JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

कैबिनेट में बिजली का मुद्दा उठा, 21 प्रस्ताव की मंजूरी, डीवीसी-एनटीपीसी को 1690 करोड़ की टैरिफ सब्सिडी, होल्डिंग टैक्स में वृद्धि

Ranchi : मंत्रिपरिषद की बैठक में कुल 21 प्रस्तावों को मंजूरी दी गयी. पंचायत चुनाव के कारण लगी आचार संहिता के कारण जानकारी आधिकारिक रूप से नहीं दी गयी. कैबिनेट ने डीवीसी, एनटीपीसी को 1690 करोड़ की टैरिफ सब्सिडी देने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है. इस राशि से बकाया भुगतान किया जायेगा. कैबिनेट में होल्डिंग टैक्स में बढ़ोतरी के प्रस्ताव की स्वीकृति दी गयी. नगरपालिका संशोधन विधेयक 2021 की स्वीकृति दी गयी. इसके तहत रांची सहित अन्य सभी शहरी नगर निकायों में 10 से 15% होल्डिंग टैक्स बढ़ोतरी का प्रस्ताव है. अब जमीन के सर्किल रेट के हिसाब से होल्डिंग तय होगा.

कैबिनेट में मरांग गोमके छात्रवृत्ति योजना संशोधन को भी मंजूरी दी गयी. कैबिनेट में एचईसी में 70 विधायकों के आवास बनाये जाने के प्रस्ताव पर मंजूरी अभी नहीं मिली. इस पर बाद में विचार का निर्णय लिया गया.

इसे भी पढ़ें:हेमंत सरकार को कांग्रेस का FULL SUPPORT, सीएम पर रघुवर दास के आरोपों पर पार्टी को नहीं ऐतबार

Sanjeevani

मंत्रिपरिषद की बैठक में बिजली के मुद्दे पर भी गंभीर चर्चा हुई. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता, परिवहन मंत्री चंपई सोरेन सहित अधिकांश मंत्रियों ने बिजली की आंख मिचोली से हो रहे परेशान लोगों को कैसे निजात दिलायी जाये इस पर कैबिनेट में चर्चा की. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी अधिकारियों को निर्देश दिया कि अभी हम बिजली की समस्या के निदान के लिए आवश्यक कदम उठायें.

पत्रकारों से बात करते हुए मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा कि महंगाई, पेट्रोल-डीजल यह भी एक गंभीर मुद्दा है. इस पर भी चर्चा होनी चाहिए. हमारी सरकार यह प्रयास कर रही है कि बिजली और पानी जैसी जरूरी समस्याओं का निदान किया जाये.

इसे भी पढ़ें:राहुल गांधी के मामले में 5 मई को होगी सुनवाई

भोक्ता को एसटी में शामिल किये जाने का उठा मामला

कैबिनेट मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कैबिनेट में भोक्ता सहित 10 जातियों को एससी से एसटी में शामिल किये जाने पर कैबिनेट में चर्चा की. कहा कि केंद्र सरकार के इस निर्णय से चतरा जिला में रहनेवाले कई जनप्रतिनिधियों को चुनाव लड़ने से वंचित कर दिया जा रहा है. अभी तक तीन मुखिया और दो जिला परिषद के पदों के लिए एससी से नामांकन किया था जिसे निर्वाचन आयोग ने खारिज कर दिया और उनसे एसटी का प्रमाण पत्र देने को कहा.

ऐसे में भी चुनाव लड़ने से वंचित रह जा रहे हैं. कैबिनेट में इस मसले को उठाया गया है और उचित पहल करने का अनुरोध किया गया.

इसे भी पढ़ें:पंजाब पुलिस के एक्शन पर कवि कुमार विश्वास ने खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा

Related Articles

Back to top button