न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छात्रवृत्ति नहीं मिलने से नाराज छात्रों का स्कूल में हंगामा, तालाबंदी की चेतावनी

105

Pakur: सदर प्रखंड के इलामी अपग्रेड प्लस टू स्कूल के छात्रों ने दो साल से छात्रवृत्ति की राशि नहीं मिलने को लेकर स्कूल में जम कर हंगामा किया. नाराज छात्र पहले तो स्कूल में तालाबंदी करने पर उतर आये और शिक्षकों को स्कूल में प्रवेश नहीं करने देने का भी प्रयास किया. हालांकि शिक्षक प्रमोद कुमार के काफी समझाने पर छात्र कुछ देर के लिए शांत हुए, लेकिन प्रधानाध्यापक नारायण चंद्र घोष के स्कूल पहुंचते ही फिर से छात्रों ने हंगामा करना शुरू कर दिया.

इसे भी पढ़ें- रांची में जमीन को लेकर हो सकता है गैंगवार, सीआईडी को जमीन कारोबार से जुड़े अपराधियों की जानकारी…

शिक्षकों के समझाने पर शांत हुए छात्र

hosp3

छात्रों का आरोप है कि छात्रवृत्ति दिलाने के लिए प्रधानाध्यापक ने जिम्मेवारी से काम नहीं किया. करीब दो घंटे तक छात्रों का हंगामा जारी रहा और स्कूल के शिक्षकगण छात्रों को समझाते रहे. काफी समझाने और आश्वासन के बाद ही छात्र शांत हुए. इस दौरान मासीउर रहमान, उमर फारूक, अमीनुल शेख, अफिकुल आलम, अब्दुस सलाम आदि छात्रों ने बताया कि इंटर के 180 छात्र-छात्राओं को पिछले 2 साल से छात्रवृत्ति की राशि नहीं मिली है. प्रधानाध्यापक को कई बार छात्रवृत्ति दिलाने के लिए पहल करने का अनुरोध किया गया है. लेकिन उन्होंने कोई पहल नहीं की. अगर प्रधानाध्यापक पहल करते तो अब तक छात्रवृत्ति की राशि मिल गई होती. छात्रों का तर्क था कि एक ही साथ प्लस टू की स्वीकृति पानेवाली अंजना अपग्रेड हाई स्कूल के छात्रों को छात्रवृत्ति की राशि मिल गई है और हमें दो साल से क्यों नहीं मिली.

इसके लिए प्रधानाध्यापक को छात्रों ने जिम्मेवार ठहराया. छात्रों ने इंटर की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन भी शुरू नहीं कराने की शिकायत की. ऑनलाइन नहीं होने से हो रही परेशानीइधर प्रधानाध्यापक नारायण चंद्र घोष ने कहा कि साल 2016 को प्लस टू की स्वीकृति मिलने के बाद अब तक स्कूल को ऑनलाइन नहीं किया गया है. जिससे अढ़चनें आ रही हैं. छात्रों को छात्रवृत्ति दिलाने के लिए आगे मेरा भरपूर प्रयास रहेगा. प्रधानाध्यापक ने रजिस्ट्रेशन का काम गुरुवार से ही शुरू करने की बात कही.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: