न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व नौसेना प्रमुख ने पीएम मोदी के बयान को गलत बताया, कहा- आईएनएस विराट पर सरकारी काम से गये थे राजीव गांधी

नौ सेना के पूर्व ऐडमिरल एल रामदास ने दिल्ली के रामलीला मैदान में बुधवार को एक जनसभा में  पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर लगाये गये आरोपों को नकारा है.

270

Mumbai :  नौ सेना के पूर्व ऐडमिरल एल रामदास ने दिल्ली के रामलीला मैदान में बुधवार को एक जनसभा में  पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर लगाये गये आरोपों को नकारा है.  बता दें कि पीएम मोदी का आरोप था कि राजीव गांधी ने प्रधानमंत्री रहते हुए विमानवाहक पोत आईएनएस  विराट का इस्तेमाल एक द्वीप पर परिवार के साथ छुट्टी मनाने के लिए किया था. पीएम मोदी ने दावा किया था कि इसमें इटली से आये उनके रिश्तेदार भी शामिल हुए थे और आईएनएस विराट का इस्तेमाल टैक्सी की तरह किया गया था.  पीएम मोदी के इस बयान को पूर्व ऐडमिरल एल रामदास ने जुमला करार दिया है.

पूर्व नौसेना प्रमुख एल रामदास ने पीएम मोदी के इस बयान को जुमला बताते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी  INS विराट  पर सरकारी काम से गये थे. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी आईएनएस  विराट पर राष्ट्रीय खेल पुरस्कार वितरण में गये थे. उन्होंने कहा कि आरोप एकदम झूठा है. प्रधानमंत्री का वह सरकारी दौरा था. हम इस तरह के आरोप से व्यथित हैं. सेना किसी के निजी इस्तेमाल के लिए नहीं है.

पीएम मोदी के इन दावों को नौसेना के पूर्व प्रमुख समेत चार पूर्व अधिकारियों ने भी खारिज किया है.  एडमिरल रामदास ने साफ किया है कि उस वक्त राजीव गांधी एक आधिकारिक दौरे पर थे और उनके साथ कोई दोस्त या विदेशी मौजूद नहीं था. वाइस एडमिरल (सेवानिवृत) और आईएनएस विराट के तत्कालीन कमांडिंग ऑफिसर विनोद पसरीचा ने कहा है कि राजीव गांधी उस दौरान एक आधिकारिक दौर पर थे और कोई पिकनिक नहीं मना रहे थे.

इसे भी पढ़ेंः  बालाकोट एयर स्ट्राइक में 170 आतंकियों के मारे जाने की खबर देने वाली पत्रकार मरीनो की वेबसाइट हैक करने का प्रयास

राजीव गांधी के साथ उनके ससुराल के लोग भी थे

पीएम मोदी ने कहा था, आईएनएस विराट का इस्तेमाल एक निजी टैक्सी की तरह करके राजीव गांधी ने इसका अपमान किया गया. यह तब हुआ जब राजीव गांधी एवं उनका परिवार 10 दिनों की छुट्टी पर गया हुआ था.  आईएनएस विराट को हमारी समुद्री सीमा की रक्षा के लिए तैनात किया गया था, किन्तु इसका मार्ग बदल कर गांधी परिवार को लेने के लिए भेजा गया जो अवकाश मना रहा था. पीएम ने यह भी दावा किया था कि गांधी परिवार को लेने के बाद आईएनएस विराट द्वीप पर 10 दिनों तक खड़ा रहा. पीएम ने सवाल किया, राजीव गांधी के साथ उनके ससुराल के लोग भी थे जो इटली से आये थे. सवाल यह है कि क्या विदेशियों को एक युद्धपोत पर ले जाकर देश की सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया गया?

Related Posts

असहमति के साथ केरल गवर्नर ने CAA के खिलाफ पढ़ा प्रस्ताव, सदन में UDF विधायकों ने रोका राज्यपाल का रास्ता

यूडीएफ विधायकों ने केरल विधानसभा में राज्यपाल का रास्ता रोका और नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ वापस जाओ के नारे लगाए तथा बैनर दिखाये

Mayfair 2-1-2020

साथ ही उन्होंने कहा, क्या यह कभी कल्पना की जा सकती है कि भारतीय सशस्त्र सेनाओं के प्रमुख युद्धपोत का इस्तेमाल निजी अवकाश के लिए एक टैक्सी की तरह किया जाये?’ बता दें कि विमान वाहक आईएनएस विराट को भारतीय नौसेना में 1987 में सेवा में लिया गया था. लगभग 30 वर्ष तक सेवा में रहने के बाद 2016 में यह सेवा से अलग हुआ.

इसे भी पढ़ेंः मोदी की आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य ने कहा, भारत की अर्थव्यवस्था गहरे संकट में फंसने जा रही है

Sport House

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like