न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

कांग्रेस कार्य समिति की बैठक शनिवार को, राहुल गांधी इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं

  उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रमुख राज बब्बर व ओडिशा प्रदेश कांग्रेस समिति अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेजा.

55

NewDelhi :   लोकसभा चुनाव में करारी हार के कारणों पर मंथन करने के लिए कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी ) शनिवार को बैठक करेगी. सूत्रों का कहना है कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी   इस बैठक में अपने इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं. कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, सीडब्ल्यूसी की बैठक में मुख्य रूप से हार के कारणों पर विचार किया जाएगा. इस बारे में भी चर्चा होगी कि पार्टी को किस तरह से मजबूत किया जा सकता है.

eidbanner

बैठक में राहुल गांधी के अलावा यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और कार्यसमिति के अन्य सदस्य शामिल हो सकते हैं.  बता दें कि इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा. वह 52 सीटों पर सिमट गयी है. 2014 के चुनाव में 44 सीटें जीतने वाली पार्टी को इस बार बेहतर की उम्मीद थी, लेकिन उसकी उम्मीदों पर पानी फिर गया.

इसे भी पढ़ेंः 2014 से ही शाह ने शुरू कर दी थी 2019 की तैयारी : 161 कॉल सेंटर्स, 15,600 कॉलर्स के जरिये 20 करोड़ वोटर्स तक पहुंचे

यूपी कांग्रेस के लिए परिणाम निराशाजनक

उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रमुख राज बब्बर ने लोकसभा चुनाव में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन को देखते हुए पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया है. प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजीव बक्शी ने शुक्रवार को भाषा को बताया कि बब्बर ने राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया है. बक्शी ने बताया कि बब्बर ने लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दिया है.

इससे पहले बब्बर ने ट्वीट किया, यूपी कांग्रेस के लिए परिणाम निराशाजनक हैं. अपनी जिम्मेदारी को सही तरीके से नहीं निभा पाने के लिए खुद को दोषी पाता हूं. नेतृत्व से मिलकर अपनी बात रखूंग. जनता का विश्वास हासिल करने के लिए विजेताओं को बधाई.यूपी की बात करें तो यहां 80 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस सिर्फ एक रायबरेली सीट जीत पायी, जहां से सोनिया गांधी चुनाव लड़ी थीं. फतेहपुर सीकरी से राज बब्बर चुनाव हार गये हैं.

इसे भी पढ़ेंः प्रचंड जीत के बाद मोदी कैबिनेट की बैठक आज, राष्ट्रपति से भी मिलेंगे मोदी

Related Posts

लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण संशोधन विधेयक पेश

विधेयक के कानून बनने पर अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहनेवालों को वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों में निवास कर रहे व्यक्तियों के समान आरक्षण का लाभ मिल सकेगा.

mi banner add

जनता का भरोसा जीतने में कांग्रेस विफल

इसके अलावा ओडिशा में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में हार के मद्देनजर प्रदेश कांग्रेस समिति अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफे की घोषणा की. पटनायक ने मीडिया से कहा, ‘प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मैंने अपना त्यागपत्र कांग्रेस अध्यक्ष को भेज दिया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा, राज्य में कांग्रेस तो हारी ही है, मैं स्वयं भी हार गया. जनता का भरोसा जीतने में कांग्रेस के विफल रहने की बात स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा कि अवसरवादियों की पहचान कर पार्टी को अब राज्य में बेहतर स्तर पर खड़ा करने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है और युवाओं को आकर्षित करने की जरूरत है.

पटनायक ने कहा कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता नरसिंह मिश्र की अगुवाई में एक समिति का गठन किया गया है जो प्रदेश में पार्टी की इस जबरदस्त हार के कारणों का पता लगाएगी. राज्य में हुए लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा है. प्रदेश में पार्टी को लोकसभा की एक सीट पर तथा विधानसभा में केवल नौ सीटों से ही संतोष करना पड़ा है. ओडिशा की 147 सदस्यीय विधानसभा के लिए 2014 में कराए गए चुनाव में पार्टी को 16 सीटें मिली थीं.

इसे भी पढ़ेंः  हिजबुल का पूर्व कमांडर और अलकायदा ग्रुप का मोस्ट वांटेड आतंकी जाकिर मूसा ढेर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: