DhanbadJharkhand

केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के विरोध में सीटू का प्रदर्शन, सरकार के विरोध में लगाये नारे

Dhanbad : केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ सीटू बीसीसीएल एरिया एक के महाप्रबंधक कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाये.

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के कारण मजदूरों की हालत खराब होती जा रही है. उन्होंने कहा कि कोयला मंत्रालय केंद्र सरकार के साथ मिलकर मजदूर विरोधी नीतियां ला रहा है, जिसे किसी भी हाल में स्वीकार नहीं किया जायेगा.

उन्होंने कहा कि जब तक केंद्र सरकार इन मजदूर विरोधी नीतियों को वापस नहीं लेती है, तब तक मजदूरों का आंदोलन जारी रहेगा.

इसे भी पढ़ेंः कौन लोग हैं टुकड़े-टुकड़े गैंग में शामिल, जिसकी खबर गृहमंत्री और उनके मंत्रालय तक को नहीं है

उद्योग का निजीकरण करने से बाज आये सरकार

केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ सीटू मजदूर यूनियन द्वारा 19 जनवरी से 26 जनवरी तक देशव्यापी स्तर पर आंदोलन किया जा रहा है. इसी क्रम में मंगलवार को एरिया वन के महाप्रबंधक कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया गया और अपनी मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की गयी.

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार मजदूर नीतियों को पूर्व की भांति ही लागू करे. कोयला उद्योग का निजीकरण करने से बाज आये अन्यथा हमलोग चरणबद्ध तरीके आंदोलन करने को विवश होंगे.

इसे भी पढ़ेंः ढुल्लू महतो की आय से अधिक संपत्ति मामले में HC ने ED और IT से मांगा जवाब

… तो चरणबद्ध तरीके से जारी रहेगा आंदोलन

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बीसीकेयू के केंद्रीय सचिव जेके झा ने कहा कि सरकार द्वारा एमएमडीआर एक्ट और प्रोवीजन एक्ट में शंसोधन के खिलाफ आंदोलन किया गया है.  इस दौरान उन्होंने कहा कि मैनपावर की कटौती, निजी मजदूरों के वेतन भुगतान में अनियमितता सहित कई मांगों के संबंध में स्थानीय प्रबंधन को मांगपत्र भी सौंपा गया है.

वहीं मजदूर नेताओ ने चेतावनी देते हुए यह भी कहा कि जब तक इन नियमों को केंद्र सरकार द्वारा पूर्व की भांति लागू नहीं किया जायेगा, तो चरणबद्ध आंदोलन इसी तरह जारी रहेगा.

इसे भी पढ़ेंः #CAA_Protest: लखनऊ में शायर मुनव्वर राना की बेटियों समेत 160 महिलाओं पर मुकदमा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button