न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची में जमीन को लेकर हो सकता है गैंगवार, सीआईडी को जमीन कारोबार से जुड़े अपराधियों की जानकारी जुटाने का आदेश

223

Ranchi : रांची में जमीन को लेकर गैंगवार हो सकता है. स्पेशल ब्रांच के अनुसार राजधानी की कुछ कीमती जमीन की डील को लेकर शहर के कई बड़े अपराधी अलग-अलग जमीन कारोबारियों के पक्ष में काम कर रहे हैं. स्पेशल ब्रांच की सूचना के बाद पुलिस मुख्यालय ने सीआईडी को जमीन कारोबारियों और उनके संरक्षण के लिए काम करनेवाले कुख्यात अपराधियों की लिस्ट बनाने का जिम्मा सौंपा है.

जेल में रहते हुए जमीन पर कब्जा दिलाने का कर रहे हैं काम

राजधानी के कुख्यात अपराधी जेल में रहते हुए जमीन पर कब्जा दिलाने का काम कर रहे हैं. इसके लिए वे अपने गुर्गे का इस्तेमाल करते हैं. इसके बदले उन्हें मोटी रकम मिल रही है. राजधानी के कुख्यात संदीप थापा, बिट्टू मिश्रा, सोनू इमरोज, सुरेंद्र कच्छप, कुदरत अंसारी, सागर पाठक सहित कई अपराधी जेल में रहकर राजधानी के अलग-अलग हिस्सों में जमीन पर कब्जा दिलाने का काम कर रहे हैं. इस धंधे में अपराधी खौफ बनाकर जमीन पर कब्जा दिलाते हैं और इसके बदले जमीन कारोबारियों से मोटे पैसे वसूलते हैं. इस धंधे में अपराधियों की तनातनी से सरगर्मी बढ़ी है. वहीं, कई जगहों पर गैंगवार जैसी स्थिति बनी हुई है. जमीन पर कब्जा के चक्कर में कई हत्याएं भी हो चुकी हैं.

इसे भी पढ़ें- ADG डुंगडुंग उतरे SP महथा के बचाव में, DGP को पत्र लिख कहा वायरल सीडी से पुलिस की हो रही बदनामी,…

जमीन कारोबार में उतर रहे हैं अपराधी

अपराधी जमीन कारोबार में उतर रहे हैं. अपराधियों के जमीन के धंधे में उतरने के बाद से जमीन विवाद के मामले बढ़ रहे हैं. इसके कारण राजधानी में हाल के दिनों में जमीन विवाद में जमीन कारोबारी की हत्या, फायरिंग सहित अन्य घटनाएं बढ़ी हैं. ज्यादातर हत्याएं जमीन विवाद के कारण ही हो रही हैं.

कई अपराधियों के जमीन कारोबार में उतरने की हो चुकी है पुष्टि

शहर में कई ऐसे अपराधी हैं, जिनके जमीन कारोबार में उतरने की पुष्टि पुलिस कर चुकी है-

  1. जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के लटमा का सुरेंद्र कच्छप आर्म्स एक्ट के केस में जेल जा चुका है. उसके खिलाफ पुलिस पूर्व में न्यायालय में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है. सिटी एसपी अमन कुमार ने जब पांच और छह फरवरी 2018 को उसकी गतिविधियों का सत्यापन कराया, तब उसके जमीन के कारोबार से जुड़ने की जानकारी मिली.
  2. तुपुदाना ओपी क्षेत्र के सिलादोन का कुदरत अंसारी पूर्व में कोतवाली थाना से जेल जा चुका है. सिटी एसपी ने उसकी गतिविधियों का सत्यापन 14 जनवरी को कराया था. सत्यापन के दौरान उसके जमीन के कारोबार से जुड़ने की जानकारी मिली.
  3. पंडरा ओपी क्षेत्र के फ्रेंड्स कॉलोनी निवासी सागर पाठक पंडरा ओपी से आर्म्स एक्ट के केस में जेल जा चुका है. सिटी एसपी ने उसकी गतिविधि का सत्यापन 13 जनवरी को कराया था. सत्यापन के क्रम में उसके भी जमीन कारोबार से जुड़े होने का पता चला.

इसे भी पढ़ें- आखिर क्यों नशे का इंजेक्शन लगाकर युवक को 6 सालों से बना रखा था बंधक !

सीआईडी एडीजी ने दिया जानकारी जुटाने का आदेश

जिम्मेदारी मिलने के बाद सीआईडी एडीजी ने अधिकारियों को आदेश दिया है कि जमीन माफियाओं की क्या गतिविधि है, उनके साथ कौन-कौन लोग जुड़े हैं, किस-किस आपराधिक गिरोह की संलिप्तता सामने आयी है, यह जानकारी जुटायें. जमीन कारोबार को लेकर विशेष कार्रवाई का आदेश भी एडीजी सीआईडी ने दिया है.

राज्य भर के 39 गिरोहों की सूची तैयार की है सीआईडी ने

सीआईडी ने राज्य के 24 जिलों में सक्रिय 39 गिरोहों की सूची तैयार की है. हालांकि, 39 गिरोह की सूची में कई नाम अभी भी शामिल नहीं हैं. समीक्षा बैठक के दौरान यह आदेश दिया गया है कि गिरोह के अपराधियों के बारे में पूरी जानकारी जुटायें. गिरोह का कौन सा सदस्य जेल में है, कौन बाहर है, अगर कोई अपराधी बाहर है, तो उसकी गतिविधियां क्या हैं, यह जानकारी सीआईडी जुटायेगी. आर्थिक अपराध के मामलों में भी जरूरी कार्रवाई के निर्देश सीआईडी एडीजी ने दिये हैं.

इसे भी पढ़ें- चतरा: टीपीसी ने शहर में फेंका पर्चा, दहशत में शहरवासी

कार्रवाई नहीं होने से बेखौफ हैं जमीन दलाल

कार्रवाई नहीं होने से जमीन दलाल बेखौफ हैं. राजधानी में हर तरफ जमीन कारोबारियों का आतंक है. नामकुम, ओरमांझी, टाटीसिल्वे, रातू, नगड़ी, कांके, पिठोरिया, हटिया, जगन्नाथपुर, तुपुदाना का इलाका जमीन कारोबारियों की गिरफ्त में है. इन इलाकों में कई बड़े गैंगस्टर और कुख्यात अपराधियों के भी लैंड प्रोजेक्ट चल रहे हैं. जमीन के कारोबार में लगातर खून-खराबा हो रहा है.

हत्या की घटनाओं को रोक नहीं पा रही है पुलिस

पुलिस हत्या की घटनाओं को रोकने में सक्षम नजर नहीं आ रही है और न ही जमीन दलालों की सूची तैयार कर उन पर नकेल कसने को तत्पर दिखाई दे रही है. हत्याओं पर रोक लगाने के लिए 2011 में जमीन दलालों की सूची तैयार कर उनपर नजर रखने की योजना बनी थी, जो सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गयी है. स्थानीय पुलिस पर जमीन दलालों को संरक्षण देने के आरोप भी लगते रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- सुजाता कंपाउंड की दुकान से लूट करने का आरोपी गिरफ्तार, पहले भी हत्या के आरोप में जा चुका है जेल

जमीन को लेकर हाल में हुईं फायरिंग और हत्या की घटनाएं

  • 1 मार्च 2018 : नामकुम थाना क्षेत्र के लोवाडीह निवासी जमीन कारोबारी अंकुश कुमार उर्फ आशीष बड़ाईक पर दुर्गा सोरेन चौक पर फायरिंग.
  • 15 मार्च 2018 : चुटिया थाना क्षेत्र के पावर हाउस चौक निवासी अरुण नाग की जमीन विवाद में गोली मारकर हत्या.
  • 6 मार्च 2018 : लोअर बाजार थाना क्षेत्र के कांटाटोली कुरैशी मुहल्ला में गढ़ा टोली की जमीन विवाद में कुरैशी मुहल्ला निवासी सलाम खान की गोली मारकर हत्या.
  • 3 अप्रैल 2018 : कांके थाना के बुकरू में जमीन पर बाउंड्री कराने के एवज में रंगदारी नहीं देने पर व्यवसायी मनोज कुमार की पत्थर से कूचकर हत्या.
  • 1 फरवरी 2018 : पुंदाग ओपी क्षेत्र के साहू चौक निवासी जमीन कारोबारी काशीनाथ महतो पर जमीन कारोबार के रुपये के विवाद में अशोक नगर गेट नंबर चार के पास फायरिंग.
  • 21 जनवरी 2018 : नगड़ी थाना क्षेत्र के गुटुवा बस्ती में जमीन कारोबारी उमेश गंझू और शमशाद की गोली मारकर हत्या.
  • 22 जनवरी 2018 : रातू थाना क्षेत्र के जमीन कारोबारी सुंडील निवासी शंकर काशी की अपराधियों ने चटकपुर में गोली मारकर हत्या कर दी़.
  • 16 सितंबर 2018 : बीजेपी नेता देवेंद्र सिंह पर दो बाइक सवार अपराधियों ने गोली चलायी थी. गोली चलाने के पीछे जमीन विवाद का मामला सामने आया.
  • 16 सितंबर 2018 : लोअर बाजार थाना क्षेत्र के फतेहउल्लाह रोड में रहनेवाले तबरेज की जमीन विवाद के चलते ही गोली मारकर हत्या कर दी गयी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: