DhanbadJharkhandLead NewsRanchi

पूर्व मंत्री ओपी लाल का निधन

Ranchi: झारखंड कांग्रेस के नेता और बाघमारा विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक ओपी लाल का निधन हो गया है. उन्होंने आज शाम आठ बजे रिम्स में अंतिम सांस ली. तबीयत बिगड़ने के कारण उन्हें हाल ही में रिम्स में भर्ती कराया गया था. लाल एकीकृत बिहार सरकार में मंत्री भी रहे थे. उनका अंतिम संस्कार सोमवार को कतरास में होगा.

ओपी लाल 1980, 85 और 95 में बाघमारा विधानसभा क्षेत्र से लगातार विधायक बने थे. धनबाद कोयलांचल की राजनीति में उनकी गिनती कद्दावर नेताओं में होती थी. इनके निधन पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन,  झारखंड प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह, अध्यक्ष रामेश्वर उरांव सहित प्रदेश के तमाम कांग्रेसी नेताओं ने गहरा शोक व्यक्त किया है.

ओपी लाल अपने पीछे चार पुत्रों एक पुत्री व पत्नी का भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं. कोरोना संक्रमित होने पर वो रिम्स में इलाजरत थे, हालांकि निधन से पूर्व वो निगेटिव हो चुके थे. उनके निधन पर मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने दुःख व्यक्त कर दिवंगत आत्मा की शांति एवं शोक संतप्त परिजनों को दुःख सहने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है.

Sanjeevani

झारखण्ड प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा कि पूर्व मंत्री ओ पी लाल के निधन के समाचार प्राप्त होने पर उन्हें गहरा दुख हुआ है. उनकी सेवा और कांग्रेस के प्रति उनकी प्रतिबद्धता सदैव याद रहेगी. उनके परिवार के सदस्यों के प्रति उनकी गहरी संवेदना है. वे परमात्मा से दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हैं.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उराव ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि ओ पी लाल जी के निधन से कांग्रेस पार्टी ही नही झारखण्ड राज्य को अपूरणीय क्षति हुई है. ओ पी लाल साहब ने उम्र के अंतिम पड़ाव में भी पार्टी संगठन के कार्यक्रम व विस्तार को लेकर प्रतिबद्धता की अनूठी मिसाल कायम की. आज पार्टी ने एक जन नेता खो दिया. उन्होंने लगातार तीन बार निर्वाचित जनप्रतिनिधि के रूप में बाघमारा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया, यह उनके लोकप्रियता को दर्शाता है. वो मज़दूरों के बीच भी काफी लोकप्रिय थे. लगातार मजदूर हितों की वे आवाज़ उठाते रहे.

कांग्रेस पार्टी के नेता विधायकदल सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने भी ओ पी लाल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि कांग्रेस परिवार ने अभिभावक खो दिया. उनका निधन मजदूर जगत के लिए भी अपूरणीय क्षति है. इस दुख की घड़ी में उनकी पूरी संवेदना परिजनों शुभचिंतकों के साथ है.

इसे भी पढ़ें – दिसंबर से शुरू होगी धान खरीदारी, इस बार 20 प्रतिशत अधिक होंगे धान खरीदारी केंद्र

Related Articles

Back to top button