Dhanbad

धनबादः नहीं मिला दहेज तो फोन पर ही पति ने कह दियाः तलाक-तलाक- तलाक, थाना पहुंची पीड़िता

Dhanbad: देश में तीन तलाक के खिलाफ कानून बनने के बाद भी ये सिलसिला थम नहीं रहा. ताजा मामला धनबाद का है, जहां दहेज की मांग पूरी नहीं कर पाने पर एक शख्स ने अपनी पत्नी को फोन पर ही तीन तलाक दे दिया.

खबर है कि पीड़िता का पति उसे काफी दिनों से दहेज के लिए प्रताड़ित कर रहा था. दहेज नहीं मिलने के कारण उसने महिला को मायके भेज दिया. और फिर भी बात नहीं बनी तो उसने फोन पर ही पत्नी को तलाक-तलाक- तलाक कह डाला.

इसे भी पढ़ेंः#NewTrafficRule : भारी जुर्माने पर गडकरी ने कहा, एक्सीडेंट में डेढ़ लाख मौतें हो जाती हैं,  क्या इनकी जान नहीं बचानी चाहिए?

छह साल पहले हुआ था निकाह

मामला कतरास के बाजार टंडा बस्ती का है. जहां गुरुवार को बाजार टंडा की रहने वाली जास्मीन फिरदौस मामले की शिकायत करने कतरास थाना पहुंची.

उसने बताया कि उसका निकाह 2013 में अनवारूल हक से हुआ था. अनवारुल बिहार के वैशाली जिले के महुआ थाना क्षेत्र के चंकोती गांव का रहने वाला है.

शादी के कुछ दिनों बाद तक सब कुछ ठीक रहा. लेकिन इसके बाद पति और ससुराल वाले बराबर दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे.

इसे भी पढ़ेंःमां-बेटी की हत्या कर शव को सोक-पिट में डालने वाला आरोपी अब भी पुलिस की गिरफ्त से दूर

दहेज के लिए तीन तलाक

पीड़िता का कहना है कि लगातार दहेज के तौर पर रुपये की मांग की जाने लगी थी. इसी दौरान 2014 उसका पहला बच्चा पैदा हुआ. इसके बाद भी इन लोगों का रवैया नहीं बदला. फिर 2018 महिला को दूसरा बच्चा हुआ.

इसके बाद तो स्थिति और बदतर हो गयी. दहेज नहीं मिलने के कारण पति ने कतरास छोड़ गया. दो सितंबर को महिला ने अपने पति को फोन किया और यहां से ले जाने की बात कही तो उसने फोन पर तीन तलाक दे दिया.

तीन तलाक से आहत महिला ने बताया तलाक के कारण मेरा और मेरे बच्चों का जीवन काफी कष्टमय हो गया है. पति को दुधमुंहे बच्चों का भी खयाल नहीं आया. उसने पुलिस-प्रशासन से इंसाफ की गुहार लगायी है.

इसे भी पढ़ेंःचिदंबरम को SC से बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, ED कर सकती है गिरफ्तार

Advt

Related Articles

Back to top button