NationalWorld

बालाकोट एयर स्ट्राइक में 170 आतंकियों के मारे जाने की खबर देने वाली पत्रकार मरीनो की वेबसाइट हैक करने का प्रयास

Rome : पाकिस्‍तान के बालाकोट में इंडि‍यन एयर फोर्स द्वारा की गयी  कार्रवाई में 170 आतंकियों के मारे जाने का दावा करने वाली इतालवी पत्रकार फ्रांसेस्का मरीनो की वेबसाइट www.stringerasia.it हैक करने का प्रयास किया गया है.  पत्रकार फ्रांसेस्का ने  ट्वीट कर यह जानकारी दी है.  फ्रांसेस्का ने बताया कि वेबसाइट हैक करने के प्रयास के बारे में पुलिस को बता दि‍या गया है.  पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायु सेना द्वारा की गयी  एयर स्ट्राइक में मारे गये आतंकवादियों की संख्या को लेकर देश में राजनीतिक बहस चल रही है.

इसी बीच फ्रांसेस्का ने  दावा किया  कि भारतीय वायुसेना की कार्रवाई में जैश के 130 से 170 आतंकी मारे गये थे.   विदेशी पत्रकार  फ्रांसेस्का मरीनो ने दावा किया कि भारतीय वायुसेना की कार्रवाई में बड़ी संख्या में आतंकी मारे गये.  फ्रांसेस्का मरीनो  के अनुसार  26 फरवरी की सुबह लगभग 3:30 बजे जब भारतीय वायुसेना ने आतंकी शिविरों को निशाना बनाया था. हमले के  बाद पाकिस्तानी आर्मी की एक टुकड़ी छह बजे के आसपास वहां पहुंची.

इसे भी पढ़ेंः तेज बहादुर यादव वाराणसी से नहीं लड़ सकेंगे चुनाव, SC ने याचिका खारिज कर दी
Catalyst IAS
ram janam hospital

सेना ने घायलों को हरकत-ए-मुजाहिदीन के कैंप में भेजा

The Royal’s
Sanjeevani

यह टुकड़ी 20 किलोमीटर दूर अपने कैंप से  यहां भेजी गयी थी.  रिपोर्ट के अनुसार शिंकारी में पाकिस्तानी सेना का आर्मी बेस है. यहां जूनियर लीडर एकाडमी भी है.  सेना ने घायलों को हरकत-ए-मुजाहिदीन के कैंप में भेजा, जहां आर्मी के डॉक्टरों ने उनका इलाज किया.  पत्रकार फ्रांसेस्का मरीनो  ने दावा किया कि एयर स्ट्राइक में 130 से 170 आतंकी मारे गये और 20 की इलाज के दौरान मौत हो गयी.  45 घायलों का इलाज अब भी HuM के कैंप में चल रहा है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाक आर्मी ने घायलों को कैंप से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी है.  एयर स्ट्राइक में मारे गये आतंकियों में 11 ट्रेनर थे.  उनमें से कई बम बनाने का काम करते थे और अन्य को हथियार चलाने के प्रशिक्षण दिया जाता था.  रिपोर्ट के अनुसार  ट्रेनर अफगानिस्तान से आये थे. पत्रकार ने कहा कि  पाकिस्तान सरकार को जब यह पता चला तो उसने इस खबर को मीडिया में जाने से रोक लिया.  हालांकि जैश के लोगों ने मारे गये आतंकियों के परिवार को आर्थिक मदद दी. वर्तमान समय में  पाकिस्तानी आर्मी पर  जैश का कंट्रोल है.  लोकल पुलिस को भी बमबारी वाली जगह पर जाने की इजाजत नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः दोहरी नागरिकता मामले में राहुल को राहतः सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

 फ्रांसेस्का मरीनो आतंकी हाफिज सईद का इं‍टरव्‍़यू  लिया था

इतालवी पत्रकार फ्रांसेस्का मरीनो  ने 2010 में जमात-उद-दावा के चीफ आतंकी हाफिज सईद का इं‍टरव्‍़यू  लिया था.  इसके बाद वह चर्चा में आ गयी.  इस क्रम में मरीनो ने एक  किताब (Apocalypse Pakistan – Anatomy of the most dangerous country in the world) लिखकर बताया कि पाकिस्‍तान खतरनाक आतंकियों को पनाह दे रहा है.  इस  किताब के आने के बाद पाकिस्‍तान ने उन पर प्रतिबंध लगा दिया.  मरीनो को  यह जानकारी नहीं थी.  जब वह कराची पहुंची तो उन्‍हें खुफिया एजेंसी ने हिरासत में ले लिया.  बाद में फ्रांसेस्का मरीनो  को पाकिस्‍तान छोड़ने को कहा गया.

इसे भी पढ़ेंः मोदी की आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य ने कहा, भारत की अर्थव्यवस्था गहरे संकट में फंसने जा रही है

Related Articles

Back to top button