोलॉजी सेंटर के अलावा मल्टी स्पेशियलिटी अस्पतालों को मेडिकल वेस्ट के निपटारे के उपाय करने को कहा था. गौबा ने तो उस दौरान जमशेदपुर के टाटा मेन हॉस्पिटल और धनबाद के बीसीसीएल को निर्देश दिया था कि पूरे जिले के बायो मेडिकल वेस्ट का ट्रीटमेंट यही करें. लेकिन इस निर्देश के तीन साल बीत जाने के बाद भी आजतक कुछ नहीं हुआ.

Related Posts

JharkhandElection : 25 प्रतिशत केन्द्रों की वेब कास्टिंग का लक्ष्य, कम मतदान वाले केंद्रों पर फोकस

उप निर्वाचन आयुक्त ने अधिकारियों संग की बैठक, चुनाव के लिए दिये निर्देश

WH MART 1
इसे भी पढ़ें- जयंत जी! पूर्व विधायक विनोद सिंह से बहस करेंगे क्या?

15 जुलाई 2017 को राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड मेरा हुनर ऐप लांच किया था. गुगल प्ले स्टोर में इस ऐप को डाउनलोड करने वालों की संख्या मात्र पांच हजार है. सिर्फ 98 लोगों ने इस पर कमेंट किया है. कमेंट करने वालों की टिप्पणियों से यह जाहिर होता है कि यह ऐप किसी भी बेरोजगार के लिए लाभदायक नहीं है. कई लोगों ने इस पर गंभीर टिप्पणियां की है. सरकार को इसे ठीक करनी चाहिए. हालांकि अब सरकार का सिस्टम इस ऐप की चर्चा भी नहीं करता.

इसे भी पढ़ें- कोयला घोटाला: ED ने जायसवाल निको ​ग्रुप की 101 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की

इसी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा था कि जल्द ही राज्य में 50 हजार पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया शुरु होगी. नियुक्ति प्रक्रिया की स्थिति क्या है, यह किसी से छिपी नहीं है. हमने इस सीरिज के पहले की कड़ी में इस पर चर्चा की थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like