GiridihJharkhand

#Giridih:  विधायक महेन्द्र सिंह हत्याकांड  समेत 15 नक्सली कांडों में फरार माओवादी गिरफ्तार

  • होम गार्ड कैंप में हमला कर जवानों की हत्या और राइफल लूट में भी है आरोपी
  • एरिया कमांडर नवीन मांझी के दस्ते का रह चुका था सक्रिय सदस्य
  • पीरटांड थाना के नक्सली कांडों पर निकला था गिरफ्तारी वांरट

Giridih: गिरिडीह पुलिस और 154वीं बटालियन मधुबन सीआरपीएफ ने डुमरी के फरार हार्डकोर माओवादी नबी मियां उर्फ शमेशेर मियां उर्फ मास्टर को गिरफ्तार कर रविवार को जेल भेज दिया.

गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने माओवादी नबी मियां को डुमरी के मंझलाडीह गांव मोड़ के समीप खदेड़ कर दबोचा जबकि नबी मियां सुरक्षा बल के जवानों को देखकर एक बार फिर भागने का प्रयास किया. लेकिन जवानों ने गांव के मोड़ को घेराबंदी कर नबी को दबोचा.

पुलिस के हत्थे चढ़े माओवादी के पास से कोई हथियार तो नहीं बरामद हुआ लेकिन गिरफ्तारी के वक्त पूछताछ में माओवादी नबी उर्फ मास्टर ने बताया कि वह पारसनाथ पहाड़ जा रहा था.

इसे भी पढ़ें : NewsWing Impact: फंसे छात्रों की मदद के लिए कोटा से आ रही दरख्वास्त, जिला कलेक्टर ने जारी किया ऑनलाइन फॉर्म

185 राइफलें लूटी थीं

बगोदर विधायक महेन्द्र सिंह हत्याकांड के अलावे गौशाला मेला के दौरान पचंबा होमगार्ड कैंप में हमला कर 185 राइफल लूटने और कैदी वाहन ब्रेक की घटना को नबी मियां ने नवीन मांझी के इशारे पर अंजाम दिया था.

वैसे नबी मियां के खिलाफ जिले के सरिया, बिरनी, मुफ्फसिल, डुमरी समेत कई थानों में 15 नक्सली केस दर्ज हैं. पुलिस ने नबी उर्फ मास्टर को शनिवार की देर रात मंझलाडीह गांव के मोड़ से दबोचा है. नबी डुमरी के बरगंडा गांव का रहने वाला है.

पीरटांड के एरिया कमांडर और इनामी माओवादी नवीन मांझी के इशारे पर नक्सली कांडों को अंजाम देने में माहिर होने के कारण नवीन मांझी दस्ते के सदस्य नबी को संगठन में मास्टर कहकर बुलाते थे.

इसे भी पढ़ें : #CoronaUpdates: 24 घंटे में संक्रमण के 1334 नये केस, 27 की मौत – स्वास्थ्य मंत्रालय

डुमरी के ग्रामीण क्षेत्रों में जबरदस्त दहशत थी

पुलिस की मानें तो नबी की दहशत पीरटांड के साथ डुमरी के ग्रामीण क्षेत्रों में जबरदस्त थी. इधर नबी के हत्थे चढ़ने से पुलिस ने राहत की सांस ली है क्योंकि नबी मियां ने पूछताछ में कई राज उगले हैं.

इसमें पीरटांड और डुमरी क्षेत्र में चल रहे विकास योजनाओं में लेवी देने वाले कुछ ठेकेदारों के नाम का खुलासा करने की बात सामने आयी है जिसकी जांच में पुलिस जुटी हुई है.

डुमरी के इस हार्डकोर माओवादी नबी मियां के खिलाफ आर्म्स एक्ट और 13 यूपीए एक्ट के दर्जन भर से अधिक केस दर्ज है.

कई बड़े कांडों में वांछित था

लेकिन बड़े नक्सली कांडों में बगोदर के खंभरा गांव में पूर्व विधायक महेन्द्र सिंह की हत्या के साथ जेल कैदी वाहन में हमला कर हार्डकोर माओवादियों को छुड़ाने समेत कुछ कैदियों की हत्या, पचंबा के गौशाला मेले के दौरान होम गार्ड कैंप में हमला कर राइफल लूटने के साथ होमगार्ड जवानों की हत्या समेत मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के पपरवाटांड में नवनिर्मित पुलिस लाईन को विस्फोट कर उड़ाने की घटना को नबी मियां ने ही चिराग दा, नवीन मांझी के साथ अंजाम दिया था.

नबी मियां साल 2014 के पहले नवीन मांझी के दस्ते का सक्रिय सदस्य बताया जा रहा है. 2014 में ही डुमरी थाना पुलिस ने इसे गिरफ्तार कर जेल भेजा था.

इसके बाद कोर्ट से बेल मिलने के बाद यह गांव में छिपकर रह रहा था. लेकिन पीरटांड थाना के कई और नक्सली कांडो में इसके खिलाफ कोर्ट से वांरट जारी था. लिहाजा, पुलिस इसे दुबारा पूछताछ के लिए रिमांड पर लेगी.

इसे भी पढ़ें : #COVID-19 हेल्पलाइन में दर्ज हुए 29,931 कॉल, 9,06,623 मजदूर फंसे हैं दूसरे राज्यों में

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: